Tuesday, 13 February 2018

"World Radio Day" -by F.Sheheryar, DG,AIR

When Neil Diamond crooned “reaching out, touching me, touching you” in that iconic song Sweet Caroline, he could as well be singing about radio. Radio, which reaches out across seemingly insurmountable geographical divides, touches countless lives and yet remains in the background. Like a good friend who never pries but steps in on a bad day with alacrity as the world has witnessed again and again when natural disasters strike. When all new fangled media fail in the face of Nature’s fury, radio is that saviour that connects people, connects lives and connects hope.



It was to honour this radio that the United Nations proclaimed 13 February as World Radio Day in 2011, with the vision of celebrating how it helps shape our lives.
To quote from the UNESCO website, “by listening to its audiences and responding to their needs, radio provides the diversity of views and voices needed to address the challenges we all face.”

This is most relevant for the developing societies which are clearly disadvantaged by their lack of access to the latest information technologies. The switch to the global information super highway would give an unfair advantage to rich nations over the poor, feels the Third World which continues to root for radio. Radio broadcasting crosses the barriers of isolation and illiteracy and it is the cheapest electronic medium to broadcast and receive.
Though World Radio Day is only a 6-year-old, radio itself is a Long Playing story with India getting into the groove in 1927 with the setting up of the first station of the Indian Broadcasting Company in Bombay. It is in fact, a ninety-year-old story!
Radio perhaps faces the most impossible challenge in India with its population of 1.25 billion and humongous diversity in ethno-socio-linguistic characteristic, literacy levels, economic disparities, gender inequality, disparity in distribution of resources, rural-urban gulf, digital divide and so on.

The public service radio broadcaster All India Radio (AIR) has risen admirably to this challenge by its steadfast focus on the development of a learning society/a knowledge community, inculcating scientific temper, empowerment of women, amelioration of the underprivileged, spreading the message of planned parenthood, diffusion of agricultural innovation, rural regeneration, skill development to capture benefits of the demographic dividend, preserving and strengthening India’s cultural, linguistic and ethnic diversity and fortifying India’s democratic and secular traditions and values.
Fulsome praise for radio’s development initiatives came from no less than eminent agricultural scientist and Father of the Green Revolution, M S Swaminathan:
“Even those who were excluded from the technological transformation could be included because they heard about new technologies through radio. In fact, I remember in 1967 – 68, many farmers in UP and Bihar would call the new varieties of rice, wheat and other crops as radio varieties because they had heard about them on radio. This is why I would like to pay a tribute to All India Radio which is in some respects the unsung hero of the Green Revolution.”


What does radio mean to the world’s largest middle class society, a fast changing society at that? New radio seems to have created yet another division in and already fragmented milieu – the smart alec go getter minority versus the ordinary folk (spelt losers) majority.
In consonance with the concept of smart cities, what is urgently required are global middle class citizens to inhabit them, to avoid a sheer mismatch; creating an atmosphere of cerebral modernity paired with the best of national values and culture, ensuring inclusivity for all (not just a select smarter few). And that is what underscores the role and significance of the national public broadcaster, All India Radio. Armed with its motto (Bahujana hitaye bahujana sukhaye), pedigree and network, AIR possibly is the only national media institution left which has the wherewithal to address myriad sections of society in an unbiased and sensitive manner.

Before the misdirected disillusioned youth of India reach a stage where they are not able to speak a single legible sentence, before they begin to rebel violently on account of sheer cerebral inactivity, it is only All India Radio that is endowed with the capability to provide linguistic engagement and enrichment to today’s partly intellect deprived youth, a population that numbers dangerously high. A random audio survey done in any city/rural neighbourhood of the country will reveal the abyss of linguistic bankruptcy that our youth are gradually being dragged into. Public speaking is not part of the curriculum in our private schools, let alone the public ones. All India Radio, with its gigantic AM network has the power to pull them back to the mainstream of self development and hence nation building collectively.


Critics may argue that the wheels of this juggernaut inch a tad sluggishly; what they do not realise (or do not want to realise) is that nation building is not just radio ads and jock talk trying to sell one, two or three BHK houses – it is ensuring cultivation and preservation of the human element in HOMES, that too all homes.
Public Service Radio disseminates information in the most democratic manner. It speaks the language of the masses and it reaches the last man. Serving a variety of fare in variable formats – plays, news, talk shows, music, running commentaries, special programmes for special audiences, leaving none out.


Radio rules the imagination. Radio is theatre for the blind. Radio is an intimate story telling medium. Is it any wonder then that the Prime Minister of the world’s largest democracy should choose AIR over others for his intimate heart to heart talk with the citizens? As someone quipped, when it comes to radio, people are all ears! We can’t do better than to quote the Prime Minister himself when he said: “If we touch those questions (questions that touch the heart) we will be able to reach out to the common man.” No wonder, Mann ki Baat became an instant success as it decidedly is packaged with precision and put through on a dissemination network with vast domestic and global reach.
AIR is arguably one of the largest radio networks of the world, with 422 stations throughout the country, serving different segments of the population, including the underdog. You can’t have a more potent instrument than AIR for exchange of ideas between the country’s Prime Minister and his people. Indeed, Mann ki Baat epitomizes all that is best in public service broadcasting.
Radio is a Long Playing song that changes its beat with the times. It is adapting to 21st Century changes and offering new ways to interact and participate. Becoming more and more interactive. This explains why the theme for World Radio Day 2017 is “Radio is You!” – a call for greater participation of audiences and communities in the policy and planning of radio broadcasting. To quote UNESCO again, “Where social media and audience fragmentation can put us in media bubbles of like-minded people, radio is uniquely positioned to bring communities together and foster positive dialogue for change.”

