Sunday, 24 June 2018

‘मन की बात’ (45वीं कड़ी) प्रसारण तिथि: 24.06.2018


‘मन की बात’ (45वीं कड़ी)
प्रसारण तिथि: 24.06.2018

नमस्कार | मेरे प्यारे देशवासियो! आज फिर एक बार ‘मन की बात’ के इस कार्यक्रम में आप सबके साथ रूबरू होने का सौभाग्य मिला है | अभी कुछ दिन पहले बेंगलुरु में एक ऐतिहासिक क्रिकेट मैच हुआ | आप लोग भली-भांति समझ गए होंगे कि मैं भारत और अफगानिस्तान के टेस्ट मैच की बात कर रहा हूँ | यह अफगानिस्तान का पहला अन्तर्राष्ट्रीय मैच था और यह हर भारतीय के लिए गर्व की बात है कि अफगानिस्तान का यह ऐतिहासिक मैच भारत के साथ था | इस मैच में दोनों ही टीमों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया और दूसरे अफगानिस्तान के ही एक बॉलर राशिद खान ने तो इस वर्ष IPL में भी काफ़ी अच्छा प्रदर्शन किया था और मुझे याद है कि अफगानिस्तान के राष्ट्रपति श्रीमान अशरफ़ गनी ने मुझे tag कर अपने twitter पर लिखा था – “अफगानिस्तान के लोगों को अपने हीरो राशिद खान पर अत्यंत गर्व है |” मैं हमारे भारतीय मित्रों का भी आभारी हूँ, जिन्होंने हमारे खिलाड़ियों को अपना कौशल दिखाने के लिए एक platform प्रदान किया है | अफगानिस्तान में जो श्रेष्ठ है राशिद उसका प्रतिनिधित्व करता है | वह cricket की दुनिया का asset है और इसके साथ-साथ उन्होंने थोड़ा मजाकिये अंदाज़ में ये भी लिखा – “नहीं हम उसे किसी को देने वाले नहीं हैं |” यह मैच हम सभी के लिए एक यादगार रहेगा | खैर ये पहला मैच था इसलिए याद रहना तो बहुत स्वाभाविक है लेकिन मुझे ये मैच किसी एक विशेष कारण से याद रहेगा | भारतीय टीम ने कुछ ऐसा किया, जो पूरे विश्व के लिए एक मिसाल है | भारतीय टीम ने ट्रॉफी लेते समय एक विजेता टीम क्या कर सकती है – उन्होंने क्या किया! - भारतीय टीम ने ट्रॉफी लेते समय, अफगानिस्तान की टीम जो कि पहली बार अन्तर्राष्ट्रीय मैच खेल रही थी, अफगानिस्तान की टीम को आमंत्रित किया और दोनों टीमों ने साथ में फोटो ली | sportsman sprit क्या होता है, sportsmanship क्या होती है - इस एक घटना से हम अनुभव कर सकते हैं | खेल समाज को एकजुट करने और हमारे युवाओं का जो कौशल है, उनमें जो प्रतिभा है, उसे खोज निकालने का एक बेहरतीन तरीक़ा है | भारत और अफगानिस्तान दोनों टीमों को मेरी शुभकामनाएँ हैं | मुझे उम्मीद है हम आगे भी इसी तरह एक-दूसरे के साथ पूरे sportsman sprit के साथ खेलेंगे भी, खिलेंगे भी |

    मेरे प्यारे देशवासियो! इस 21 जून को चौथे ‘योग दिवस’ पर एक अलग ही नज़ारा था | पूरी दुनिया एकजुट नज़र आयी | विश्व-भर में लोगों ने पूरे उत्साह और उमंग के साथ योगाभ्यास किया | Bresil में  European Parliament हो, New York स्थित संयुक्तराष्ट्र का मुख्यालय हो, जापानी नौ-सेना के लड़ाकू जहाज़ हों, सभी जगह लोग योग करते नज़र आए | सऊदी अरब में पहली बार योग का ऐतिहासिक कार्यक्रम हुआ और मुझे बताया गया है कि बहुत सारे आसनों का demonstration तो महिलाओं ने किया | लद्दाख की ऊँची बर्फीली चोटियों पर भारत और चीन के सैनिकों ने एक-साथ मिलकर के योगाभ्यास किया | योग सभी सीमाओं को तोड़कर, जोड़ने का काम करता है | सैकड़ों देशों के हजारों उत्साही लोगों ने जाति, धर्म, क्षेत्र, रंग या लिंग हर प्रकार के भेद से परे जाकर इस अवसर को एक बहुत बड़ा उत्सव बना दिया | यदि दुनिया भर के लोग इतने उत्साहित होकर ‘योग दिवस’ के कार्यक्रमों में भाग ले रहे थे तो भारत में इसका उत्साह अनेक गुना क्यों नहीं होगा |

