Thursday, 9 August 2018

India at AIBD Helm for Next Two years

Some cheery news reached our shores from Sri Lanka on the evening of August 3. India had just been elected President of the Asia Pacific Institute for Broadcasting Development (AIBD). Representing India is none other than the Director General of All India Radio and a distinguished broadcaster,
Shri Fayyaz Sheheryar.



AIBD was in the midst of its 3-day 44 th Annual Gathering and 17 th General Conference plus Associated Meetings in Colombo.

We are happy to share that this is the first time this honour has come to India.

The elections saw Shri Sheheryar, then Chair of the Executive Board of AIBD, and representing India, pitted against Iran. The voting that took place on the side-lines of the 17th General Conference of AIBD in Colombo, also saw Sri Lanka being appointed as the Vice-Chair.

We learnt that Shri Sheheryar would take over from Dr Abbas Naseri Taheri of the Islamic Republic of Iran Broadcasting (IRIB), Iran for a period of two years. We are confident that India will chart a positive path for the broadcasting organization.

We are also hopeful that Shri Sheheryar’s vision and dynamism will help the country in leveraging itself as the broadcasting and media hub in Asia Pacific region.

It may be mentioned that the parent organisation of AIBD – the Asia Pacific Broadcasting Union (ABU) is also headed by an Indian – Supriya Sahu who is the Director General of Doordarshan.

Sharmila Goswami: India’s Tricolour flies high at
AIBD’s General Conference
The event at Colombo saw other India moments too with AIR's programme "Slum to Glory" sweeping the prestigious AIBD Awards 2018 in the category ‘Best Radio Programme on Diversity through Sports’. The programme was produced by Sharmila Goswami, Programme Executive at the National Channel of AIR.

Earlier this year, India hosted AIBD’s prestigious annual event – Asia Media Summit 2018 which was organised jointly by the Ministry of Information & Broadcasting, Indian Institute of Mass
Communication and Broadcast Engineering Consultants India Ltd. (BECIL) in New Delhi from
10th to 12th May, 2018.

Sharmila Goswami: India’s Tricolour flies high at AIBD’s General Conference

The success of this event found mention in the report of AIBD during its 44th Annual Gathering with mandarins of the Institute and the participants lauding the manner in which the Summit was held in Delhi.

AIBD is a unique regional inter-governmental organisation servicing countries of the United Nations Economic and Social Commission for Asia and the Pacific (UN-ESCAP) in the field of electronic media development. It is mandated to achieve a vibrant and cohesive electronic media environment in the Asia-Pacific region through policy and resource development.



The Institute seeks to fulfil this mandate by mobilizing the intellectual and technological resources available within the national broadcasting organizations of its member countries as well as regional and international bodies through a well-established infrastructure and networking mechanism which includes government agencies, non-governmental organizations, institutions of higher learning, and the private sector and individual professionals.


AIBD is an organisation of 26 full-time member countries represented by 45 broadcasters, according to the organization's website. It was established in 1977 under the auspices of UNESCO.

It is located in the picturesque metropolis of Kuala Lumpur, the capital of Malaysia.

Thursday, 2 August 2018

Father of Chemical Sciences in India – Prafulla Chandra Ray

Today is the 157th birth anniversary of Prafulla Chandra Ray who is widely regarded as the father of chemical science in India. Born in Jessore district of Bengal Presidency now in Bangladesh), Ray was a chemist, an educationist, a historian, an industrialist and a philanthropist.





Born in a wealthy family, Ray's father was a Zamindar and had six children. Ray enrolled at the Hare School in Calcutta in the year 1870, but, had to drop-out in 1874 owing to a severe attack of dysentery. It was during his recovery at his ancestral home that he developed love for literature. While recovering, he studied Bengali, Greek, Latin, French, Sanskrit and English. Continuing his education, he enrolled at the Metropolitan Institution as a First Arts(FA) student and later as a BA student at the University of Calcutta. It was while he was pursuing his BA, he applied for a scholarship to study B.Sc at the University of Edinburgh and won the scholarship and sailed for UK in 1882.

Ray completed his B.Sc and D.Sc from University of Edinburgh and was awarded the Hope Prize to continue his research after his
doctorate. Later on his arrival in India, he started the Bengal Chemical Pharmaceutical Company with a seed capital of Rs 700.  At the same time, he continued his research at the Presidency College and mentored acclaimed scientists like Satyendranath Bose, Meghnad Saha and Jnan Chandra Ghosh.

After meeting Gandhi in 1901, Ray developed great reverence for Gandhi. Ray contributed generously to the rehabilitation of the Northern Bengal flood victims by organising Bengal Relief Committee which collected nearly 2.5 million rupees for the welfare of affected citizens.

He was knighted in 1912 and appointed a fellow to Indian Association for the Cultivation of Science in 1943. With knowledge of many languages including Sanskrit, Ray wrote a two volume work titled A History of Hindu Chemistry from the Earliest Times to the Middle of Sixteenth Century which was published in 1902.

In his life, Ray set many milestones and inspired his fellow beings to achieve excellence in life. A man with a wide variety of interests, Ray set a benchmark for the Indians and contributed wholly to the good of mankind.

Sunday, 29 July 2018

‘मन की बात’: प्रसारण तिथि: 29.07.2018


मेरे प्यारे देशवासियो, नमस्कार ! इन दिनों बहुत से स्थान पर अच्छी वर्षा की ख़बरें आ रही हैं | कहीं-कहीं पर अधिक वर्षा के कारण चिन्ता की भी ख़बर आ रही है और कुछ स्थानों पर अभी भी लोग वर्षा की प्रतीक्षा कर रहे हैं | भारत की विशालता, विविधता, कभी-कभी वर्षा भी पसंद-नापसंद का रूप दिखा देती है, लेकिन हम वर्षा को क्या दोष दें, मनुष्य ही है जिसने प्रकृति से संघर्ष का रास्ता चुन लिया और उसी का नतीज़ा है कि कभी-कभी प्रकृति हम पर रूठ जाती है| और इसीलिये हम सबका दायित्व बनता है – हम प्रकृति प्रेमी बनें, हम प्रकृति के रक्षक बनें, हम प्रकृति के संवर्धक बनें, तो प्रकृतिदत्त जो चीज़े हैं उसमें संतुलन अपने आप बना रहता है | 


पिछले दिनों वैसे ही एक प्राकृतिक आपदा की घटना ने पूरे विश्व का ध्यान आकर्षित किया, मानव-मन को झकझोर दिया | आप सब लोगों ने टी.वी. पर देखा होगा, थाईलैंड में 12 किशोर फुटबॉल खिलाड़ियों की टीम और उनके coach घूमने के लिए गुफ़ा में गए | वहाँ आमतौर पर गुफ़ा में जाने और उससे बाहर निकलने, उन सबमें कुछ घंटों का समय लगता है | लेकिन उस दिन किस्मत को कुछ और ही मंज़ूर था | जब वे गुफ़ा के भीतर काफी अन्दर तक चले गए – अचानक भारी बारिश के कारण गुफ़ा के द्वार के पास काफी पानी जम गया | उनके बाहर निकलने का रास्ता बंद हो गया | कोई रास्ता न मिलने के कारण वे गुफ़ा के अन्दर के एक छोटे से टीले पर रुके रहे - और वो भी एक-दो दिन नहीं – 18 दिन तक ! आप कल्पना कर सकते हैं किशोर अवस्था में सामने जब मौत दिखती हो और पल-पल गुजारनी पड़ती हो तो वो पल कैसे होंगे ! एक तरफ वो संकट से जूझ रहे थे, तो दूसरी तरफ पूरे विश्व में मानवता एकजुट होकर के ईश्वरदत्त मानवीय गुणों को प्रकट कर रही थी | दुनिया भर में लोग इन बच्चों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए प्रार्थनाएँ कर रहे थे | यह पता लगाने का हर-संभव प्रयास किया गया कि बच्चे हैं कहाँ !, किस हालत में हैं ! उन्हें कैसे बाहर निकाला जा सकता है ! अगर बचाव कार्य समय पर नहीं हुआ तो मानसून के season में उन्हें कुछ महीनों तक निकालना संभव नहीं होता | खैर जब अच्छी ख़बर आयी तो दुनिया भर को शान्ति हुई, संतोष हुआ, लेकिन इस पूरे घटनाक्रम को एक और नज़रिये से भी देखने का मेरा मन करता है कि पूरा operation कैसा चला ! हर स्तर पर ज़िम्मेवारी का जो अहसास हुआ वो अद्भुत था | सभी ने, चाहे सरकार हो, इन बच्चों के माता-पिता हों, उनके परिवारजन हों, media हो, देश के नागरिक हों - हर किसी ने शान्ति और धैर्य का अदभुत आचरण करके दिखाया | सबके-सब लोग एक team बनकर अपने mission में जुटे हुए थे | हर किसी का संयमित व्यवहार – मैं समझता हूँ एक सीखने जैसा विषय है, समझने जैसा है | ऐसा नहीं कि माँ-बाप दुखी नहीं हुए होंगे, ऐसा नहीं कि माँ के आँख से आँसूं नहीं निकलते होंगे, लेकिन धैर्य, संयम, पूरे समाज का शान्तचित्त व्यवहार - ये अपने आप में हम सबके लिए सीखने जैसा है | इस पूरे operation में थाईलैंड की नौसेना के एक जवान को अपनी जान भी गँवानी पड़ी | पूरा विश्व इस बात पर आश्चर्यचकित है कि इतनी कठिन परिस्थितियों के बावज़ूद पानी से भरी एक अंधेरी गुफ़ा में इतनी बहादुरी और धैर्य के साथ उन्होंने अपनी उम्मीद नहीं छोड़ी | यह दिखाता है कि जब मानवता एक साथ आती है, अदभुत चीज़ें होती हैं | बस ज़रूरत होती है हम शांत और स्थिर मन से अपने लक्ष्य पर ध्यान दें, उसके लिए काम करते रहें | 