Sunday, 28 January 2018

‘मन की बात’ (40 वीं कड़ी) प्रसारण तिथि: 28.01.2018


मेरे प्यारे देशवासियो, नमस्कार | 2018 की यह पहली ‘मन की बात’ है और दो दिन पूर्व ही हमने गणतन्त्र पर्व को बहुत ही उत्साह के साथ और इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि 10 देशों के मुखिया इस समारोह में उपस्थित रहे | 
मेरे प्यारे देशवासियो, मैं आज श्रीमान प्रकाश त्रिपाठी ने NarendraModiApp पर एक लम्बी चिट्ठी लिखी है और मुझसे बहुत आग्रह किया है कि मैं उनके पत्र में लिखे गए विषयों को स्पर्श करूँ | उन्होंने लिखा है, 1 फरवरी को अन्तरिक्ष में जाने वाली कल्पना चावला की पुण्य तिथि है | कोलंबिया अन्तरिक्षयान दुर्घटना में वो हमें छोड़ कर चली गयीं लेकिन दुनिया भर में लाखों युवाओं को प्रेरणा दे गयी | मैं भाई प्रकाश जी का आभारी हूँ कि उन्होंने अपनी लम्बी चिट्ठी में कल्पना चावला की विदाई से प्रारम्भ किया है | यह सबके लिए दुःख की बात है कि हमने कल्पना चावला जी को इतनी कम उम्र में खो दिया लेकिन उन्होंने अपने जीवन से पूरे विश्व में, ख़ासकर भारत की हज़ारों लड़कियों को, यह संदेश दिया कि नारी-शक्ति के लिए कोई सीमा नहीं है | इच्छा और दृढ़ संकल्प हो, कुछ कर गुजरने का ज़ज्बा हो तो कुछ भी असंभव नहीं है | यह देखकर काफी खुशी होती है कि भारत में आज महिलाएँ  हर क्षेत्र में तेज़ी से आगे बढ़ रही हैं और देश का गौरव बढ़ा रही हैं |
प्राचीन काल से हमारे देश में महिलाओं का सम्मान, उनका समाज में स्थान और उनका योगदान, यह पूरी दुनिया को अचंभित करता आया है | भारतीय विदुषियों की लम्बी परम्परा रही है | वेदों की ऋचाओं को गढ़ने में भारत की बहुत-सी विदुषियों का योगदान रहा है | लोपामुद्रा, गार्गी, मैत्रेयी न जाने कितने ही नाम हैं | आज हम ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ की बात करते हैं लेकिन सदियों पहले हमारे शास्त्रों में,स्कन्द-पुराण में,कहा गया है:-
दशपुत्र, समाकन्या, दशपुत्रान प्रवर्धयन् |
यत् फलं लभतेमर्त्य, तत् लभ्यं  कन्यकैकया ||
अर्थात, एक बेटी दस बेटों के बराबर है | दस बेटों से जितना पुण्य मिलेगा एक बेटी से उतना ही पुण्य मिलेगा | यह हमारे समाज में नारी के महत्व को दर्शाता है | और तभी तो, हमारे समाज में नारी को ‘शक्ति’ का दर्जा दिया गया है | यह नारी शक्ति पूरे देश को, सारे समाज को, परिवार को, एकता के सूत्र में बाँधती है | चाहे वैदिक काल की विदुषियां लोपामुद्रा, गार्गी, मैत्रेयी की विद्वता हो या अक्का महादेवी और मीराबाई का ज्ञान और भक्ति हो, चाहे अहिल्याबाई होलकर की शासन व्यवस्था हो या रानी लक्ष्मीबाई की वीरता, नारी शक्ति हमेशा हमें प्रेरित करती आयी है | देश का मान-सम्मान बढ़ाती आई है |
श्रीमान प्रकाश त्रिपाठी ने आगे कई सारे उदाहरण दिए हैं | उन्होंने लिखा है हमारी साहसिक रक्षा-मंत्री निर्मला सीतारमण के लड़ाकू विमान ‘सुखोई 30’ में उड़ान भरना, उन्हें प्रेरणा दे देगा | उन्होंने वर्तिका जोशी के नेतृत्व में भारतीय नौसेना के महिला क्रू मेम्बर्स आई एन एस वी तरिणी (INSV Tarini) पर पूरे विश्व की परिक्रमा कर रही हैं ,उसका ज़िक्र  किया है | तीन बहादुर महिलाएँ भावना कंठ, मोहना सिंह और अवनी चतुर्वेदी Fighter Pilots बनी हैं और Sukhoi-30  में प्रशिक्षण ले रही हैं | क्षमता वाजपेयी की अगुवाई वाली All Women Crue ने दिल्ली से अमेरिका के San Francisco और वापस दिल्ली तक Air India Boeing Jet में उड़ान भरी - और सब की सब महिलाएँ  | आपने बिलकुल सही कहा -  आज नारी, हर क्षेत्र में न सिर्फ आगे बढ़ रही है बल्कि नेतृत्व कर रही है |  आज कई क्षेत्र ऐसे हैं जहाँ सबसे पहले, हमारी नारी-शक्ति कुछ करके दिखा रही है | एक milestone स्थापित कर रही है |  पिछले दिनों माननीय राष्ट्रपति जी ने एक नई पहल की |
  राष्ट्रपति जी ने उन असाधारण महिलाओं के एक group  से मुलाकात की जिन्होंने अपने-अपने क्षेत्रों में सबसे पहले कुछ करके दिखाया | देश की ये women achievers , First female Merchant Navy Captain , passenger train की पहली महिला Train Driver, पहली महिला Fire Fighter, पहली महिला Bus Driver, Antarctica पहुँचने वाली पहली महिला, ऐवरेस्ट पर पहुँचने वाली पहली महिला, इस तरह से हर क्षेत्र में ‘First Ladies’-  हमारी नारी-शक्तियों ने समाज की रूढ़िवादिता को तोड़ते हुए असाधारण उपलब्धियाँ हासिल की, एक कीर्तिमान स्थापित किया | उन्होंने ये दिखाया कि कड़ी मेहनत, लगन और दृढसंकल्प के बल पर तमाम बाधाओं और रुकावटों को पार करते हुए एक नया मार्ग तैयार किया जा सकता है | एक ऐसा मार्ग जो सिर्फ अपने समकालीन लोगों को बल्कि आने वाली पीढ़ियों को भी प्रेरित करेगा | उन्हें एक नये जोश और उत्साह से भर देगा | इन women achievers, first ladies पर एक पुस्तक भी तैयार की गयी है ताकि पूरा देश इन नारी शक्तियों के बारे में जाने, उनके जीवन और उनके कार्यों से प्रेरणा ले सके | यह NarendraModi website  पर भी e-book के रूप में उपलब्ध है |
  आज देश और समाज में हो रहे सकारात्मक बदलाव में देश की नारी-शक्ति की महत्वपूर्ण भूमिका है | आज जब हम महिला सशक्तीकरण पर चर्चा कर रहे हैं तो मैं एक रेलवे स्टेशन का ज़िक्र करना चाहूँगा | एक रेलवे स्टेशन और महिला सशक्तीकरण, आप सोच रहे होंगे कि इस बीच में क्या connection है | मुंबई का माटुंगा स्टेशन भारत का ऐसा पहला स्टेशन है जहाँ सारी महिला कर्मचारी हैं | सभी विभागों में women staff - चाहे Commercial Department हो, Railway Police हो, Ticket Checking हो, Announcing हो, Point Person हो, पूरा 40 से भी अधिक महिलाओं का staff है | इस बार बहुत से लोगों ने गणतंत्र दिवस की परेड देखने के बाद Twitter पर और दूसरे Social Media पर लिखा कि परेड की एक मुख्य बात थी, BSF Biker Contingent जिसमें सब की सब महिलाएँ भाग ले रहीं थी | साहसपूर्ण प्रयोग कर रही थीं और ये दृश्य, विदेश से आये हुए मेहमानों को भी आश्चर्यचकित कर रहा था | सशक्तीकरण, आत्मनिर्भरता का ही एक रूप है | आज हमारी नारी-शक्ति नेतृत्व कर रही है | आत्मनिर्भर बन रही है | वैसे ही एक बात मेरे ध्यान में आई है, छत्तीसगढ़ की हमारी आदिवासी महिलाओं ने भी कमाल कर दिया है | उन्होंने एक नई मिसाल पेश की है | आदिवासी महिलाओं का जब ज़िक्र आता है तो सभी के मन में एक निश्चित तस्वीर उभर कर आती है | जिसमें जंगल होता है, पगडंडियां होती हैं, उन पर लकड़ियों का बोझ सिर पर उठाये चल रही महिलाएँ | लेकिन छत्तीसगढ़ की हमारी आदिवासी नारी, हमारी इस नारी-शक्ति ने देश के सामने एक नई तस्वीर बनाई है | छत्तीसगढ़ का दंतेवाड़ा इलाक़ा, जो माओवाद-प्रभावित क्षेत्र है | हिंसा, अत्याचार, बम, बन्दूक, पिस्तौल - माओवादियों ने इसी का एक भयानक वातावरण पैदा किया हुआ है | ऐसे ख़तरनाक इलाक़े में आदिवासी महिलाएँ, E-Rickshaw चला कर आत्मनिर्भर बन रही हैं | बहुत ही थोड़े कालखंड में कई सारी महिलाएँ इससे जुड़ गयी हैं | और इससे तीन लाभ हो रहे हैं, एक तरफ जहाँ स्वरोजगार ने उन्हें सशक्त बनाने का काम किया है वहीँ  इससे माओवाद-प्रभावित इलाक़े की तस्वीर भी बदल रही है | और इन सबके साथ इससे पर्यावरण-संरक्षण के काम को भी बल मिल रहा है | यहाँ के ज़िला प्रशासन की भी सराहना करता हूँ, Grant उपलब्ध कराने से ले कर Training देने तक, ज़िला प्रशासन ने इन महिलाओं की सफलता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है |