देश को गर्व होता है, जब सवा-सौ करोड़ लोग देखते हैं कि हमारे देश के सुरक्षा बल के जवान, जल-थल और नभ तीनों जगह योग का अभ्यास किया | कुछ वीर सैनिकों ने जहाँ पनडुब्बी में योग किया, वहीं कुछ सैनिकों ने सियाचीन के बर्फीले पहाड़ों पर योगाभ्यास किया | वायुसेना के हमारे योद्धाओं ने तो बीच आसमान में धरती से 15 हज़ार फुट की ऊंचाई पर योगासन करके सबको स्तब्ध कर दिया | देखने वाला नज़ारा यह था कि उन्होंने हवा में तैरते हुए किया, न कि हवाई जहाज़ में बैठकर के | स्कूल हो, कॉलेज हो, दफ्तर हो, पार्क हो, ऊँची ईमारत हो या खेल का मैदान हो, सभी जगह योगाभ्यास हुआ | अहमदाबाद का एक दृश्य तो दिल को छू लेने वाला था | वहाँ पर लगभग 750 दिव्यांग भाई-बहनों ने एक स्थान पर, एक साथ इकट्ठे योगाभ्यास करके विश्व कीर्तिमान बना डाला | योग ने जाति, पंथ और भूगोल से परे जाकर विश्व भर के लोगों को एकजुट होकर करने का काम किया है | ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ के जिस भाव को हम सदियों से जीते आये हैं | हमारे ऋषि, मुनि, संत जिस पर हमेशा जोर देते हैं, योग ने उसे सही मायने में सिद्ध करके दिखाया है | मैं मानता हूँ कि आज योग एक wellness, revolution का काम कर रहा है | मैं आशा करता हूँ कि योग से wellness की जो एक मुहीम चली है, वो आगे बढ़ेगी | अधिक से अधिक लोग इसे अपने जीवन का हिस्सा बनायेंगे |

मेरे प्यारे देशवासियो! MyGov और NarendraModiApp पर कई लोगों ने मुझे लिखा है कि मैं इस बार की ‘मन की बात’ में 1 जुलाई को आने वाले Doctor’s Day के बारे में बात करूँ - सही बात है | हम मुसीबत के समय ही डॉक्टर को याद करते हैं लेकिन यह एक ऐसा दिन है, जब देश हमारे डॉक्टर्स की उपलब्धियों को celebrate करता है और समाज के प्रति उनकी सेवा और समर्पण के लिए उन्हें बहुत-बहुत धन्यवाद देता है | हम वो लोग हैं, जो स्वाभवतः माँ को भगवान के रूप में पूजते हैं, भगवान के बराबर मानते हैं क्योंकि माँ हमें जीवन देती है, माँ हमें जन्म देती है, तो कई बार डॉक्टर हमें पुनर्जन्म देता है | डॉक्टर की भूमिका केवल बीमारियों का इलाज़ करने तक सीमित नहीं है | अक्सर डॉक्टर परिवार के मित्र की तरह होते हैं | हमारे life style guides हैं – “They not only cure but also heal” | आज डॉक्टर के पास medical expertise तो होती ही है, साथ ही उनके पास general life style trends के बारे में, उसका हमारे स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ता है, इन सबके बारे में गहरा अनुभव होता है | भारतीय डॉक्टरों ने अपनी क्षमता और कौशल से पूरे विश्व में अपनी पहचान बनायी है | medical profession में महारत, hardworking के साथ-साथ हमारे डॉक्टर complex medical problems को solve करने के लिए जाने जाते हैं | ‘मन की बात’ के माध्यम से मैं सभी देशवासियों की तरफ़ से हमारे सभी डॉक्टर साथियों को आगामी 1 जुलाई को आने वाले ‘Doctor’s Day’ की ढेरों शुभकामनाएँ देता हूँ |