पिछले दिनों हमारे देश के प्रिय कवि नीरज जी हमें छोड़कर के चले गए | नीरज जी की एक विशेषता रही थी - आशा, भरोसा, दृढसंकल्प, स्वयं पर विश्वास | हम हिन्दुस्तानियों को भी नीरज जी की हर बात बहुत ताक़त दे सकती है , प्रेरणा दे सकती है - उन्होंने लिखा था - 
‘अँधियार ढलकर ही रहेगा, 
आँधियाँ चाहे उठाओ,
बिजलियाँ चाहे गिराओ,
जल गया है दीप तो अँधियार ढलकर ही रहेगा’|

नीरज जी को आदरपूर्वक श्रद्धांजलि देता हूँ | 

 “नमस्ते प्रधानमंत्री जी मेरा नाम सत्यम है | मैंने इस साल Delhi University में 1st Year में admission लिया है | हमारे school के board exams के समय आपने हमसे exams stress  और education की बात की थी |  मेरे जैसे students के लिए अब आपका क्या सन्देश है |” 

वैसे तो जुलाई और अगस्त के महीने किसानों के लिए और सभी नौजवानों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं| क्योंकि यही वक़्त होता है जब colleges का peak season होता है | ‘सत्यम’ जैसे लाखों युवा स्कूल से निकल करके colleges में जाते हैं | अगर फरवरी और मार्च exams, papers, answers में जाता है तो अप्रैल और मई छुट्टियों में मौज़मस्ती करने के साथ-साथ results, जीवन में आगे की दिशाएँ तय करने, carrier choice इसी में खप जाता है | जुलाई वह महीना है जब युवा अपने जीवन के उस नये चरण में क़दम रखते हैं जब focus questions से हटकर के cut-off पर चला जाता है | छात्रों का ध्यान home से hostel पर चला जाता है | छात्र parents की छाया से professors की छाया में आ जाते हैं | मुझे पूरा यकीन है कि मेरा युवा-मित्र college जीवन की शुरुआत को लेकर काफी उत्साही और खुश होंगे | पहली बार घर से बाहर जाना, गाँव से बाहर जाना, एक protective environment से बाहर निकल करके खुद को ही अपना सारथी बनना होता है | इतने सारे युवा पहली बार अपने घरों को छोड़कर, अपने जीवन को एक नयी दिशा देने निकल आते हैं | कई छात्रों ने अभी तक अपने-अपने college join कर लिए होंगे, कुछ join करने वाले होंगे | आप लोगों से मैं यही कहूँगा be calm, enjoy life, जीवन में अन्तर्मन का भरपूर आनंद लें | किताबों के बिना कोई चारा तो नहीं है, study तो करना पड़ता है, लेकिन नयी-नयी चीजें खोज़ने की प्रवृति बनी रहनी चाहिए | पुराने दोस्तों का अपना महामूल्य है | बचपन के दोस्त मूल्यवान होते हैं, लेकिन नये दोस्त चुनना, बनाना और बनाए रखना, यह अपने आप में एक बहुत बड़ी समझदारी का काम होता है | कुछ नया सीखें, जैसे नयी-नयी skills, नयी-नयी भाषाएँ सीखें | जो युवा अपने घर छोड़कर बाहर किसी और जगह पर पढ़ने गए हैं उन जगहों को discover करें, वहाँ के बारे में जानें, वहाँ के लोगों को, भाषा को, संस्कृति को जानें, वहाँ के पर्यटन स्थल होंगे - वहाँ जाएँ, उनके बारे में जानें | नयी पारी प्रारम्भ कर रहे हैं सभी नौजवानों को मेरी शुभकामनाएं हैं | अभी जब college season की बात हो रही है तो मैं News में देख रहा था कि कैसे मध्यप्रदेश के एक अत्यंत ग़रीब परिवार से जुड़े एक छात्र आशाराम चौधरी ने जीवन की मुश्किल चुनौतियों को पार करते हुए सफ़लता हासिल की है | उन्होंने जोधपुर AIIMS की MBBS की परीक्षा में अपने पहले ही प्रयास में सफ़लता पायी है | उनके पिता कूड़ा बीनकर अपने परिवार का पालन-पोषण करते हैं | मैं उनकी इस सफ़लता के लिए उन्हें बधाई देता हूँ | ऐसे कितने ही छात्र हैं जो ग़रीब परिवार से हैं और विपरीत परिस्थियों के बावज़ूद अपनी मेहनत और लगन से उन्होंने कुछ ऐसा कर दिखाया है, जो हम सबको प्रेरणा देता है | चाहे वो दिल्ली के प्रिंस कुमार हों, जिनके पिता DTC में बस चालक हैं या फिर कोलकाता के अभय गुप्ता जिन्होंने फुटपाथ पर street lights के नीचे अपनी पढ़ाई की | अहमदाबाद की बिटिया आफरीन शेख़ हो, जिनके पिता auto rickshaw चलाते हैं | नागपुर की बेटी खुशी हो, जिनके पिता भी स्कूल बस में driver हैं या हरियाणा के कार्तिक, जिनके पिता चौकीदार हैं या झारखण्ड के रमेश साहू जिनके पिता ईंट-भट्टा में मजदूरी करते हैं | ख़ुद रमेश भी मेले में खिलौना बेचा करते थे या फिर गुडगाँव की दिव्यांग बेटी अनुष्का पांडा, जो जन्म से ही spinal muscular atrophy नामक एक आनुवांशिक बीमारी से पीड़ित है, इन सबने अपने दृढसंकल्प और हौसले से हर बाधा को पार कर – दुनिया देखे ऐसी कामयाबी हासिल की | हम अपने आस-पास देखें तो हमको ऐसे कई उदाहरण मिल जाएँगे | 

देश के किसी भी कोने में कोई भी अच्छी घटना मेरे मन को ऊर्जा देती है, प्रेरणा देती है और जब इन नौजवानों की कथा आपको कह रहा हूँ तो इसके साथ मुझे नीरज जी की भी वो बात याद आती है और ज़िंदगी का वही तो मक़सद होता है | नीरज जी ने कहा है –

‘गीत आकाश को धरती का सुनाना है मुझे, 
         हर अँधेरे को उजाले में बुलाना है मुझे,
         फूल की गंध से तलवार को सर करना है,
और गा-गा के पहाड़ों को जगाना है मुझे’ 