     हम बार-बार सुनते आये हैं कि लोग कहते हैं – ‘कुछ बात है ऐसी कि हस्ती मिटती नहीं हमारी’ | वो बात क्या है, वो बात है, Flexibility – लचीलापन, Transformation | जो काल-बाह्य है उसे छोड़ना, जो आवश्यक है उसका सुधार स्वीकार करना | और हमारे समाज की विशेषता है – आत्मसुधार करने का निरंतर प्रयास, Self-Correction, ये भारतीय परम्परा, ये हमारी संस्कृति हमें विरासत में मिली है | किसी भी जीवन-समाज की पहचान होती है उसका Self Correcting Mechanism | सामाजिक कुप्रथाओं और कुरीतियों के ख़िलाफ सदियों से हमारे देश में व्यक्तिगत और सामाजिक स्तर पर लगातार प्रयास होते रहे हैं | अभी कुछ दिन पहले बिहार ने एक रोचक पहल की | राज्य में सामाजिक कुरीतियों को जड़ से मिटाने के लिए 13 हज़ार से अधिक किलोमीटर की विश्व की सबसे लम्बी मानव-श्रृंखला, Human Chain बनाई गयी | इस अभियान के द्वारा लोगों को बाल-विवाह और दहेज़-प्रथा जैसी बुराइयों के खिलाफ़ जागरूक किया गया | दहेज़ और बाल-विवाह जैसी कुरीतियों से पूरे राज्य ने लड़ने का संकल्प लिया | बच्चे, बुजुर्ग, जोश और उत्साह से भरे युवा, माताएँ, बहनें हर कोई अपने आप को इस जंग में शामिल किये हुए थे | पटना का ऐतिहासिक गाँधी मैदान से आरंभ हुई मानव-श्रृंखला राज्य की सीमाओं तक अटूट-रूप से जुड़ती चली गई | समाज के सभी लोगों को सही मायने में विकास का लाभ मिले इसके लिए ज़रुरी है कि हमारा समाज इन कुरीतियों से मुक्त हो | आइये हम सब मिलकर ऐसी कुरीतियों को समाज से ख़त्म करने की प्रतिज्ञा लें और एक New India, एक सशक्त एवं समर्थ भारत का निर्माण करें | मैं बिहार की जनता, राज्य के मुख्यमंत्री, वहाँ के प्रशासन और मानव –श्रृंखला में शामिल हर व्यक्ति की सराहना करता हूँ कि उन्होंने समाज कल्याण की दिशा में इतनी विशेष एवं व्यापक पहल की |
    मेरे प्यारे देशवासियो, मैसूर, कर्नाटक के श्रीमान् दर्शन ने MyGov पर लिखा है – उनके पिता के ईलाज़ पर महीने में दवाइयों का खर्च 6 हज़ार रूपये होता था | उन्हें पहले प्रधानमंत्री जन-औषधि योजना के बारे में जानकारी नहीं थी | लेकिन अब जब उन्हें जन-औषधि केंद्र के बारे में जानकारी मिली और उन्होंने वहाँ से दवाइयाँ ख़रीदी तो उनका दवाइयों का खर्च 75 प्रतिशत तक कम हो गया | उन्होंने इच्छा जताई है कि मैं इसके बारे में ‘मन की बात’ कार्यक्रम में बात करूँ ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक इसकी जानकारी पहुँचे और वे इसका लाभ ले सकें | पिछले कुछ समय से बहुत लोग मुझे इस विषय में लिखते रहते थे, बताते रहते हैं | मैंने भी कई लोगों के Video, Social Media पर भी देखे है जिन्होंने इस योजना का लाभ लिया है | और इस तरह की जानकारी जब मिलती है तो बहुत खुशी होती है | एक गहरा संतोष मिलता है | और मुझे यह भी बहुत अच्छा लगा कि श्रीमान् दर्शन जी के मन में ये विचार आया कि जो उन्हें मिला है, वो औरों को भी मिले | इस योजना के पीछे उद्देश्य है - Health Care को affordable बनाना और Ease of Living को प्रोत्साहित करना | जन-औषधि केन्द्रों पर मिलने वाली दवाएं बाज़ार में बिकने वाली Branded दवाइयों से लगभग 50% से 90% तक सस्ती हैं | इससे जन-सामान्य, विशेषकर प्रतिदिन दवाएं लेने वाले वरिष्ठ नागरिकों की बहुत आर्थिक मदद होती है, बहुत बचत होती है | इसमें ख़रीदी जानेवाली generic दवाएं World Health Organisation के तय standard के हिसाब से होती हैं | यही कारण है कि अच्छी Quality की दवाएं सस्ते दाम पर मिल जाती हैं | आज देशभर में तीन हज़ार से ज्यादा जन-औषधि केंद्र स्थापित किये जा चुके हैं | इससे न सिर्फ दवाइयाँ सस्ती मिल रही हैं बल्कि Individual Entrepreneurs के लिए भी रोज़गार के नए अवसर पैदा हो रहे हैं | सस्ती दवाइयाँ प्रधानमंत्री भारतीय जन-औषधि केन्द्रों और अस्पतालों के ‘अमृत stores पर उपलब्ध हैं | इन सब के पीछे एक मात्र उद्देश्य है – देश के ग़रीब से ग़रीब व्यक्ति को Quality and affordable health service उपलब्ध करवाना ताकि एक स्वस्थ और समृद्ध भारत का निर्माण किया जा सके |
          मेरे प्यारे देशवासियो, महाराष्ट्र से श्रीमान् मंगेश ने Narendra Modi Mobile App पर एक Photo, Share की | वो Photo ऐसी थी कि मेरा ध्यान उस Photo की ओर खींचा चला गया | वो फोटो ऐसी थी जिसमें एक पोता अपने दादा के साथ ‘Clean Morna River’ सफाई अभियान में हिस्सा ले रहा था | मुझे पता चला कि अकोला के नागरिकों ने ‘स्वच्छ भारत अभियान’ के तहत मोरना नदी को साफ़ करने के लिए स्वच्छता अभियान का आयोजन किया था | मोरना नदी पहले बारह महीने बहती थी लेकिन अब वो seasonal हो गई है | दूसरी पीड़ा की बात है कि नदी पूरी तरह से जंगली घास, जलकुम्भी से भर गई थी | नदी और उसके किनारे पर काफ़ी कूड़ा फेका जा रहा था | एक action plan तैयार किया गया और मकर-संक्रांति से एक दिन पहले 13 जनवरी को ‘Mission Clean Morna’  के प्रथम चरण के तहत चार किलोमीटर के क्षेत्र में चौदह स्थानों पर मोरना नदी के तट के दोनों किनारों की सफाई की गई | ‘Mission Clean Morna’ के इस नेक कार्य में अकोला के छह हज़ार से अधिक नागरिकों, सौ से अधिक NGOs , Colleges, Students, बच्चे, बुजुर्ग, माताएँ-बहनें हर किसी ने इसमें भाग लिया | 20 जनवरी 2018 को भी ये स्वच्छता-अभियान उसी तरह जारी रखा गया और मुझे बताया गया है कि जब तक मोरना नदी पूरी तरह से साफ़ नही हो जाती, ये अभियान हर शनिवार की सुबह को चलेगा | यह दिखाता है कि अगर व्यक्ति कुछ करने की ठान ले तो नामुमकिन कुछ भी नहीं है | जन-आंदोलन के माध्यम से बड़े से बड़े बदलाव लाये जा सकते हैं | मैं अकोला की जनता को, वहाँ के ज़िला एवं नगर-निगम के प्रशासन को इस काम को जन-आंदोलन बनाने के लिए जुटे हुए सब नागरिकों को, आपके इन प्रयासों को बहुत-बहुत बधाई देता हूँ और आप का ये प्रयास देश के अन्य लोगों को भी प्रेरित करेगा |