   मेरे प्यारे देशवासियो, कुछ दिन पहले मेरी नज़र एक न्यूज़ पर गई, लिखा था - ‘दो युवाओं ने किया मोदी का सपना साकार’ | जब अन्दर पढ़ा तो जाना कि कैसे आज हमारे युवा Technology का smart और creative use करके सामान्य व्यक्ति के जीवन में बदलाव का प्रयास करते हैं | घटना यह थी कि एक बार अमेरिका के San Jose शहर, जिसे Technology Hub के रूप में जाना जाता है | वहाँ मैं भारतीय युवाओं के साथ चर्चा कर रहा था | मैंने उनसे अपील की थी | वो भारत के लिए अपने talent को कैसे use कर सकते हैं, ये सोचें और समय निकाल कर के कुछ करें | मैंने Brain-Drain को Brain-Gain में बदलने की अपील की थी | रायबरेली के दो IT Professionals, योगेश साहू जी और रजनीश बाजपेयी जी ने मेरी इस चुनौती को स्वीकार करते हुए एक अभिनव प्रयास किया | अपने professional skills का उपयोग करते हुए योगेश जी और रजनीश जी ने मिलकर एक SmartGaon App तैयार किया है | ये App न केवल गाँव के लोगों को पूरी दुनिया से जोड़ रहा है बल्कि अब वे कोई भी जानकारी और सूचना स्वयं खुद के मोबाइल पर ही प्राप्त कर सकते हैं | रायबरेली के इस गाँव तौधकपुर के निवासियों, ग्राम-प्रधान, District Magistrate, CDO, सभी लोगों ने इस App के उपयोग के लिए लोगों को जागरूक किया | यह App गाँव में एक तरह से Digital क्रांति लाने का काम कर रहा है | गाँव में जो विकास के काम होते हैं, उसे इस App के ज़रिये record करना, track करना, monitor करना आसान हो गया है | इस App में गाँव की phone directory, News section, events list, health centre और Information centre मौजूद है | यह App किसानों के लिए भी काफी फायदेमंद है App का Grammar feature, किसानों के बीच FACT rate, एक तरह से उनके उत्पाद के लिए एक Market Place की तरह काम करता है | इस घटना को यदि आप बारीकी से देखेंगे तो एक बात ध्यान में आएगी वह युवा अमेरिका में, वहाँ के रहन-सहन, सोच-विचार उसके बीच जीवन जी रहा है | कई सालों पहले भारत छोड़ा होगा लेकिन फिर भी अपने गाँव की बारीकियों को जानता है, चुनौतियों को समझता है और गाँव से emotionally जुड़ा हुआ है | इस कारण, वह शायद गाँव को जो चाहिए ठीक उसके अनुरूप कुछ बना पाया | अपने गाँव, अपनी जड़ों  से यह जुड़ाव और वतन के लिए कुछ कर दिखाने का भाव हर हिन्दुस्तानी के अन्दर स्वाभाविक रूप से होता है | लेकिन कभी-कभी समय के कारण, कभी दूरियों के कारण, कभी पारिस्थितियों के कारण, उस पर एक हल्की सी राख जम जाती है, लेकिन अगर कोई एक छोटी सी चिंगारी भी, उसका स्पर्श हो जाए तो सारी बातें फिर एक बार उभर करके आ जाती हैं और वो अपने बीते हुए दिनों की तरफ खींच के ले आती हैं | हम भी ज़रा जाँच कर लें कहीं हमारे case में भी तो ऐसा नहीं हुआ है, स्थितियाँ, परिस्थिति, दूरियों ने कहीं हमें अलग तो नहीं कर दिया है, कहीं राख तो नहीं जम गई है | जरुर सोचिये |          
 “आदरणीय प्रधानमंत्री जी नमस्कार, मैं संतोष काकड़े कोल्हापुर, महाराष्ट्र से बात कर रहा हूँ | पंढरपुर की वारी ये महाराष्ट्र की पुरानी परंपरा है |  हर साल ये बड़े उत्साह और उमंग से मनाया जाता है | लगभग 7-8 लाख वारकरी इसमें शामिल होते हैं | इस अनोखे उपक्रम के बारे में देश की बाकी जनता भी अवगत हो, इसलिए आप वारी के बारे और जानकारी दीजिये |”
         संतोष जी आपके Phone Call  के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद |
सचमुच में पंढरपुर वारी अपने आप में एक अद्भुत यात्रा है | साथियों आषाढ़ी एकादशी जो इस बार 23 जुलाई, को थी उस दिन को पंढरपुर वारी की भव्य परिणिति के रूप में भी मनाया जाता है | पंढरपुर महाराष्ट्र के सोलापुर जिले का एक पवित्र शहर है | आषाढ़ी एकादशी के लगभग 15-20 दिन पहले से ही वारकरी यानी तीर्थयात्री पालकियों के साथ पंढरपुर की यात्रा के लिए पैदल निकलते हैं | इस यात्रा, जिसे वारी कहते हैं, में लाखों की संख्या में वारकरी शामिल होते हैं | संत ज्ञानेश्वर और संत तुकाराम जैसे महान संतों की पादुका, पालकी में रखकर विट्ठल-विट्ठल गाते, नाचते, बजाते पैदल पंढरपुर की ओर चल पड़ते हैं | यह वारी शिक्षा, संस्कार और श्रद्धा की त्रिवेणी है | तीर्थ यात्री भगवान विट्ठल, जिन्हें  विठोवा या पांडुरंग भी कहा जाता है उनके दर्शन के लिए वहाँ पहुँचते हैं | भगवान विट्ठल ग़रीबों, वंचितों, पीड़ितों के हितों की रक्षा करते हैं | महाराष्ट्र, कर्नाटक, गोवा, आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना वहाँ के लोगों में अपार श्रद्धा है, भक्ति है | पंढरपुर में विठोवा मंदिर जाना और वहाँ की महिमा, सौन्दर्य, आध्यात्मिक आनंद का अपना एक अलग ही अनुभव है | ‘मन की बात’ के श्रोताओं से मेरा आग्रह है कि अवसर मिले तो एक बार ज़रूर पंढरपुर वारी का अनुभव लें | ज्ञानेश्वर, नामदेव, एकनाथ, रामदास, तुकाराम - अनगिनत संत महाराष्ट्र में आज भी जन-सामान्य को शिक्षित कर रहे हैं | अंधश्रद्धा के खिलाफ लड़ने की ताकत दे रहे हैं और हिंदुस्तान के हर कोने में यह संत परंपरा प्रेरणा देती रही है | चाहे वो उनके भारुड हो या अभंग हो हमें उनसे सदभाव, प्रेम और भाईचारे का महत्वपूर्ण सन्देश मिलता है | अंधश्रद्धा के खिलाफ श्रद्धा के साथ समाज लड़ सके इसका मंत्र मिलता है | ये वो लोग थे जिन्होंने समय-समय पर समाज को रोका, टोका और आईना भी दिखाया और यह सुनिश्चित किया कि पुरानी कुप्रथाएँ हमारे समाज से खत्म हों और लोगों में करुणा, समानता और शुचिता के संस्कार आएं | हमारी यह भारत-भूमि बहुरत्ना वसुंधरा है जैसे संतों की एक महान परंपरा हमारे देश में रही, उसी तरह से सामर्थ्यवान माँ-भारती को समर्पित महापुरुषों ने, इस धरती को अपना जीवन आहुत कर दिया, समर्पित कर दिया | एक ऐसे ही महापुरुष हैं लोकमान्य तिलक जिन्होंने अनेक भारतीयों के मन में अपनी गहरी छाप छोड़ी है | हम 23 जुलाई, को तिलक जी की जयंती और 01 अगस्त, को उनकी पुण्यतिथि में उनका पुण्य स्मरण करते हैं | लोकमान्य तिलक साहस और आत्मविश्वास से भरे हुए थे | उनमें ब्रिटिश शासकों को उनकी गलतियों का आईना दिखाने की शक्ति और बुद्धिमत्ता थी | अंग्रेज़ लोकमान्य तिलक से इतना अधिक डरे हुए थे कि उन्होंने 20 वर्षों में उन पर तीन बार राजद्रोह लगाने की कोशिश की, और यह कोई छोटी बात नहीं है | मैं, लोकमान्य तिलक और अहमदाबाद में उनकी एक प्रतिमा के साथ जुड़ी हुई एक रोचक घटना आज देशवासियों के सामने रखना चाहता हूँ | अक्टूबर, 1916 में लोकमान्य तिलक जी अहमदाबाद जब आए, उस ज़माने में, आज से क़रीब सौ साल पहले 40,000 से अधिक लोगों ने उनका अहमदाबाद में स्वागत किया था और यहीं यात्रा के दौरान सरदार वल्लभ भाई पटेल को उनसे बातचीत करने का अवसर मिला था और सरदार वल्लभ भाई पटेल लोकमान्य तिलक जी से अत्यधिक प्रभावित थे और जब 01 अगस्त, 1920 को लोकमान्य तिलक जी का देहांत हुआ तभी उन्होंने निर्णय कर लिया था कि वे अहमदाबाद में उनका स्मारक बनाएंगे | सरदार वल्लभ भाई पटेल अहमदाबाद नगर पालिका के Mayor  चुने गए और तुरंत ही उन्होंने लोकमान्य तिलक के स्मारक के लिए Victoria Garden  को चुना और यह Victoria Garden जो ब्रिटेन की महारानी के नाम पर था | स्वाभाविक रूप से ब्रिटिश इससे अप्रसन्न थे और Collector इसके लिए अनुमति देने से लगातार मना करता रहा लेकिन सरदार साहब, सरदार साहब थे | वह अटल थे और उन्होंने कहा था कि भले ही उन्हें पद त्यागना पड़े, लेकिन लोकमान्य तिलक जी की प्रतिमा बन कर रहेगी | अंततः प्रतिमा बन कर तैयार हुई और सरदार साहब ने किसी और से नहीं बल्कि 28 फरवरी, 1929 - इसका उद्घाटन महात्मा गाँधी से कराया और सब से बड़ी मज़े की बात है उस उद्घाटन समारोह में, उस भाषण में पूज्य बापू ने कहा कि सरदार पटेल के आने के बाद अहमदाबाद नगर पालिका को न केवल एक व्यक्ति मिला है बल्कि उसे वह हिम्मत भी मिली है जिसके चलते तिलक जी की प्रतिमा का निर्माण संभव हो पाया है | और मेरे प्यारे देशवासियो, इस प्रतिमा की विशिष्टता यह है कि यह तिलक की ऐसी दुर्लभ मूर्ति है जिसमें वह एक कुर्सी पर बैठे हुए हैं, इसमें तिलक के ठीक नीचे लिखा है ‘स्वराज हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है’ और यह सब अंग्रेजों के इस कालखंड की बात तो सुना रहा हूँ | लोकमान्य तिलक जी के प्रयासों से ही सार्वजनिक गणेश उत्सव की परंपरा शुरू हुई | सार्वजनिक गणेश उत्सव परम्परागत श्रद्धा और उत्सव के साथ-साथ समाज-जागरण, सामूहिकता, लोगों में समरसता और समानता के भाव को आगे बढ़ाने का एक प्रभावी माध्यम बन गया था | वैसे समय वो एक कालखंड था जब जरुरत थी कि देश अंग्रेजों के खिलाफ़ लड़ाई के लिए एकजुट हो, इन उत्सवों ने जाति और सम्प्रदाय की बाधाओं को तोड़ते हुए सभी को एकजुट करने का काम किया | समय के साथ इन आयोजनों की popularity बढ़ती गई | इसी से पता चलता है कि हमारी प्राचीन विरासत और इतिहास के हमारे वीर नायकों के प्रति आज भी हमारी युवा-पीढ़ी में craze है | आज कई शहरों में तो ऐसा होता है कि आपको लगभग हर गली में गणेश-पंडाल देखने को मिलता है | गली के सभी परिवार साथ मिलकर के उसे organize करते हैं | एक team के रूप में काम करते हैं | यह हमारे युवाओं के लिए भी एक बेहतरीन अवसर है, जहाँ वे leadership और organization जैसे गुण सीख सकते हैं, उन्हें खुद के अन्दर विकसित कर सकते हैं   |

मेरे प्यारे देशवासियो ! मैंने पिछली बार भी आग्रह किया था और जब लोकमान्य तिलक जी को याद कर रहा हूँ तब फिर से एक बार आपसे आग्रह करूँगा कि इस बार भी हम गणेश उत्सव मनाएँ, धूमधाम से मनाएँ, जी-जान से मनाएँ लेकिन eco-friendly गणेश उत्सव मनाने का आग्रह रखें | गणेश जी की मूर्ति से लेकर साज-सज्जा का सामान सब कुछ eco-friendly हो और मैं तो चाहूँगा हर शहर में eco friendly गणेश उत्सव की अलग स्पर्धाएँ हों, उनको इनाम दिए जाएँ और मैं तो चाहूँगा कि MyGov पर भी और Narendra Modi App पर भी eco-friendly गणेश-उत्सव की चीज़े व्यापक प्रचार के लिए रखी जाएँ | मैं ज़रूर आपकी बात लोगों तक पहुँचाऊँगा | लोकमान्य तिलक ने देशवासियों में आत्मविश्वास जगाया उन्होंने नारा दिया था – ‘स्वराज हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है और हम लेकर के रहेंगे’ | आज ये कहने का समय है स्वराज हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है और हम उसे लेकर रहेंगे | हर भारतीय की पहुँच सुशासन और विकास के अच्छे परिणामों तक होनी चाहिए | यही वो बात है जो एक नए भारत का निर्माण करेगी | तिलक के जन्म के 50 वर्षों बाद ठीक उसी दिन यानी 23 जुलाई को भारत-माँ के एक और सपूत का जन्म हुआ, जिन्होंने अपना जीवन इसलिए बलिदान कर दिया ताकि देशवासी आज़ादी की हवा में साँस ले सके | मैं बात कर रहा हूँ चंद्रशेखर आज़ाद की | भारत में कौन-सा ऐसा नौजवान होगा जो इन पंक्तियों को सुनकर के प्रेरित नही होगा – 
 ‘सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है ज़ोर कितना बाज़ु-ए-कातिल में है’

इन पंक्तियों ने अशफाक़ उल्लाह खान, भगत सिंह, चंद्रशेखर आज़ाद जैसे अनेक नौज़वानों को प्रेरित किया | चंद्रशेखर आज़ाद की बहादुरी और स्वतंत्रता के लिए उनका जुनून, इसने कई युवाओं को प्रेरित किया | आज़ाद ने अपने जीवन को दाँव पर लगा दिया, लेकिन विदेशी शासन के सामने वे कभी नहीं झुके | ये मेरा सौभाग्य रहा कि मुझे मध्यप्रदेश में चन्द्रशेखर आज़ाद के गाँव अलीराजपुर जाने का सौभाग्य भी प्राप्त हुआ | इलाहाबाद के चंद्रशेखर आज़ाद पार्क में भी श्रद्धा-सुमन अर्पित करने का अवसर मिला और चंद्रशेखर आज़ाद जी वो वीर पुरुष थे जो विदेशियों की गोली से मरना भी नहीं चाहते थे - जियेंगे तो आज़ादी के लड़ते-लड़ते और मरेंगे तो भी आज़ाद बने रहकर के मरेंगे यही तो विशेषता थी उनकी | एक बार फिर से भारत माता के दो महान सपूतों – लोकमान्य तिलक जी और चंद्रशेखर आज़ाद जी को श्रद्धापूर्वक नमन करता हूँ |
अभी कुछ ही दिन पहले Finland में चल रही जूनियर अंडर-20 विश्व एथेलेटिक्स चैम्पियनशिप में 400 मीटर की दौड़, उस स्पर्धा में भारत की बहादुर बेटी और किसान पुत्री हिमा दास ने गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है | देश की एक और बेटी एकता भयान ने मेरे पत्र के जवाब में इंडोनेशिया से मुझे email किया अभी वो वहाँ Asian Games की तैयारी कर रही हैं | E-mail में एकता लिखती हैं – ‘किसी भी एथलीट के जीवन में सबसे महत्वपूर्ण क्षण वो होता है जब वो तिरंगा पकड़ता है और मुझे गर्व है कि मैंने वो कर दिखाया |’ एकता हम सब को भी आप पर गर्व है | आपने देश का नाम रोशन किया है | Tunisia में विश्व पैरा एथलेटिक्स Grand Prix 2018 में एकता ने Gold और Bronze मेडल जीते हैं | उनकी यह उपलब्धि विशेष इसलिए है कि उन्होंने अपनी चुनौती को ही अपनी कामयाबी का माध्यम बना दिया | बेटी एकता भयान 2003 में, road accident के कारण उसके शरीर का आधा हिस्सा नीचे का हिस्सा नाकाम हो गया, लेकिन इस बेटी ने हिम्मत नही हारी और खुद को मजबूत बनाते हुए ये मुकाम हासिल किया | एक और दिव्यांग योगेश कठुनिया जी ने, उन्होंने Berlin में पैरा एथलेटिक्स Grand Prix में discus throw में गोल्ड मेडल जीतकर world record बनाया है उनके साथ सुंदर सिंह गुर्जर ने भी javelin  में गोल्ड मेडल जीता है | मैं एकता भयान जी, योगेश कठुनिया जी और सुंदर सिंह जी आप सभी के हौसले और ज़ज्बे को सलाम करता हूँ, बधाई देता हूँ | आप और आगे बढ़ें, खेलते रहें, खिलते रहें | 
मेरे प्यारे देशवासियो, अगस्त महीना इतिहास की अनेक घटनाएँ, उत्सवों की भरमार से भरा रहता है, लेकिन मौसम के कारण कभी-कभी बीमारी भी घर में प्रवेश कर जाती है | मैं आप सब को उत्तम स्वास्थ्य के लिए, देशभक्ति की प्रेरणा जगाने वाले, इस अगस्त महीने के लिए और सदियों से चले आ रहे अनेक-अनेक उत्सवों के लिए, बहुत-बहुत शुभकामनाएँ देता हूँ |  फिर एक बार ‘मन की बात’ के लिए ज़रूर मिलेंगे |

Monday, 23 July 2018

Message on #NationalBroadcastingDay by DG AIR, Shri F. Sheheryar

National Broadcasting Day recounts origin of sound broadcasting in India & evolution thereof to serve multitudes who couldn't have witnessed green & white revolution enriching parts of society that eventually added substantially to the Gross Domestic Product especially in those parts of India  which are  known & admired as affluent. 


Sound Broadcasting or All India Radio assumed multifarious responsibilities of propagating, popularizing & conserving heritage in all its hues. Today, if World pays obeisance to India, it's largely for the glory transmitted & interpreted by AIR to the world that is sharply divided by geographies, religions,languages & starkly different life- styles.
AIR was born & it quickly shot up to serve as umbrella not only over ABU, AIBD but EBU, ASBU etc 
God has been kind which is why we find hordes of admirers in the seven continents irrespective of diplomatic acrimony with a handful of them. AIR is & has always been a true mirror that portrays India in its actual shape & stature.

May God continue to bless AIR.