    मेरे प्यारे देशवासियो, इन दिनों पद्म-पुरस्कारों के संबंध में काफी चर्चा आप भी सुनते होंगे | अख़बारों में भी इस विषय में, T.V. पर भी इस पर ध्यान आकर्षित होता है | लेकिन थोड़ा अगर बारीकी से देखेंगे तो आपको गर्व होगा | गर्व इस बात का कि कैसे-कैसे महान लोग हमारे बीच में हैं और स्वाभाविक रूप से इस बात का भी गर्व होगा कि कैसे आज हमारे देश में सामान्य व्यक्ति बिना किसी सिफ़ारिश के उन ऊँचाइयों तक पहुँच रहें हैं | हर वर्ष पद्म-पुरस्कार देने की परम्परा रही है लेकिन पिछले तीन वर्षों में इसकी पूरी प्रक्रिया बदल गई है | अब कोई भी नागरिक किसी को भी nominate कर सकता है | पूरी प्रक्रिया online हो जाने से transparency आ गई है | एक तरह से इन पुरस्कारों की चयन-प्रक्रिया का पूरा transformation हो गया है | आपका भी इस बात पर ध्यान गया होगा कि बहुत सामान्य लोगों को पद्म-पुरस्कार मिल रहे हैं | ऐसे लोगों को पद्म-पुरस्कार दिए गए हैं जो आमतौर पर बड़े-बड़े शहरों में, अख़बारों में, टी.वी. में, समारोह में नज़र नहीं आते हैं | अब पुरस्कार देने के लिए व्यक्ति की पहचान नहीं, उसके काम का महत्व बढ़ रहा है | आपने सुना होगा श्रीमान् अरविन्द गुप्ता जी को, आपको जान करके ख़ुशी होगी, IIT कानपुर के छात्र रहे अरविन्द जी ने बच्चों के लिए खिलौने बनाने में अपना सारा जीवन खपा दिया | वे चार दशकों से कचरे से खिलौने बना रहे हैं ताकि बच्चों में विज्ञान के प्रति जिज्ञासा बढ़ा सकें | उनकी कोशिश है कि बच्चे बेकार चीज़ों से वैज्ञानिक प्रयोगों की ओर प्रेरित हों, इसके लिए वे देशभर के तीन हज़ार स्कूलों में जाकर 18 भाषाओं में बनी फ़िल्में दिखाकर बच्चों को प्रेरित कर रहे हैं | कैसा अद्भुत जीवन, कैसा अद्भुत समर्पण! एक ऐसी ही कहानी कर्नाटक के सितावा जोद्दती (SITAVAA JODATTI) की है | इन्हें महिला-सशक्तीकरण की देवी ऐसे ही नहीं कहा गया है | पिछले तीन दशकों से बेलागवी (BELAGAVI) में इन्होंने अनगिनत महिलाओं का जीवन बदलने में महान योगदान दिया है | इन्होंने सात वर्ष की आयु में ही स्वयं को देवदासी के रूप में समर्पित कर दिया था | लेकिन फिर देवदासियों के कल्याण के लिए ही अपना पूरा जीवन लगा दिया | इतना ही नहीं, इन्होंने दलित महिलाओं के कल्याण के लिए भी अभूतपूर्व कार्य किये हैं | आपने नाम सुना होगा मध्य प्रदेश के भज्जू श्याम के बारे में, श्रीमान् भज्जू श्याम का जन्म एक बिलकुल ग़रीब परिवार, आदिवासी परिवार में हुआ था | वे जीवन यापन के लिए सामान्य नौकरी करते थे लेकिन उनको पारम्परिक आदिवासी painting बनाने का शौक था | आज इसी शौक की वजह से इनका भारत ही नहीं, पूरे विश्व में सम्मान है | Netherlands, Germany, England, Italy जैसे कई देशों में इनकी painting प्रदर्शनी लग चुकी है| विदेशों में भारत का नाम रोशन करने वाले भज्जू श्याम जी की प्रतिभा को पहचाना गया और उन्हें पद्मश्री सम्मान प्रदान किया गया |         
केरल की आदिवासी महिला लक्ष्मीकुट्टी की कहानी सुनकर आप सुखद आश्चर्य से भर जायेंगे | लक्ष्मीकुट्टी, कल्लार में शिक्षिका हैं और अब भी घने जंगलों के बीच आदिवासी इलाके में ताड़ के पत्तों से बनी झोपड़ी में रहती हैं | उन्होंने अपनी स्मृति के आधार पर ही पांच सौ herbal medicine बनाई हैं | जड़ी-बूटियों से दवाइयाँ बनाई है | सांप काटने के बाद उपयोग की जाने वाली दवाई बनाने में उन्हें महारत हासिल है | लक्ष्मी जी herbal दवाओं की अपनी जानकारी से लगातार समाज की सेवा कर रही हैं | इस गुमनाम शख्शियत को पहचान कर समाज में इनके योगदान के लिए उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया | मैं आज एक और नाम का भी जिक्र करने का मेरा मन करता है | पश्चिम बंगाल की 75 वर्षीय सुभासिनी मिस्त्री को भी | उन्हें पुरस्कार के लिए चुना गया | सुभासिनी मिस्त्री एक ऐसी महिला हैं, जिन्होंने अस्पताल बनाने के लिए दूसरों के घरों में बर्तन मांजे, सब्जी बेची | जब ये 23 वर्ष की थीं तो उपचार नहीं मिलने से इनके पति की मृत्यु हो गई थी और इसी घटना ने उन्हें गरीबों के लिए अस्पताल बनाने के लिए प्रेरित किया | आज इनकी कड़ी मेहनत से बनाए गए अस्पताल में हजारों गरीबों का नि:शुल्क इलाज किया जाता है | मुझे पूरा विश्वास है कि हमारी बहुरत्ना-वसुंधरा में ऐसे कई नर-रत्न हैं, कई नारी-रत्न हैं जिनको न कोई जानता है, न कोई पहचानता है | ऐसे व्यक्तियों की पहचान न बनना, उससे समाज का भी घाटा हो जाता है | पद्म-पुरस्कार एक माध्यम है लेकिन मैं देशवासियों को भी कहूँगा कि हमारे आस-पास समाज के लिए जीने वाले, समाज के लिए खपने वाले, किसी न किसी विशेषता को ले करके जीवन भर कार्य करने वाले लक्षावधि लोग हैं | कभी न कभी उनको समाज के बीच में लाना चाहिए | वो मान-सम्मान के लिए काम नहीं करते हैं लेकिन उनके कार्य के कारण हमें प्रेरणा मिलती है | कभी स्कूलों में, colleges में ऐसे लोगों को बुला करके उनके अनुभवों को सुनना चाहिए | पुरस्कार से भी आगे, समाज में भी कुछ प्रयास होना चाहिए |
    मेरे प्यारे देशवासियो, हर वर्ष 9 जनवरी को हम प्रवासी भारतीय दिवस मनाते हैं | यही 9 जनवरी है, जब पूज्य महात्मा गाँधी SOUTH AFRICA से भारत लौटे थे | इस दिन हम भारत और विश्व भर में रह रहे भारतीयों के बीच, अटूट-बंधन का जश्न मनाते हैं | इस वर्ष प्रवासी भारतीय दिवस पर हमने एक कार्यक्रम आयोजित किया था जहाँ विश्व भर में रह रहे भारतीय-मूल के सभी सांसदों को और मेयरों  ( MAYORS)  को आमंत्रित किया था | आपको यह जानकर खुशी होगी कि उस कार्यक्रम में Malaysia, New Zealand, Switzerland, Portugal, Mauritius, Fiji, Tanzania, Kenya, Canada, Britain, Surinam, दक्षिण अफ्रीका और America  से, और भी कई देशों से वहाँ जहाँ-जहाँ हमारे मेयर हैं मूल- भारतीय, जहाँ-जहाँ सांसद है मूल-भारतीय, उन सब ने भाग लिया था | मुझे खुशी है कि विभिन्न देशों में रह रहे भारतीय-मूल के लोग उन देशों की सेवा तो कर ही रहे हैं साथ ही साथ, वे भारत के साथ भी अपने मजबूत संबंध बनाए रखे हैं | इस बार यूरोपीय संघ, यूरोपियन यूनियन ने मुझे कैलेंडर भेजा है जिसमें उन्होनें यूरोप के विभिन्न देशों में रह रहे भारतीयों द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में उनके योगदानों को एक अच्छे ढंग से दर्शाया है | हमारे मूल-भारतीय लोग जो यूरोप के भिन्न-भिन्न देशों में बस रहे हैं - कोई CYBER SECURITY में काम कर रहा है, तो कोई आयुर्वेद को समर्पित है, कोई अपने संगीत से समाज के मन को डुलाता लाता है तो कोई अपनी कविताओं से | कोई climate change पर शोध कर रहा है तो कोई भारतीय ग्रंथों पर काम कर रहा है | किसी ने ट्रक चलाकर गुरुद्वारा खड़ा किया है तो किसी ने मस्जिद बनाई है | यानी जहाँ भी हमारे लोग हैं, उन्होंने वहाँ की धरती को किसी न किसी तरीके से सुसज्जित किया है | मैं धन्यवाद देना चाहूँगा यूरोपीय यूनियन के इस उल्लेखनीय कार्य के लिए, भारतीय मूल के लोगों को recognise करने के लिए और उनके माध्यम से दुनिया भर के लोगों को जानकारी देने के लिए भी |
      30 जनवरी को पूज्य बापू की पुण्य-तिथि है, जिन्होंने हम सभी को एक नया रास्ता दिखाया है | उस दिन हम ‘शहीद दिवस’ मनाते हैं | उस दिन हम देश की रक्षा में अपनी जान गवां देने वाले महान शहीदों को 11 बजे श्रद्दांजलि अर्पित करते हैं | शांति और अहिंसा का रास्ता, यही बापू का रास्ता | चाहे भारत हो या दुनिया, चाहे व्यक्ति हो परिवार हो या समाज-पूज्य बापू जिन आदर्शों को ले करके जिए, पूज्य बापू ने जो बातें हमें बताई, वे आज भी अत्यंत relevant हैं | वे सिर्फ कोरे सिद्दांत नहीं थे | वर्तमान में भी हम डगर-डगर पर देखते हैं कि बापू की बातें कितनी सही थीं | अगर हम संकल्प करें कि बापू के रास्ते पर चलें -जितना चल सके, चलें - तो उससे बड़ी श्रद्दांजलि क्या हो सकती है?
     मेरे प्यारे देशवासियो, आप सब को 2018 की शुभकामनायें देते हुए, मेरी वाणी को विराम देता हूँ | बहुत-बहुत धन्यवाद  | नमस्कार |
*****