F. Sheheryar
Director General, All India Radio

Wednesday, 18 July 2018

Doyenne of Indian Music: Mubarak Begum


When a 15 or 16 year old girl walked in to record a song - "Mohe Aane Lagi Angrayi" for the Hindi film 'Aiye' which was released in 1949 ,little did anyone know that the girl would go on to become the doyenne of Indian music industry. The girl's name was Mubarak Begum.Today is the death anniversary of Mubarak Begum who passed away on July 18, 2016.


Born in Churu, Rajasthan, she grew up in Ahmedabad. Mubarak started off her career with music recitals for All India Radio(AIR), but, went on to sing over 178 songs in Hindi films. She collaborated with composers like S.D. Burman and Salil Choudhary. She was considered part of a generation that laid impetus on tone, texture and style of singing. Begum was heavily inspired by the singing of Suraiya.



Mubarak Begum lent her voice to evergreen songs like Humari Yaad Aayegi (Hamari Yaad Aayegi;1961), Hum haal-e-dil sunaiyenge (Madhumati;1958) and Devta tum ho mera sahara (Daera;1953). She sung in a number of genres especially Ghazals.

Beloved across the nation,Begum left playback singing many decades ago, but, with evolving tastes and transitions in the movie fraternity, she faded into retirement much early in life necessitated by certain compulsions.

She left for heavenly abode 2 years back, but, the melodious songs she has bestowed upon the country with will remain for people to hear and to enjoy. A face of strong-will, Mubarak Begum's music and legacy will remain itched in the minds of her fans for a long time.

Picture Source: Magnamags



Chetan Thathoo

Tuesday, 17 July 2018

World Day for International Justice : 17 July

The world, today, celebrates International Justice Day. At a Review Conference of the Rome Statute that was held in Kampla in 2010,  July 17 was adopted as the day of International Justice

The story goes back to the adoption of "Rome Statue" - a treaty that created the International Court of Justice(ICC). On July 17, 1998, at a diplomatic conference in the city of Rome, the statue was  adopted and the same came into force on July 1, 2002. As of October 2017, there are over 123  states party to the statue.

This year marks the 20th year of adoption of the Rome statue. This year, ICC plans to raise  awareness and commemorate the 20th anniversary of the event. The website of the ICC mentions events like mock trials at the ICC which is headquartered in Hague, Netherlands. The event , also, mentions tree plantation ceremony, a musical performance and many others. 

This day is celebrated to reinforce the idea that the governments across the world will put in place mechanisms to protect its public against human rights violations. The day calls for states to come together and formulate policies to ensure justice for every individual of every country based on universally accepted parameters of human rights. 

With institutions like ICC and ICJ in place, the world seems to be moving in a better direction. In 2017, India nominated Mr. Dalveer Bhandari as the judge of ICJ. Mr. Bhandari later, formally, took oath as a judge of ICJ for a period of 9 years. India which is rising through the ranks as a global player received a shot in the arm with this initiative and endorsed India's stand of justice for all.

Wednesday, 11 July 2018

World Population Day 2018: "Family Planning is a Human Right."


The world celebrates “World Population Day” on July 11 every year to raise awareness regarding population related issues. The day which celebrates its 29th year in 2018 was a result of efforts of many countries and the underlying human principles that form the crux of plan of action to contain population and to improve life for the living beings. This year’s theme is “Family Planning is a Human Right”.

Years ago, in Palais de Chaillot in Paris, France, representatives from round the globe gathered together to formulate a document which is now known as the “The Universal Declaration of Human Rights.” The document which has been translated in over 500 languages was revisited 19 years later in 1968. It was a part of Proclamation of Teheran (International Conference on Human Rights, Teheran). The conference was “declared open” by, the then, United Nations(UN) Secretary-General, U Thant in April of 22 in 1968. On May 13 of 1968, the document proclaimed, “Parents have a basic human right to determine freely and responsibly the number and the spacing of their children.” This is said to be the cornerstone for what is now called “World Population Day.”


The observation of the day came into existence when the Governing Council of UNDP (United Nations Development Programme) recommended celebrating July 11 every year as “World Population Day.” The date was selected as a consequence of “Five Billion Day” celebrated on July 11, 1987 which is considered as the approximate date the population of the world crossed 5 billion.


This year’s theme is "Family Planning is a Human Right." The United Nations Population Fund (UNFPA) Executive Director , Natalia Kanem, said, on the occasion, that in developing regions,  some 214 million women still lack safe and effective family planning, for reasons ranging from lack of information or services, to lack of support from their partners or communities.

 The day entails quarters like education, fertility, life expectancy and contraceptive prevalence rate. With diverse social tradition, India can be tough ground for implementation with agencies galvanizing and changing their strategy at every stage to drive optimum results.

In terms of numbers, India with 1.3 billion people has maintained an annual population change rate of 1.2% from 2010-2017 with 66% of the population in 15-64 age bracket (as of 2017 according to United Nation). NITI Aayog data shows that with a TFR of 2.3 in 2016, the average life expectancy of men and women stands at 67 and 70 respectively.

As India inches closer to being the country with the largest population by 2024, the world should foster a common path of development and move towards the goal of making "Family Planning" a human right for all across the length and breadth of the world.

Chetan Thathoo

Sunday, 24 June 2018

‘मन की बात’ (45वीं कड़ी) प्रसारण तिथि: 24.06.2018


‘मन की बात’ (45वीं कड़ी)
प्रसारण तिथि: 24.06.2018

नमस्कार | मेरे प्यारे देशवासियो! आज फिर एक बार ‘मन की बात’ के इस कार्यक्रम में आप सबके साथ रूबरू होने का सौभाग्य मिला है | अभी कुछ दिन पहले बेंगलुरु में एक ऐतिहासिक क्रिकेट मैच हुआ | आप लोग भली-भांति समझ गए होंगे कि मैं भारत और अफगानिस्तान के टेस्ट मैच की बात कर रहा हूँ | यह अफगानिस्तान का पहला अन्तर्राष्ट्रीय मैच था और यह हर भारतीय के लिए गर्व की बात है कि अफगानिस्तान का यह ऐतिहासिक मैच भारत के साथ था | इस मैच में दोनों ही टीमों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया और दूसरे अफगानिस्तान के ही एक बॉलर राशिद खान ने तो इस वर्ष IPL में भी काफ़ी अच्छा प्रदर्शन किया था और मुझे याद है कि अफगानिस्तान के राष्ट्रपति श्रीमान अशरफ़ गनी ने मुझे tag कर अपने twitter पर लिखा था – “अफगानिस्तान के लोगों को अपने हीरो राशिद खान पर अत्यंत गर्व है |” मैं हमारे भारतीय मित्रों का भी आभारी हूँ, जिन्होंने हमारे खिलाड़ियों को अपना कौशल दिखाने के लिए एक platform प्रदान किया है | अफगानिस्तान में जो श्रेष्ठ है राशिद उसका प्रतिनिधित्व करता है | वह cricket की दुनिया का asset है और इसके साथ-साथ उन्होंने थोड़ा मजाकिये अंदाज़ में ये भी लिखा – “नहीं हम उसे किसी को देने वाले नहीं हैं |” यह मैच हम सभी के लिए एक यादगार रहेगा | खैर ये पहला मैच था इसलिए याद रहना तो बहुत स्वाभाविक है लेकिन मुझे ये मैच किसी एक विशेष कारण से याद रहेगा | भारतीय टीम ने कुछ ऐसा किया, जो पूरे विश्व के लिए एक मिसाल है | भारतीय टीम ने ट्रॉफी लेते समय एक विजेता टीम क्या कर सकती है – उन्होंने क्या किया! - भारतीय टीम ने ट्रॉफी लेते समय, अफगानिस्तान की टीम जो कि पहली बार अन्तर्राष्ट्रीय मैच खेल रही थी, अफगानिस्तान की टीम को आमंत्रित किया और दोनों टीमों ने साथ में फोटो ली | sportsman sprit क्या होता है, sportsmanship क्या होती है - इस एक घटना से हम अनुभव कर सकते हैं | खेल समाज को एकजुट करने और हमारे युवाओं का जो कौशल है, उनमें जो प्रतिभा है, उसे खोज निकालने का एक बेहरतीन तरीक़ा है | भारत और अफगानिस्तान दोनों टीमों को मेरी शुभकामनाएँ हैं | मुझे उम्मीद है हम आगे भी इसी तरह एक-दूसरे के साथ पूरे sportsman sprit के साथ खेलेंगे भी, खिलेंगे भी |