Thursday, 25 January 2018

Revive a millennial partnership: Singapore has played a major role in India’s closer integration with Asean

While we commemorate 25 years of Asean-India relations, India’s ties with southeast Asia date back more than 2,000 years. Ancient trade between India and countries such as Cambodia, Malaysia and Thailand is well-documented. Southeast Asian cultures, traditions and languages have been profoundly influenced by these early linkages. We see Indic Hindu-Buddhist influences in historical sites such as the Angkor Temple Complex near Siem Reap in Cambodia, the Borobudor and Prambanan temples near Yogyakarta in Indonesia, and the ancient candis in Kedah in Malaysia. The Ramayana is embedded in many southeast Asian cultures, including in Indonesia, Myanmar and Thailand. Singapore’s Malay name is Singapura, derived from Sanskrit and meaning ‘lion city’.
Singapore has always advocated India’s inclusion in the Asean community. India became an Asean Sectoral Dialogue Partner in 1992, a full Asean Dialogue Partner in 1995, and participated in the East Asia Summits (EAS) from 2005. The EAS is a key component of an open, inclusive and robust regional architecture, and the region’s main strategic leaders-led forum.
Asean-India relations were further elevated to a strategic partner­ship in 2012, the 20th anniversary of Asean-India relations. Today, Asean and India enjoy multi-faceted cooperation across Asean’s political-security, economic and socio-cultural pillars. Prime Minister Narendra Modi’s ‘Act East’ policy and 3-C (Commerce, Connectivity, Culture) formula for strengthening engagement with Asean speaks to our broad-based cooperation. We have around 30 platforms for cooperation, including an annual Leaders’ Summit and seven Ministerial Dialogues. India has participated actively in Asean-led platforms including the Asean Regional Forum, the Asean Defence Ministers’ Meeting Plus, and the East Asia Summit.
With the Asean-India Free Trade Area (AIFTA), Asean-India trade has risen steadily from $2.9 billion in 1993 to $58.4 billion in 2016. On the socio-cultural front, programmes like the Asean-India Students Exchange Programmes and the annual Delhi Dialogue foster closer people-to-people relations. Through these platforms, our youth, academics and businessmen get to meet, learn and deepen ties.
To mark this Silver Jubilee of Asean-India relations, both sides have held many commemorative activities. The recent Pravasi Bharatiya Divas in Singapore recognised the contributions of the Indian diaspora. Today’s Asean-India Commemorative Summit marks the culmina­tion of these celebrations. It is an honour for all the Asean leaders to be in New Delhi for this occasion. Asean leaders are also deeply honoured to be invited as chief guests at tomorrow’s 69th Republic Day Parade.
Major global trends are reshaping the strategic outlook, presenting both challenges and opportunities. The strategic balance is shifting. Demographic, cultural and political changes are underway in many parts of the world. The consensus on globalisation and free trade is fraying, but the Asian story continues to be a positive one. We need to push on with economic integration. We must also be resolute in dealing with emerging transboundary challenges, including terrorism, cybercrime and climate change.
This geopolitical uncertainty gives new impetus to Asean’s cooperation with key partners like India. Asean and India share common interests in peace and security in the region, and an open, balanced and inclusive regional architecture. India is located strategically along major sea-lanes from the Indian Ocean to the Pacific. These sea lanes are also vital trade routes for many Asean member states. Both sides share an interest in preserving these vital maritime conduits of trade.
Asean and India’s combined population of 1.8 billion represents one quarter of the world’s population. Our combined GDP exceeds $4.5 trillion. By 2025, India’s consumer market is expected to become the fifth largest in the world, while in southeast Asia middle-class house­holds will double to 163 million.  Both regions are also experiencing a demographic dividend – 60% of Asean’s population is below 35 years old, while India is projected to be the world’s youngest country with an average age of 29 by 2020. Asean and India also have fast-growing internet user bases, which will help us grow the digital economy. Against this backdrop, we still have much scope to grow our ties – India accounted for only 2.6% of Asean’s external trade in 2016.
May I suggest three promising areas of mutually beneficial collaboration.
First, Asean and India should redouble efforts to promote trade and investment. We need to keep existing pathways up to date and relevant, including the AIFTA. We should work together to conclude a high quality Regional Comprehensive Economic Partnership (RCEP), surpassing the existing AIFTA. This would create an integrated Asian market comprising nearly half the world’s population and a third of the world’s GDP. Stream­lining rules and regulations will stimulate investments in both directions, complement India’s ‘Act East’ policy and facilitate ‘Made in India’ exports to the region.
Second, our peoples will benefit greatly from greater land, air and maritime connectivity. We appreciate India’s efforts to improve land connectivity, including the extension of the trilateral India-Myanmar-Thailand Highway, and India’s $1 billion line of credit to promote infrastructure connectivity with Asean. We look forward to working closely with India to boost our physical connectivity, including by expeditiously concluding the Asean-India Air Transport Agreement. This will enhance people-to-people flows across the region and help both Indian and Asean carriers tap new and emerging markets, especially for business, investment and tourism.
Digital connectivity is another important area of cooperation, and can shape people-to-people connections for the future. India’s Aadhaar system creates many new opportunities, for instance, to harmonise our Fintech platforms or connect e-payment systems.
Finally, we continue to look for new synergies. One objective of Singapore’s chairmanship is to develop an Asean Smart Cities Network, and here Singapore and India are natural partners. India is rapidly urbanising and has set itself a goal of establishing 100 smart cities. Singapore, an urbanised city-state, is ready to partner India on this journey and help develop urban solutions based on our own experience. Andhra Pradesh’s new capital city of Amaravati is one example.
As Asean chair, Singapore is committed to deepening Asean-India ties. If both sides use our historical and cultural links to tackle today’s challenges and build bridges for the future, our youth and next generation stand to gain the most.

Monday, 1 January 2018

Director General,All India Radio,Shri F Sheheryar's New Year Message to his colleagues


Dear Colleagues,

                        As we bid farewell to 2017 and look forward to another eventful year, let me convey my best wishes to all my colleagues who stood by me through thick and thin.    I take this opportunity to share some thoughts with you.

                        As broadcast professionals, unrelenting pursuit of innovation should be our hallmark.  As Woody Allen quipped: “ If you are not failing every now and again, it’s a sign you are not doing anything very innovative”.   Do not hesitate to fail now and then in your pursuit of excellence.   

                        Let us reaffirm our faith in public service broadcasting as a potent instrument to serve a New India, especially  its  vibrant and vocal  youth who constitute bulk of the population. More than 65% of the population is below the age of 35.  The younger generation, with its energy and exuberance, is vastly different from the rest of the population in terms of their media habits and tastes, concerns and aspirations, life style and fantasies.  They are known to be heavy users of the smart phone and the internet, including the social media platforms. The mobile platform is becoming their primary choice today to consume content. Car Radios have also fuelled exposure to radio among those on the move. The question naturally arises :   How can AIR cultivate this vital segment of the population?    Unless   the programme as well as the engineering professionals   change their  mind-set   and woo the  young listener, AIR will cease to stay strong and relevant.   The need of the hour is to conceive and put out programmes that gel with young listeners,  coupled with a perky presentation style.   
                    I have been expressing concern about disquieting uniformity in the character and complexion of AIR’s channels.  AIR has the advantage of providing variety to the public depending upon their listening  habits and tastes.   Primary channel, Local Radio, VividhBharati, Rainbow and Gold have a distinct character.   Multi-channel stations should bear in mind that all these channels should not sound monotonously alike.

                                                                                                           



-         2   -

                    Years of stagnation have left the creative professionals of AIR in the lurch. The year that  just ended has also failed  to bring any cheer. But kudos to  you all for your passion for broadcasting and unflinching commitment to Akashvani.  I suppose adversity does bring out the very best from creative and conscientious professionals.  I am an incurable optimist and am sure the new year will bring happy tidings. 

                   In the new year let us make a conscious attempt to function as a closely knit team of professionals, eschewing inter-disciplinary.  Let us all function  in a spirit of bonhomie as members of one large family and continue to serve every segment of the population imbued with a new spirit.

                  Over the years, we have been trying to strike the golden mean between public service broadcasting and resource mobilisation.  In today’s fiercely competitive media scenario, we have to stand out in terms of  reach, ratings, revenue and reputation.   I  am  happy that all my colleagues appreciate the need for mobilising resources internally not only to stay afloat but to flourish.  Keep up the good work in this direction.

                  I convey once again my best wishes  for a fruitful and cheerful  2018.


                                                                                                                                                                                                                                                                                  (F.Sheheryar)
                                                                                 Director General



                        

Sunday, 31 December 2017

मन की बात (39वीं कड़ी) प्रसारण तिथि: 31.12.2017

‘मन की बात’ (39वीं कड़ी)
प्रसारण तिथि: 31.12.2017,                         प्रसारण समय: प्रातः 11.00 बजे

मेरे प्यारे देशवासियो, नमस्कार | ‘मन की बात’ का, इस वर्ष का यह आख़िरी कार्यक्रम है और संयोग देखिए कि आज, वर्ष 2017 का भी आख़िरी दिन है | इस पूरे वर्ष बहुत सारी बाते हमने और आपने share  की | ‘मन की बात’ के लिए आपके ढ़ेर सारे पत्र, comments , विचारों का ये आदान-प्रदान, मेरे लिए तो हमेशा एक नई ऊर्जा लेकर के आता है | कुछ घंटों बाद, वर्ष बदल जाएगा लेकिन हमारी बातों का यह सिलसिला आगे भी इसी तरह जारी रहेगा | आने वाले वर्ष में हम, और नयी-नयी बातें करेंगे, नये अनुभव share करेंगे | आप सबको 2018 की अनेक-अनेक शुभकामनाएँ | अभी पिछले दिनों 25 दिसम्बर को विश्वभर में क्रिसमस का त्योहार धूमधाम से मनाया गया | भारत में भी लोगों ने काफी उत्साह से इस त्योहार को मनाया | क्रिसमस के अवसर पर हम सब ईसा मसीह की महान शिक्षाओं को याद करते हैं और ईसा मसीह ने सबसे ज़्यादा जिस बात पर बल दिया था, वह था - “सेवा-भाव” | सेवा की भावना का सार हम बाइबल में भी देखते हैं |

The Son of Man has come, not to be served,
But to serve,
And to give his life, as blessing
To all humankind.