    मेरे प्यारे देशवासियो! इस 21 जून को चौथे ‘योग दिवस’ पर एक अलग ही नज़ारा था | पूरी दुनिया एकजुट नज़र आयी | विश्व-भर में लोगों ने पूरे उत्साह और उमंग के साथ योगाभ्यास किया | Bresil में  European Parliament हो, New York स्थित संयुक्तराष्ट्र का मुख्यालय हो, जापानी नौ-सेना के लड़ाकू जहाज़ हों, सभी जगह लोग योग करते नज़र आए | सऊदी अरब में पहली बार योग का ऐतिहासिक कार्यक्रम हुआ और मुझे बताया गया है कि बहुत सारे आसनों का demonstration तो महिलाओं ने किया | लद्दाख की ऊँची बर्फीली चोटियों पर भारत और चीन के सैनिकों ने एक-साथ मिलकर के योगाभ्यास किया | योग सभी सीमाओं को तोड़कर, जोड़ने का काम करता है | सैकड़ों देशों के हजारों उत्साही लोगों ने जाति, धर्म, क्षेत्र, रंग या लिंग हर प्रकार के भेद से परे जाकर इस अवसर को एक बहुत बड़ा उत्सव बना दिया | यदि दुनिया भर के लोग इतने उत्साहित होकर ‘योग दिवस’ के कार्यक्रमों में भाग ले रहे थे तो भारत में इसका उत्साह अनेक गुना क्यों नहीं होगा |

देश को गर्व होता है, जब सवा-सौ करोड़ लोग देखते हैं कि हमारे देश के सुरक्षा बल के जवान, जल-थल और नभ तीनों जगह योग का अभ्यास किया | कुछ वीर सैनिकों ने जहाँ पनडुब्बी में योग किया, वहीं कुछ सैनिकों ने सियाचीन के बर्फीले पहाड़ों पर योगाभ्यास किया | वायुसेना के हमारे योद्धाओं ने तो बीच आसमान में धरती से 15 हज़ार फुट की ऊंचाई पर योगासन करके सबको स्तब्ध कर दिया | देखने वाला नज़ारा यह था कि उन्होंने हवा में तैरते हुए किया, न कि हवाई जहाज़ में बैठकर के | स्कूल हो, कॉलेज हो, दफ्तर हो, पार्क हो, ऊँची ईमारत हो या खेल का मैदान हो, सभी जगह योगाभ्यास हुआ | अहमदाबाद का एक दृश्य तो दिल को छू लेने वाला था | वहाँ पर लगभग 750 दिव्यांग भाई-बहनों ने एक स्थान पर, एक साथ इकट्ठे योगाभ्यास करके विश्व कीर्तिमान बना डाला | योग ने जाति, पंथ और भूगोल से परे जाकर विश्व भर के लोगों को एकजुट होकर करने का काम किया है | ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ के जिस भाव को हम सदियों से जीते आये हैं | हमारे ऋषि, मुनि, संत जिस पर हमेशा जोर देते हैं, योग ने उसे सही मायने में सिद्ध करके दिखाया है | मैं मानता हूँ कि आज योग एक wellness, revolution का काम कर रहा है | मैं आशा करता हूँ कि योग से wellness की जो एक मुहीम चली है, वो आगे बढ़ेगी | अधिक से अधिक लोग इसे अपने जीवन का हिस्सा बनायेंगे |

मेरे प्यारे देशवासियो! MyGov और NarendraModiApp पर कई लोगों ने मुझे लिखा है कि मैं इस बार की ‘मन की बात’ में 1 जुलाई को आने वाले Doctor’s Day के बारे में बात करूँ - सही बात है | हम मुसीबत के समय ही डॉक्टर को याद करते हैं लेकिन यह एक ऐसा दिन है, जब देश हमारे डॉक्टर्स की उपलब्धियों को celebrate करता है और समाज के प्रति उनकी सेवा और समर्पण के लिए उन्हें बहुत-बहुत धन्यवाद देता है | हम वो लोग हैं, जो स्वाभवतः माँ को भगवान के रूप में पूजते हैं, भगवान के बराबर मानते हैं क्योंकि माँ हमें जीवन देती है, माँ हमें जन्म देती है, तो कई बार डॉक्टर हमें पुनर्जन्म देता है | डॉक्टर की भूमिका केवल बीमारियों का इलाज़ करने तक सीमित नहीं है | अक्सर डॉक्टर परिवार के मित्र की तरह होते हैं | हमारे life style guides हैं – “They not only cure but also heal” | आज डॉक्टर के पास medical expertise तो होती ही है, साथ ही उनके पास general life style trends के बारे में, उसका हमारे स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ता है, इन सबके बारे में गहरा अनुभव होता है | भारतीय डॉक्टरों ने अपनी क्षमता और कौशल से पूरे विश्व में अपनी पहचान बनायी है | medical profession में महारत, hardworking के साथ-साथ हमारे डॉक्टर complex medical problems को solve करने के लिए जाने जाते हैं | ‘मन की बात’ के माध्यम से मैं सभी देशवासियों की तरफ़ से हमारे सभी डॉक्टर साथियों को आगामी 1 जुलाई को आने वाले ‘Doctor’s Day’ की ढेरों शुभकामनाएँ देता हूँ |


    मेरे प्यारे देशवासियो! हम ऐसे भाग्यवान लोग हैं जिनका इस भारत भूमि में जन्म हुआ है | भारत का एक ऐसा समृद्ध इतिहास रहा है, जब कोई ऐसा महीना नहीं है, कोई ऐसा दिन नहीं है, जिसमें कोई–न-कोई ऐतिहासिक घटना न घटी हो | देखें तो भारत में हर जगह की अपनी एक विरासत है | वहाँ से जुड़ा कोई संत है, कोई महापुरुष है, कोई प्रसिद्ध व्यक्ति है, सभी का अपना-अपना योगदान है, अपना महात्म्य है |
“प्रधानमंत्री जी नमस्कार! मैं डॉ. सुरेन्द्र मिश्र बोल रहा हूँ | हमें ज्ञात हुआ है कि 28 जून को आप मगहर आ रहे हैं | मैं मगहर के ही बगल में एक छोटे से गाँव टडवा, जो गोरखपुर में है, वहाँ का रहने वाला हूँ | मगहर कबीर की समाधि स्थली है और कबीर को लोग यहाँ पर सामाजिक समरसता के लिए याद रखते हैं और कबीर के विचारों पर हर स्तर पर चर्चा होती है | आपकी कार्ययोजना से इस दिशा में समाज के सभी स्तरों पर काफ़ी प्रभाव होगा | आपसे प्रार्थना है कि कृपया भारत सरकार की जो कार्ययोजना है, उसके बारे में अवगत करवाने की कृपा करें |”
आपके फ़ोन कॉल के लिए बहुत बहुत धन्यवाद | ये सही है कि मैं 28 तारीख़ को मगहर आ रहा हूँ और वैसे भी जब मैं गुजरात में था, गुजरात का कबीरवड तो आप भलीभांति जानते हैं | जब मैं वहाँ काम करता था तो मैंने एक संत कबीर की परंपरा से जुड़े लोगों का एक बड़ा, एक राष्ट्रीय अधिवेशन भी किया था | आप लोग जानते हैं, कबीरदास जी मगहर क्यों गए थे ? उस समय एक धारणा थी कि मगहर में जिसकी मृत्यु होती है, वह स्वर्ग नहीं जाता | इसके उलट काशी में जो शरीर त्याग करता है, वो स्वर्ग जाता है | मगहर को अपवित्र माना जाता था लेकिन संत कबीरदास इस पर विश्वास नहीं करते थे | अपने समय की ऐसी ही कुरीतियाँ और अंधविश्वासों को उन्होंने तोड़ने का काम किया और इसलिए वे मगहर गए और वहीँ उन्होंने समाधि ली | संत कबीरदास जी ने अपनी साखियों और दोहों के माध्यम से सामाजिक समानता, शांति और भाईचारे पर बल दिया | यही उनके आदर्श थे | उनकी रचनाओं में हमें यही आदर्श देखने को मिलते हैं और आज के युग में भी वे उतने ही प्रेरक है | उनका एक दोहा है:-
 “कबीर सोई पीर है, जो जाने पर पीर |
जो पर पीर न जानही, सो का पीर में पीर ||
मतलब सच्चा पीर संत वही है जो दूसरो की पीड़ा को जानता और समझता है, जो दूसरे के दुःख को नहीं जानते वे निष्ठुर हैं | कबीरदास जी ने सामाजिक समरसता पर विशेष जोर दिया था | वे अपने समय से बहुत आगे सोचते थे | उस समय जब विश्व में अवनति और संघर्ष का दौर चल रहा था उन्होंने शांति और सद्भाव का सन्देश दिया और लोकमानस को एकजुट करके मतभेदों को दूर करने का काम किया |
“जग में बैरी कोई नहीं, जो मन शीतल होय |
यह आपा तो डाल दे, दया करे सब कोय ||”
एक अन्य दोहे में कबीर लिखते हैं -
 “जहां दया तहं धर्म है, जहां लोभ तहं पाप |
जहां क्रोध तहं काल है, जहां क्षमा तहं आप ||”
उन्होंने कहा:-
“जाति न पूछो साधू की, पूछ लीजिये ज्ञान |
और लोगों से अपील की वे धर्म और जाति से ऊपर उठ कर लोगों को ज्ञान के आधार पर मानें, उनका सम्मान करें, उनकी बातें आज सदियों बाद भी उतनी ही प्रभावी है | अभी जब हम संत कबीरदास जी के बारे में बात कर रहे हैं तो मुझे उनका एक दोहा याद आता है | जिसमें वो कहते हैं:-
“गुरु गोविन्द दोऊ खड़े, काके लागूं पांय |
बलिहारी गुरु आपने, गोविन्द दियो बताय ||”
ऐसी होती है ये गुरु की महानता और ऐसे ही एक गुरु हैं, जगतगुरु – गुरु नानक देव | जिन्होंने कोटि-कोटि लोगों को सन्मार्ग दिखाया, सदियों से प्रेरणा देते रहें | गुरु नानक देव ने समाज में जातिगत भेदभाव को ख़त्म करने और पूरे मानवजाति को एक मानते हुए उन्हें गले लगाने की शिक्षा दी | गुरु नानक देव कहते थे गरीबों और जरुरतमंदों की सेवा ही भगवान की सेवा है | वे जहाँ भी गए उन्होंने समाज की भलाई के लिए कई पहल की | सामाजिक भेदभाव से मुक्त रसोई की व्यवस्था जहाँ हर जाति, पंथ, धर्म या सम्प्रदाय का व्यक्ति आकर खाना खा सकता था | गुरु नानक देव ने ही तो इस लंगर व्यवस्था की शुरुआत की | 2019 में गुरु नानक देव जी का 550वाँ प्रकाश पर्व मनाया जाएगा | मैं चाहता हूँ हम सब लोग उत्साह और उमंग के साथ इससे जुड़े | आप लोगो से भी मेरा आग्रह गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर पूरे समाज में और विश्वभर में इसे कैसे मनाया जाए, नए-नए ideas क्या हों, नए-नए सुझाव क्या हों, नई-नई कल्पनाएँ क्या हों, उस पर हम सोचें, तैयारियाँ करें और बड़े गौरव के साथ उसको हम सब, इस प्रकाश पर्व को प्रेरणा पर्व भी बनाएं |

    मेरे प्यारे देशवासियो! भारत की आज़ादी का संघर्ष बहुत लम्बा है, बहुत व्यापक है, बहुत गहरा है, अनगिनत शाहदतों से भरा हुआ है | पंजाब से जुड़ा एक और इतिहास है | 2019 में जलियांवाला बाग़ की उस भयावह घटना के भी 100 साल पूरे हो रहे हैं जिसने पूरी मानवता को शर्मसार कर दिया था | 13 अप्रैल, 1919 का वो काला दिन कौन भूल सकता है जब power का दुरुपयोग करते हुए क्रूरता की सारी हदें पार कर निर्दोष, निहत्थे और मासूम लोगों पर गोलियाँ चलाई गयी थी | इस घटना के 100 वर्ष पूरे होने वाले हैं | इसे हम कैसे स्मरण करें, हम सब इस पर सोच सकते हैं, लेकिन इस घटना ने जो अमर सन्देश दिया, उसे हम हमेशा याद रखें | ये हिंसा और क्रूरता से कभी किसी समस्या का समाधान नहीं किया जा सकता | जीत हमेशा शांति और अहिंसा की होती है, त्याग और बलिदान की होती है | 
 
मेरे प्यारे देशवासियो! दिल्ली के रोहिणी के श्रीमान रमण कुमार ने ‘Narendra Modi Mobile App’ पर लिखा है कि आने वाली 6 जुलाई को डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी का जन्मदिन है और वे चाहते हैं इस कार्यक्रम में डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बारे में देशवासियों से बात करूँ | रमण जी सबसे पहले तो आपको बहुत-बहुत धन्यवाद | भारत के इतिहास में आपकी रूचि देखकर काफ़ी अच्छा लगा | आप जानते हैं, कल ही डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि थी 23, जून को | डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी कई क्षेत्रों से जुड़े रहे लेकिन जो क्षेत्र उनके सबसे करीब रहे वे थे education, administration और parliamentary affairs, बहुत कम लोगों को पता होगा कि वे कोलकाता विश्वविद्यालय के सबसे कम उम्र के Vice Chancellor थे | जब वे Vice Chancellor बने थे तब उनकी उम्र मात्र 33 वर्ष थी | बहुत कम लोग ये जानते होंगे कि 1937 में डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के निमंत्रण पर श्री गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर ने कोलकाता विश्वविद्यालय में convocation को बांग्ला भाषा में संबोधित किया था | यह पहला अवसर था, जब अंग्रेजों की सल्तनत थी और कोलकाता विश्वविद्यालय में किसी ने बांग्ला भाषा में convocation को संबोधित किया था | 1947 से 1950 तक डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी भारत के पहले उद्योग मंत्री रहे और एक अर्थ में कहें तो उन्होंने भारत का औद्योगिक विकास का मज़बूत शिलान्यास किया था, मज़बूत base तैयार किया था, एक मज़बूत platform तैयार किया था | 1948 में आई स्वतंत्र भारत की पहली औद्योगिक नीति उनके ideas और visions की छाप लेकर के आई थी | डॉ० मुखर्जी का सपना था भारत हर क्षेत्र में औद्योगिक रूप से आत्मनिर्भर हो, कुशल और समृद्ध हो | वे चाहते थे कि भारत बड़े उद्योगों को develop करे और साथ ही MSMEs, हथकरघा, वस्त्र और कुटीर उद्योग पर भी पूरा ध्यान दे | कुटीर और लघु उद्योगों के समुचित विकास के लिए उन्हें finance और organization setup मिले, इसके लिए 1948 से 1950 के बीच All India Handicrafts Board, All India Handloom Board और Khadi & Village Industries Board की स्थापना की गई थी | डॉ० मुखर्जी का भारत के रक्षा उत्पादन के स्वदेशीकरण पर भी विशेष ज़ोर था | Chittaranjan Locomotive Works Factory, Hindustan Aircraft Factory, सिंदरी का खाद कारखाना और दामोदर घाटी निगम, ये चार सबसे सफ़ल और बड़े projects और दूसरे river valley projects की स्थापना में डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बहुत बड़ा योगदान था | पश्चिम बंगाल के विकास को लेकर वे काफ़ी passionate थे | उनकी समझ, विवेक और सक्रियता का ही परिणाम है कि बंगाल का एक हिस्सा बचाया जा सका और वह आज भी भारत का हिस्सा है | डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के लिए, जो सबसे महत्वपूर्ण बात थी, वो थी भारत की अखंडता और एकता - और इसी के लिए 52 साल की कम उम्र में ही उन्होंने अपनी जान भी गवानी पड़ी | आइये! हम हमेशा डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के एकता के सन्देश को याद रखें, सद्भाव और भाईचारे की भावना के साथ, भारत की प्रगति के लिए जी-जान से जुटे रहें |
    मेरे प्यारे देशवासियो! पिछले कुछ सप्ताह में मुझे video call के माध्यम से सरकार की विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से संवाद करने का अवसर मिला | फाइलों से परे जाकर लोगों की life में जो बदलाव आ रहे हैं, उनके बारे में सीधा उन्हीं से जानने का अवसर मिला | लोगों ने अपने संकल्प, अपने सुख-दुःख, अपनी उपलब्धियों के बारे में बताया | मैं मानता हूँ कि मेरे लिए यह महज एक सरकारी कार्यक्रम नहीं था बल्कि यह एक अलग तरह का learning experience था और इस दौरान लोगों के चेहरे पर जो खुशियाँ देखने को मिली, उससे बड़ा संतोष का पल किसी की भी ज़िन्दगी में क्या हो सकता है? जब एक सामान्य मानवी(मानव) की कहानियाँ सुनता था | उनके भोले-भाले शब्द अपने अनुभव की कथा वो जो कह रहे थे, दिल को छू जाती थी | दूर-सुदूर गांवों में बेटियाँ common service centre के माध्यम से गांवों के बुज़ुर्गों की pension से लेकर passport बनवाने तक की सेवाएँ उपलब्ध करवा रही हैं | जब छत्तीसगढ़ की कोई बहन सीताफल को collect कर उसकी ice-cream  बनाकर व्यवसाय करती हो | झारखंड में अंजन प्रकाश की तरह देश के लाखों युवा-जन औषधि केंद्र चलाने के साथ-साथ आस-पास के गावों में जाकर सस्ती दवाइयाँ उपलब्ध करवा रहे हों | वहीं पश्चिम बंगाल का कोई नौजवान दो-तीन साल पहले नौकरी ढूंढ रहा हो और अब वह केवल अपना सफल व्यवसाय कर रहा है; इतना ही नहीं, दस-पंद्रह लोगों को और नौकरी भी दे रहा है | इधर तमिलनाडु, पंजाब, गोवा के स्कूल के छात्र अपनी छोटी उम्र में स्कूल की tinkering lab में waste management जैसे important topic पर काम कर रहे हों | न जाने कितनी-कितनी कहानियाँ थी | देश का कोई कोना ऐसा नहीं होगा जहाँ लोगों को अपनी सफलता की बात कहनी न हो | मुझे खुशी इस बात की है इस पूरे कार्यक्रम में सरकार की सफलता से ज़्यादा सामान्य मानवी (मानव) की सफलता की बातें देश की शक्ति, नए भारत के सपनों की शक्ति, नए भारत के संकल्प की शक्ति - इसे मैं अनुभव कर रहा था | समाज में कुछ लोग होते हैं | वह जब तक निराशा की बातें न करें, हताशा की बातें न करें, अविश्वास पैदा करने का प्रयास न करें, जोड़ने के बजाय तोड़ने के रास्ते न खोजें, तब तक उनको चैन नहीं होता है | ऐसे वातावरण में सामान्य मानवी (मानव) जब नई आशा, नया उमंग और अपने जीवन में घटी घटनाओं की बात लेकर के आता है तो वह सरकार का श्रेय नहीं होता | दूर-सुदूर एक छोटे से गाँव की छोटी सी बालिका की घटना भी सवा-सौ करोड़ देशवासियों के लिए प्रेरणा बन जाती है | मेरे लिए technology की मदद से, video bridge के माध्यम से लाभार्थियों के साथ समय बिताने का एक पल बहुत ही सुखद, बहुत ही प्रेरक रहा है और इससे कार्य करने का संतोष तो मिलता ही है लेकिन और अधिक कार्य करने का उत्साह भी मिलता है | ग़रीब से ग़रीब व्यक्ति के लिए ज़िन्दगी खपाने का एक और नया आनंद, एक और नया उत्साह, एक और नई प्रेरणा प्राप्त होती है | मैं देशवासियों का बहुत आभारी हूँ | 40-40, 50-50 लाख लोग इस video bridge के कार्यक्रम में जुड़े और मुझे नई ताक़त देने का काम आपने किया | मैं फिर एक बार आप सबका आभार व्यक्त करना चाहता हूँ |