यह दिखाता है कि सेवा का माहात्म्य क्या है ! विश्व की कोई भी जाति होगी, धर्म होगा, परम्परा होगी, रंग होंगे लेकिन सेवाभाव, ये मानवीय मूल्यों की एक अनमोल पहचान के रूप में है | हमारे देश में ‘निष्काम कर्म’ की बात होती है, यानी ऐसी सेवा जिसमें कोई अपेक्षा न हो | हमारे यहाँ तो कहा गया है – “सेवा परमो धर्मः” | ‘जीव-सेवा ही शिव-सेवा’ और गुरुदेव रामकृष्ण परमहंस तो कहते थे – शिव-भाव से जीव-सेवा करें यानी पूरे विश्व में ये सारे समान मानवीय मूल्य हैं | आइए, हम महापुरुषों का स्मरण करते हुए, पवित्र दिवसों की याद करते हुए, हमारी इस महान मूल्य परम्परा को, नयी चेतना दें, नयी ऊर्जा दें और ख़ुद भी उसे जीने का प्रयास करें |

मेरे प्यारे देशवासियो, यह वर्ष गुरुगोविन्द सिंह जी का 350वाँ प्रकाश पर्व का भी वर्ष था | गुरुगोविन्द सिंह जी का साहस और त्याग से भरा असाधारण जीवन हम सभी के लिए प्रेरणा का स्रोत है | गुरुगोविन्द सिंह जी ने महान जीवन मूल्यों का उपदेश दिया और उन्हीं मूल्यों के आधार पर उन्होंने अपना जीवन जिया भी | एक गुरु, कवि, दार्शनिक, महान योद्धा, गुरुगोविन्द सिंह जी ने इन सभी भूमिकाओं में लोगों को प्रेरित करने का काम किया | उन्होंने उत्पीड़न और अन्याय के विरुद्ध लड़ाई लड़ी | लोगों को जाति और धर्म के बंधनों को तोड़ने की शिक्षा दी | इन प्रयासों में उन्हें व्यक्तिगत रूप से बहुत कुछ गँवाना भी पड़ा | लेकिन उन्होंने कभी भी द्वेष की भावना को जगह नहीं दी | जीवन के हर-पल में प्रेम , त्याग और शांति का सन्देश - कितनी महान विशेषताओं से भरा हुआ उनका व्यक्तित्व था ! ये मेरे लिए सौभाग्य की बात रही कि मैं इस वर्ष की शुरुआत में गुरुगोविन्द सिंह जी 350वीं जयन्ती के अवसर पर पटनासाहिब में आयोजित प्रकाशोत्सव में शामिल हुआ |  आइए, हम सब संकल्प लें और गुरुगोविन्द सिंह जी की महान शिक्षा और उनके प्रेरणादायी जीवन से, सीख लेते हुए जीवन को ढालने का प्रयास करें |
     एक जनवरी, 2018 यानी कल, मेरी दृष्टि से कल का दिन एक special दिवस है | आपको भी आश्चर्य होता होगा, नया वर्ष आता रहता है, एक जनवरी भी हर वर्ष आती है, लेकिन जब, special की बात करता हूँ तो सचमुच में मैं कहता हूँ कि special है! जो लोग वर्ष 2000 या उसके बाद जन्मे हैं यानी 21वीं सदी में जिन्होंने जन्म लिया है वे एक जनवरी, 2018 से eligible voters बनना शुरू हो जाएँगे | भारतीय लोकतंत्र, 21वीं सदी के voters का, ‘New India Voters’ का स्वागत करता है | मैं, हमारे इन युवाओं को बधाई देता हूँ और सभी से आग्रह करता हूँ कि आप स्वयं को voter के रूप में register करें | पूरा हिन्दुस्तान आपको 21वीं सदी के voter के रूप में स्वागत करने के लिए लालायित है | 21वीं सदी के voter के नाते आप भी गौरव अनुभव करते होंगे | आपका वोट ‘New India’ का आधार बनेगा | वोट की शक्ति, लोकतंत्र में सबसे बड़ी शक्ति है | लाखों लोगों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाने के लिए वोट सबसे प्रभावी साधन है | आप केवल मत देने के अधिकारी नहीं बन रहे हैं | आप 21वीं सदी का भारत कैसा हो? 21वीं सदी के भारत के आपके सपने क्या हों? आप भी तो भारत की 21वीं सदी के निर्माता बन सकते हैं और इसकी शुरुआत एक जनवरी से विशेष रूप से हो रही है | और आज अपनी इस ‘मन की बात’ में, मैं 18 से 25 वर्ष के ऊर्जा और संकल्प से भरे हमारे यशस्वी युवाओं से बात करना चाहता हूँ | मैं इन्हें ‘New India Youth मानता हूँ | New India Youth का मतलब होता है - उमंग, उत्साह और ऊर्जा | मेरा विश्वास है कि हमारे इन ऊर्जावान युवाओं के कौशल और ताक़त से ही हमारा ‘New India का सपना सच होगा | जब हम नए भारत की बात करते हैं तो, नया भारत जो ये जातिवाद, साम्प्रदायवाद, आतंकवाद, भ्रष्टाचार के ज़हर से मुक्त हो | गन्दगी और ग़रीबी से मुक्त हो | ‘New India - जहाँ सभी के लिए समान अवसर हों, जहाँ सभी की आशा–आकांक्षाएँ पूरी हों | नया भारत, जहाँ शांति, एकता और सद्भावना ही हमारा guiding force हो | मेरा यह ‘New India Youth’ आगे आए और मंथन करे कि कैसे बनेगा New India | वो अपने लिए भी एक मार्ग  तय करे, जिनसे वो जुड़ा हुआ है उनको भी जोड़े और कारवाँ बढ़ता चले | आप भी आगे बढें , देश भी आगे बढ़े | अभी जब मैं आपसे बात कर रहा हूँ तो मुझे एक विचार आया कि क्या हम भारत के हर ज़िले में एक mock parliament आयोजित कर सकते हैं ? जहाँ ये 18 से 25 वर्ष के युवा, मिल-बैठ करके New India पर मंथन करें, रास्ते खोजें, योजनाएँ बनाएँ ? कैसे हम हमारे संकल्पों को 2022 से पहले सिद्ध करेंगें ? कैसे हम एक ऐसे भारत का निर्माण कर सकते हैं जिसका सपना हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने देखा था ? महात्मा गाँधी ने आज़ादी के आंदोलन को जन-आन्दोलन बना दिया था | मेरे नौजवान साथियो, समय की माँग है कि हम भी 21वीं सदी के भव्य-दिव्य भारत के लिए एक जन-आन्दोलन खड़ा करें | विकास का जन-आन्दोलन | प्रगति का जन-आन्दोलन | सामर्थ्यवान-शक्तिशाली भारत का जन-आन्दोलन | मैं चाहता हूँ कि 15 अगस्त के आस-पास दिल्ली में एक Mock Parliament का आयोजन हो जहाँ प्रत्येक ज़िले से चुना गया एक युवा, इस विषय पर चर्चा करे कि कैसे अगले पाँच सालों में एक New India का निर्माण किया जा सकता है ? संकल्प से सिद्धि कैसे प्राप्त की जा सकती है ? आज युवाओं के लिए ढ़ेर सारे नये अवसर पैदा हुए हैं | Skill Development से लेकर के Innovation और entrepreneurship में हमारे युवा आगे आ रहे हैं और सफल हो रहे हैं | मैं चाहूँगा कि इन सारे अवसरों की योजनाओं की जानकारी इस ‘New India Youth’ को एक जगह कैसे मिले और इस बारे में कोई एक ऐसी व्यवस्था खड़ी की जाए ताकि 18 वर्ष का होते ही, उसे इस दुनिया के बारे में, इन सारी चीज़ों के बारे में सहज रूप से जानकारी प्राप्त हो और वह आवश्यक लाभ भी ले सके |
    मेरे प्यारे देशवासियो, पिछली ‘मन की बात’ में मैंने आपसे positivity के महत्व के बारे में बात की थी | मुझे संस्कृत का एक श्लोक याद आ रहा है –
उत्साहो बलवानार्य, नास्त्युत्साहात्परं बलम् |
सोत्साहस्य च लोकेषु न किंचिदपि दुर्लभम् ||

इसका मतलब होता है, उत्साह से भरा एक व्यक्ति अत्यन्त बलशाली होता है क्योंकि उत्साह से बढ़ कर कुछ नहीं होता | Positivity और उत्साह से भरे व्यक्ति के लिए कुछ भी असंभव नहीं | अंग्रेज़ी में भी लोग कहते हैं – ‘Pessimism leads to weakness, optimism to power’ | मैंने पिछली ‘मन की बात’ में देशवासियों से अपील की थी कि वर्ष 2017 के अपने positive moments, share करें और 2018 का स्वागत एक positive atmosphere में करें | मुझे बहुत ख़ुशी हुई कि भारी संख्या में लोगों ने social media platform, MyGov और NarendraModi App पर बहुत ही positive response दिया, अपने अनुभव share किये | Positive India hashtag (#) के साथ  लाखों tweets किये गए जिसकी पहुँच करीब-करीब डेढ़-सौ करोड़ से भी अधिक लोगों तक पहुँची | एक तरह से positivity का जो संचार, भारत से आरंभ हुआ वह विश्व भर में फ़ैला | जो tweets और response आये वे सचमुच में inspiring थे | एक सुखद अनुभव था | कुछ देशवासियों ने इस वर्ष के उन घटनाक्रमों को साझा किया जिनका उनके मन पर विशेष प्रभाव पड़ा, सकारात्मक प्रभाव पड़ा| कुछ लोगों ने अपनी व्यक्तिगत उपलब्धियों को भी share किया |
साउंड बाईट #
# मेरा नाम मीनू भाटिया है | मैं मयूर विहार, पॉकेट-वन, फेज़ वन, दिल्ली में रहती हूँ | मेरी बेटी एम.बी.ए. करना चाहती थी | जिसके लिए मुझे बैंक से loan चाहिए था जो मुझे बड़ी आसानी से मिल गया और मेरी बेटी की पढ़ाई चालू रही | 
# मेरा नाम ज्योति राजेंद्र वाडे है | मैं बोडल से बात कर रही हूँ | हमने एक रुपया महीने का कटता वो बीमा था, ये मेरे पति ने करवाया हुआ था | और उनका accident में निधन हो गया था | उस समय हमारी क्या हालत हुई, हमको ही पता | सरकार की ये मदद से हमको बहुत लाभ हुआ और में थोड़ी संभली उससे   
# मेरा नाम संतोष जाधव है | हमारे गाँव से, भिन्नर गाँव से 2017 से National Highway गया है | उसकी वजह से हमारी सड़कें वो बहुत अच्छे हो गये और business भी बढ़ने वाला है |
# मेरा नाम दीपांशु आहूजा, मोहल्ला सादतगंज , ज़िला सहारनपुर, उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ | दो घटनाएँ हैं जो हमारे भारतीय सैनिकों के द्वारा - एक तो पाकिस्तान में उनके द्वारा की गयी surgical strike जिससे कि आतंकवाद के launching pads थे, उनको नेस्तनाबूद कर दिया गया और साथ-ही-साथ हमारे भारतीय सैनिकों का डोकलाम में जो पराक्रम देखने को मिला वो अतुलनीय है |
# मेरा नाम सतीश बेवानी है | हमारे इलाके में पानी की समस्या थी बिलकुल पिछले 40 साल से हम आर्मी के पाइप -लाइन पर निर्भर हुआ करते थे | अब अलग से ये पाइप लाइन हुई है independent ..तो ये सब बड़ी उपलब्धि है हमारी 2017 में | 