मेरे प्यारे देशवासियो ! मैं हमेशा अनुभव करता हूँ, अगर हम हमारे आस-पास देखें तो कहीं-न-कहीं कुछ-न-कुछ अच्छा होता है | अच्छा करने वाले लोग होते हैं | अच्छाई की सुगंध हम भी अनुभव कर सकते हैं | पिछले दिनों एक बात मेरे ध्यान में आई और यह बड़ा अनोखा combination है | इसमें एक तरफ़ जहाँ professionals और engineers हैं वहीं दूसरी तरफ खेत में काम करने वाले, खेती से जुड़े हमारे किसान भाई-बहन हैं | अब आप सोच रहें होंगे कि यह तो दो बिल्कुल अलग-अलग व्यवसाय हैं - इनका क्या संबंध? लेकिन ऐसा है, बेंगलुरु में corporate professionals, IT engineers साथ आये | उन्होंने मिलकर के एक सहज ‘समृद्धि ट्रस्ट’ बनाया है और उन्होंने किसानों की आय दोगुनी हो, इसके लिए इस ट्रस्ट को activate किया | किसानों से जुड़ते गए, योजनाएँ बनाते गए और किसानों की आय बढ़ाने के लिए सफल प्रयास करते रहे | खेती के नए गुण सिखाने के साथ-साथ जैविक खेती कैसे की जाए? खेतों में एक फसल के साथ-साथ और भी फसल कैसे उगाई जाए? ये ट्रस्ट के द्वारा इन professional, engineer, technocrat के द्वारा किसानों को training दी जाने लगी | पहले जो किसान अपने खेतों में एक ही फसल पर निर्भर हुआ करते थे | उपज भी अच्छी नहीं होती थी और मुनाफ़ा भी ज़्यादा नहीं होता था | आज वह न केवल सब्जियाँ उगा रहें हैं और बल्कि अपनी सब्जियों की marketing भी ट्रस्ट के माध्यम से कर के, अच्छे दाम पा रहे हैं | अनाज़ उत्पादन करने वाले किसान भी इससे जुड़ें हुए हैं | एक तरफ फसल के उत्पाद से लेकर के marketing तक पूरी chain में किसानों की एक प्रमुख भूमिका है तो दूसरी तरफ मुनाफ़े में किसानों की भागीदारी सुनिश्चित उनका हक़ सुनिश्चित करने का प्रयास है | फसल अच्छी हो, उसके लिए अच्छी नस्ल की बीजें हों | इसके लिए अलग सीड-बैंक बनाया गया है | महिलाएँ इस सीड-बैंक का कामकाज देखती हैं | महिलाओं को भी जोड़ा गया है | मैं इन युवाओं को इस अभिनव प्रयोग के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूँ और मुझे खुशी है कि professionals, technocrat, engineering की दुनिया से जुड़े इन नौजवानों ने अपने दायरे से बाहर निकल कर के किसान के साथ जुड़ना, गाँव के साथ जुड़ना, खेत और खलिहान के साथ जुड़ने का जो रास्ता अपनाया है | मैं फिर एक बार मेरे देश की युवा-पीढ़ी को उनके इस अभिनव प्रयोगों, को कुछ जो शायद मैंने जाना होगा, कुछ नहीं जाना होगा, कुछ लोगों को पता होगा, कुछ पता नहीं होगा लेकिन निरंतर कोटि-कोटि लोग कुछ-न-कुछ अच्छा कर रहे हैं, उन सबको मेरी तरफ से बहुत-बहुत शुभकामना हैं |  

मेरे प्यारे देशवासियो ! GST को एक साल पूरा होने वाला है ‘One Nation, One Tax’ देश के लोगों का सपना था, वो आज हक़ीक़त में बदल चुका है | One Nation One Tax reform, इसके लिए अगर मुझे सबसे ज्यादा किसी को credit देनी है तो मैं राज्यों को credit देता हूँ | GST Cooperative federalism का एक बेहतरीन उदाहरण है, जहाँ सभी राज्यों ने मिलकर देशहित में फ़ैसला लिया और तब जाकर देश में इतना बड़ा tax reform लागू हो सका | अब तक GST Council की 27 meeting हुई हैं और हम सब गर्व कर सकते हैं कि भिन्न-भिन्न राजनीतिक विचारधारा के लोग वहाँ बैठते हैं, भिन्न-भिन्न राज्यों के लोग बैठते हैं, अलग-अलग priority वाले राज्य होते हैं लेकिन उसके बावजूद भी GST Council में अब तक जितने भी निर्णय किये गए हैं, वे सारे के सारे सर्वसहमति से किये गए हैं | GST से पहले देश में 17 अलग-अलग प्रकार के tax हुआ करते थे लेकिन इस व्यवस्था में अब सिर्फ़ एक ही tax पूरे देश में लागू है | GST ईमानदारी की जीत है और ईमानदारी का एक उत्सव भी है | पहले देश में काफ़ी बार tax के मामले में इंस्पेक्टरराज की शिकायतें आती रहती थी | GST में इंस्पेक्टर की जगह IT ने information technology ने ले ली है | return से लेकर refund तक सब कुछ online information technology के द्वारा होता है | GST के आने से check post ख़त्म हो गई और माल सामानों की आवाजाही तेज़ हो गई, जिससे न सिर्फ़ समय बच रहा है बल्कि logistics क्षेत्र में भी इसका काफ़ी लाभ मिल रहा है | GST शायद दुनिया का सबसे बड़ा tax reform होगा | भारत में इतना बड़ा tax reform सफ़ल इसलिए हो पाया क्योंकि देश के लोगों ने इसे अपनाया और जन-शक्ति के द्वारा ही GST की सफ़लता सुनिश्चित हो सकी | आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि इतना बड़ा reform, इतना बड़ा देश, इतनी बड़ी जनसंख्या इसको पूर्ण रूप से स्थिर होने में 5 से 7 साल का समय लगता है लेकिन देश के ईमानदार लोगों का उत्साह, देश की ईमानदारी का उत्सव जन-शक्ति की भागीदारी का नतीज़ा है कि एक साल के भीतर-भीतर बहुतेक मात्रा में ये नई कर प्रणाली अपनी जगह बना चुकी है, स्थिरता प्राप्त कर चुकी है और आवश्यकता के अनुसार अपनी inbuilt व्यवस्था के द्वारा वो सुधार भी करती रहती है | ये अपने आप में एक बहुत बड़ी सफ़लता सवा-सौ करोड़ देशवासियों ने अर्जित की है |

मेरे प्यारे देशवासियो! फिर एक बार ‘मन की बात’ को पूर्ण करते हुए अगले ‘मन की बात’ का इंतज़ार कर रहा हूँ, आपसे मिलने का, आपसे बातें करने का | आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएँ |
बहुत-बहुत धन्यवाद |
*************