   ऐसे अनेक लोग हैं जो अपने-अपने स्तर पर ऐसे कार्य कर रहे हैं जिनसे कई लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव आ रहा है | वास्तव में, यही तो ‘New India है जिसका हम सब मिल कर निर्माण कर रहे हैं | आइए, इन्हीं छोटी-छोटी खुशियों के साथ हम नव-वर्ष में प्रवेश करें, नव-वर्ष की शुरूआत करें और ‘positive India से ‘progressive India की दिशा में मजबूत कदम बढ़ाएँ | जब हम सब positivity की बात करते हैं तो मुझे भी एक बात share करने का मन करता है | हाल ही में मुझे कश्मीर के प्रशासनिक सेवा के topper अंजुम बशीर खान खट्टक ( Anjum Bashir Khan Khattak) की प्रेरणादायी कहानी के बारे में पता चला | उन्होंने आतंकवाद और घृणा के दंश से बाहर निकल कर Kashmir Administrative Service की परीक्षा में top किया है | आप ये जानकर के हैरान रह जाएंगे कि 1990 में आतंकवादियों ने उनके पैतृक-घर को जला दिया था | वहाँ आतंकवाद और हिंसा इतनी अधिक थी कि उनके परिवार को अपनी पैतृक-ज़मीन को छोड़ के बाहर निकलना पड़ा | एक छोटे बच्चे के लिए उसके चारों ओर इतनी हिंसा का वातावरण, दिल में अंधकारात्मक और कड़वाहट पैदा करने के लिए काफ़ी था - पर अंजुम ने ऐसा नहीं होने दिया | उन्होंने कभी आशा नहीं छोड़ी | उन्होंने अपने लिए एक अलग रास्ता चुना - जनता की सेवा का रास्ता | वो विपरीत हालात से उबर कर बाहर आए और सफलता की अपनी कहानी ख़ुद लिखी | आज वो सिर्फ जम्मू और कश्मीर के ही नहीं बल्कि पूरे देश के युवाओं के लिए प्रेरणा बन गए हैं | अंजुम ने साबित कर दिया है कि हालात कितने ही ख़राब क्यों न हों, सकारात्मक कार्यों के द्वारा निराशा के बादलों को भी ध्वस्त किया जा सकता है |      
    अभी पिछले हफ़्ते ही मुझे जम्मू-कश्मीर की कुछ बेटियों से मिलने का अवसर मिला | उनमें जो जज़्बा था, जो उत्साह था, जो सपने थे और जब मैं उनसे सुन रहा था, वो जीवन में कैसे-कैसे क्षेत्र में प्रगति करना चाहती हैं | और वो कितनी आशा-भरी ज़िन्दगी वाले लोग थे ! उनसे मैंने बातें की, कहीं निराशा का नामोनिशान नहीं था - उत्साह था, उमंग था, ऊर्जा थी, सपने थे, संकल्प थे | उन बेटियों से, जितना समय मैंने बिताया, मुझे भी प्रेरणा मिली और ये ही तो देश की ताकत हैं , ये ही तो मेरे युवा हैं, ये ही तो मेरे देश का भविष्य हैं |
    मेरे प्यारे देशवासियो, हमारे देश के ही नहीं, जब भी कभी विश्व के प्रसिद्ध धार्मिक-स्थलों की चर्चा होती है तो केरल के सबरीमाला मंदिर की बात होनी बहुत स्वाभाविक है | विश्व-प्रसिद्ध इस मंदिर में, भगवान अय्यप्पा स्वामी का आशीर्वाद लेने के लिए हर वर्ष करोड़ों की संख्या में श्रद्धालु यहाँ आते हैं | जहाँ इतनी भारी संख्या में श्रद्धालु आते हों, जिस स्थान का इतना बड़ा माहात्म्य हो, वहाँ स्वच्छता बनाये रखना कितनी बड़ी चुनौती हो सकती है ? और विशेषकर उस जगह पर, जो पहाड़ियों और जंगलों के बीच स्थित हो | लेकिन इस समस्या को भी संस्कार में कैसे बदला जा सकता है, समस्या में से उबरने का रास्ता कैसे खोजा जा सकता है और जन-भागीदारी में इतनी क्या ताक़त होती है- ये अपने आप में सबरीमाला मंदिर एक उदाहरण के तौर पर है | पी.विजयन नाम के एक पुलिस अफ़सर ने ‘पुण्यम पुन्कवाणम’ (Punyam Poonkavanam), एक programme शुरू किया और उस programme के तहत, स्वच्छता के लिए जागरूकता का एक स्वैच्छिक-अभियान शुरू किया | और एक ऐसी परम्परा बना दी कि जो भी यात्री आते हैं, उनकी यात्रा तब तक पूरी नहीं होती जब तक कि वो स्वच्छता के कार्यक्रम में कोई-न-कोई शारीरिक श्रम न करते हों | इस अभियान में न कोई बड़ा होता है , न कोई छोटा होता है | हर यात्री, भगवान की पूजा का ही भाग समझ करके कुछ-न-कुछ समय स्वच्छता के लिए करता है, काम करता है, गन्दगी हटाने के लिए काम करता है | हर सुबह यहाँ सफाई का दृश्य बड़ा ही अद्भुत होता है और सारे तीर्थयात्री इसमें जुट जाते हैं | कितनी बड़ी celebrity क्यों न हो, कितना ही धनी व्यक्ति क्यों न हो, कितना ही बड़ा अफ़सर क्यों न हो, हर कोई एक सामान्य-यात्री के तौर पर इस ‘पुण्यम पुन्कवाणम’ (Punyam Poonkavanam) कार्यक्रम का हिस्सा बन जाते हैं, सफाई को करके ही आगे बढ़ते हैं | हम देशवासियों के लिए ऐसे कई उदाहरण हैं | सबरीमाला में इतना आगे बढ़ा हुआ ये स्वच्छता - अभियान और उसमें ‘पुण्यम पुन्कवाणम’ (Punyam Poonkavanam), ये हर यात्री के यात्रा का हिस्सा बन जाता है | वहाँ कठोर-व्रत के साथ स्वच्छता का कठोर-संकल्प भी साथ-साथ चलता है |
    मेरे प्यारे देशवासियो, 2 अक्तूबर 2014 पूज्य बापू की जन्म जयन्ती पर हम सब ने संकल्प किया है कि पूज्य बापू का जो अधूरा काम है यानी कि ‘स्वच्छ-भारत’, ‘गन्दगी से मुक्त-भारत’ | पूज्य बापू जीवन-भर इस काम के लिए जूझते रहे, कोशिश भी करते रहे | और हम सब ने तय किया कि जब पूज्य बापू की 150वीं जयंती हो तो उन्हें हम उनके सपनों का भारत, ‘स्वच्छ भारत’, देने की दिशा में कुछ-न-कुछ करें | स्वच्छता की दिशा में देशभर में व्यापक स्तर पर प्रयास हो रहा है | ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में व्यापक जन-भागीदारी से भी परिवर्तन नज़र आने लगा है | शहरी क्षेत्रों में स्वच्छता के स्तर की उपलब्धियों का आकलन करने के लिए आगामी 4 जनवरी से 10 मार्च 2018 के बीच दुनिया का सबसे बड़ा सर्वे ‘स्वच्छ सर्वेक्षण 2018’ किया जाएगा | ये सर्वे , चार हज़ार से भी अधिक शहरों में लगभग चालीस (40) करोड़ आबादी में किया जाएगा | इस सर्वे में जिन तथ्यों का आकलन किया जाएगा उनमें हैं – शहरों में खुले में शौच से मुक्ति, कूड़े का कलेक्शन, कूड़े को उठा कर ले जाने के लिए परिवहन की व्यवस्था, वैज्ञानिक तरीक़े से कूड़े की processing, behavioral change के लिए किए जा रहे प्रयास, capacity building और स्वच्छता के लिए किये गए innovative प्रयास और इस काम के लिए जन-भागीदारी | इस सर्वे के दौरान, अलग-अलग दल जा करके शहरों का inspection करेंगे | नागरिकों से बात करके उनकी प्रतिक्रिया लेंगे | स्वच्छता App के उपयोग का तथा विभिन्न प्रकार के सेवा-स्थलों में सुधार का analysis करेंगे | इसमें यह भी देखा जाएगा कि क्या ऐसी सारी व्यवस्था शहरों के द्वारा बनायी गई हैं जिनसे शहर की स्वच्छता एक जन-जन का स्वभाव बने, शहर का स्वभाव बन जाए | स्वच्छता, सिर्फ़ सरकार करे ऐसा नहीं | हर नागरिक एवं नागरिक संगठनों की भी बहुत बड़ी ज़िम्मेवारी है | और मेरी हर नागरिक से अपील है कि वे, आने वाले दिनों में जो स्वच्छता-सर्वे होने वाला है उसमें बढ़-चढ़ करके भाग लें | और आपका शहर पीछे न रह जाए, आपका गली-मोहल्ला पीछे न रह जाए - इसका बीड़ा उठाएं | मुझे पूरा विश्वास है कि घर से सूखा-कूड़ा और गीला-कूड़ा, अलग-अलग करके नीले और हरे dustbin का उपयोग, अब तो आपकी आदत बन ही गई होगी | कूड़े के लिए reduce, re-use  और re-cycle का सिद्धांत बहुत क़ारगर होता है | जब शहरों की ranking इस सर्वे के आधार पर की जाएगी - अगर आपका शहर एक लाख से अधिक आबादी का है  तो पूरे देश की ranking में, और एक लाख से कम आबादी का है तो क्षेत्रीय ranking में ऊँचे-से-ऊँचा स्थान प्राप्त करे, ये आपका सपना होना चाहिए, आपका प्रयास होना चाहिए | 4 जनवरी से 10 मार्च 2018,  इस बीच होने वाले स्वच्छता-सर्वेक्षण में, स्वच्छता के इस healthy competition में आप कहीं पिछड़ न जाएँ - ये हर नगर में एक सार्वजनिक चर्चा का विषय बनना चाहिए | और आप सब का सपना होना चाहिए, ‘हमारा शहर- हमारा प्रयास’, ‘हमारी प्रगति-देश की प्रगति’ | आइए, इस संकल्प के साथ हम सब फिर से एक बार पूज्य बापू का स्मरण करते हुए स्वच्छ-भारत का संकल्प लेते हुए पुरुषार्थ की पराकाष्ठा करें |
मेरे प्यारे देशवासियो, कुछ बातें ऐसी होती हैं जो दिखने में बहुत छोटी लगती हैं लेकिन एक समाज के रूप में हमारी पहचान पर दूर-दूर तक प्रभाव डालती रहती हैं | आज ‘मन की बात’ के इस कार्यक्रम के माध्यम से मैं आपके साथ ऐसी एक बात share करना चाहता हूँ | हमारी जानकारी में एक बात आयी कि यदि कोई मुस्लिम महिला, हज-यात्रा के लिए जाना चाहती है तो वह ‘महरम’ या अपने male guardian के बिना नहीं जा सकती है | जब मैंने इसके बारे में पहली बार सुना तो मैंने सोचा कि ऐसा कैसे हो सकता है? ऐसे नियम किसने बनाए होंगें? ये discrimination क्यों? और मैं जब उसकी गहराई में गया तो मैं हैरान हो गया - आजादी के सत्तर (70) साल के बाद भी ये restriction लगाने वाले हम ही लोग थे | दशकों से मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय हो रहा था लेकिन कोई चर्चा ही नहीं थी | यहाँ तक कि कई इस्लामिक देशों में भी यह नियम नहीं है | लेकिन भारत में मुस्लिम महिलाओं को यह अधिकार प्राप्त नहीं था | और मुझे खुशी है कि हमारी सरकार ने इस पर ध्यान दिया | हमारी Ministry of Minority Affairs ने आवश्यक कदम भी उठाए और ये सत्तर(70) साल से चली आ रही परंपरा को नष्ट कर के इस restriction को हमने हटा दिया | आज मुस्लिम महिलाएँ, ‘महरम’ के बिना हज के लिए जा सकती हैं और मुझे खुशी है कि इस बार लगभग तेरह सौ (1300) मुस्लिम महिलाएँ ‘महरम’ के बिना हज जाने के लिए apply कर चुकी हैं और देश के अलग-अलग भागों से- केरल से ले करके उत्तर तक महिलाओं ने बढ़-चढ़ करके हज-यात्रा करने की इच्छा ज़ाहिर की है | अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय को मैंने सुझाव दिया है कि वो यह सुनिश्चित करें कि ऐसी सभी महिलाओं को हज जाने की अनुमति मिले जो अकेले apply कर रही हैं | आमतौर पर हज-यात्रियों के लिए lottery system है लेकिन मैं चाहूँगा कि अकेली महिलाओं को इस lottery system से बाहर रखा जाए और उनको special category में अवसर दिया जाए | मैं पूरे विश्वास से कहता हूँ और ये मेरी दृढ़ मान्यता है कि भारत की विकास यात्रा, हमारी नारी-शक्ति के बल पर, उनकी प्रतिभा के भरोसे आगे बढ़ी है और आगे बढ़ती रहेगी | हमारा निरंतर प्रयास होना चाहिए कि हमारी महिलाओं को भी पुरुषों के बराबर समान अधिकार मिले, समान अवसर मिले ताकि वे भी प्रगति के मार्ग पर एक-साथ आगे बढ़ सकें |
मेरे प्यारे देशवासियो, 26 जनवरी हमारे लिए एक ऐतिहासिक-पर्व है | लेकिन इस वर्ष 26 जनवरी 2018 का दिन, विशेष रूप से याद रखा जाएगा | इस वर्ष गणतंत्र-दिवस समारोह के लिए सभी दस आसियान (ASEAN) देशों के नेता मुख्य-अतिथि के रूप में भारत आएँगे | गणतंत्र-दिवस पर इस बार ‘एक’ (1) नहीं बल्कि ‘दस’ (10) मुख्य अतिथि होंगे | ऐसा भारत के इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ है | 2017, आसियान (ASEAN) के देश और भारत,दोनों के लिए ख़ास रहा है | आसियान (ASEAN) ने 2017 में अपने 50 वर्ष पूरे किए और 2017 में ही आसियान (ASEAN) के साथ भारत की साझेदारी के 25 वर्ष भी पूरे हुए हैं | 26 जनवरी को विश्व के 10 देशों के इन महान नेताओं का एक साथ शरीक़ होना हम सभी भारतीयों के लिए गर्व की बात है |
प्यारे देशवासियो, ये त्योहारों का season है | वैसे तो हमारा देश एक प्रकार से त्योहारों का देश है | शायद ही कोई दिवस ऐसा होगा जिसके नाम कोई त्योहार न लिखा गया हो | अभी हम सभी ने क्रिसमस मनाया है और आगे नया-वर्ष आने वाला है | आने वाला नव- वर्ष आप सभी के लिए ढ़ेरों खुशियाँ, सुख और समृद्धि ले करके आए | हम सब नए जोश, नए उत्साह, नए उमंग और नए संकल्प के साथ आगे बढ़ें, देश को भी आगे बढाएँ | जनवरी का महीना सूर्य के उत्तरायण होने का काल है और इसी महीने में मकर-संक्रांति मनायी जाती है | यह प्रकृति से जुड़ा पर्व है | वैसे तो हमारा हर पर्व किसी-न-किसी रूप में प्रकृति से जुड़ा हुआ है लेकिन विविधताओं से भरी हमारी संस्कृति में,प्रकृति की इस अद्भुत घटना को अलग-अलग रूप में मनाने की प्रथा भी है | पंजाब और उत्तर-भारत में लोहड़ी का आनंद होता है तो यू.पी.-बिहार में खिचड़ी और तिल-संक्रांति की प्रतीक्षा रहती है | राजस्थान में संक्रांत कहें, असम में माघ-बिहू या तमिलनाडु में पोंगल - ये सभी त्योहार अपने आप में विशेष हैं और इनका अपना-अपना महत्व है | यह सभी त्योहार प्राय: 13 से 17 जनवरी के बीच में मनाए जाते हैं | इन सभी त्योहारों के नाम अलग-अलग, लेकिन इनका मूल-तत्व एक ही है - प्रकृति और कृषि से जुड़ाव | 
सभी देशवासियो को इन त्योहारों की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ हैं | एक बार फिर से आप सभी को नव-वर्ष 2018 की ढ़ेरों शुभकामनाएँ |
बहुत-बहुत धन्यवाद प्यारे देशवासियो | अब 2018 में फिर से बात करेंगे|
धन्यवाद |
*****