    मेरे प्यारे देशवासियो! हम ऐसे भाग्यवान लोग हैं जिनका इस भारत भूमि में जन्म हुआ है | भारत का एक ऐसा समृद्ध इतिहास रहा है, जब कोई ऐसा महीना नहीं है, कोई ऐसा दिन नहीं है, जिसमें कोई–न-कोई ऐतिहासिक घटना न घटी हो | देखें तो भारत में हर जगह की अपनी एक विरासत है | वहाँ से जुड़ा कोई संत है, कोई महापुरुष है, कोई प्रसिद्ध व्यक्ति है, सभी का अपना-अपना योगदान है, अपना महात्म्य है |
“प्रधानमंत्री जी नमस्कार! मैं डॉ. सुरेन्द्र मिश्र बोल रहा हूँ | हमें ज्ञात हुआ है कि 28 जून को आप मगहर आ रहे हैं | मैं मगहर के ही बगल में एक छोटे से गाँव टडवा, जो गोरखपुर में है, वहाँ का रहने वाला हूँ | मगहर कबीर की समाधि स्थली है और कबीर को लोग यहाँ पर सामाजिक समरसता के लिए याद रखते हैं और कबीर के विचारों पर हर स्तर पर चर्चा होती है | आपकी कार्ययोजना से इस दिशा में समाज के सभी स्तरों पर काफ़ी प्रभाव होगा | आपसे प्रार्थना है कि कृपया भारत सरकार की जो कार्ययोजना है, उसके बारे में अवगत करवाने की कृपा करें |”
आपके फ़ोन कॉल के लिए बहुत बहुत धन्यवाद | ये सही है कि मैं 28 तारीख़ को मगहर आ रहा हूँ और वैसे भी जब मैं गुजरात में था, गुजरात का कबीरवड तो आप भलीभांति जानते हैं | जब मैं वहाँ काम करता था तो मैंने एक संत कबीर की परंपरा से जुड़े लोगों का एक बड़ा, एक राष्ट्रीय अधिवेशन भी किया था | आप लोग जानते हैं, कबीरदास जी मगहर क्यों गए थे ? उस समय एक धारणा थी कि मगहर में जिसकी मृत्यु होती है, वह स्वर्ग नहीं जाता | इसके उलट काशी में जो शरीर त्याग करता है, वो स्वर्ग जाता है | मगहर को अपवित्र माना जाता था लेकिन संत कबीरदास इस पर विश्वास नहीं करते थे | अपने समय की ऐसी ही कुरीतियाँ और अंधविश्वासों को उन्होंने तोड़ने का काम किया और इसलिए वे मगहर गए और वहीँ उन्होंने समाधि ली | संत कबीरदास जी ने अपनी साखियों और दोहों के माध्यम से सामाजिक समानता, शांति और भाईचारे पर बल दिया | यही उनके आदर्श थे | उनकी रचनाओं में हमें यही आदर्श देखने को मिलते हैं और आज के युग में भी वे उतने ही प्रेरक है | उनका एक दोहा है:-
 “कबीर सोई पीर है, जो जाने पर पीर |
जो पर पीर न जानही, सो का पीर में पीर ||
मतलब सच्चा पीर संत वही है जो दूसरो की पीड़ा को जानता और समझता है, जो दूसरे के दुःख को नहीं जानते वे निष्ठुर हैं | कबीरदास जी ने सामाजिक समरसता पर विशेष जोर दिया था | वे अपने समय से बहुत आगे सोचते थे | उस समय जब विश्व में अवनति और संघर्ष का दौर चल रहा था उन्होंने शांति और सद्भाव का सन्देश दिया और लोकमानस को एकजुट करके मतभेदों को दूर करने का काम किया |
“जग में बैरी कोई नहीं, जो मन शीतल होय |
यह आपा तो डाल दे, दया करे सब कोय ||”
एक अन्य दोहे में कबीर लिखते हैं -
 “जहां दया तहं धर्म है, जहां लोभ तहं पाप |
जहां क्रोध तहं काल है, जहां क्षमा तहं आप ||”
उन्होंने कहा:-
“जाति न पूछो साधू की, पूछ लीजिये ज्ञान |
और लोगों से अपील की वे धर्म और जाति से ऊपर उठ कर लोगों को ज्ञान के आधार पर मानें, उनका सम्मान करें, उनकी बातें आज सदियों बाद भी उतनी ही प्रभावी है | अभी जब हम संत कबीरदास जी के बारे में बात कर रहे हैं तो मुझे उनका एक दोहा याद आता है | जिसमें वो कहते हैं:-
“गुरु गोविन्द दोऊ खड़े, काके लागूं पांय |
बलिहारी गुरु आपने, गोविन्द दियो बताय ||”
ऐसी होती है ये गुरु की महानता और ऐसे ही एक गुरु हैं, जगतगुरु – गुरु नानक देव | जिन्होंने कोटि-कोटि लोगों को सन्मार्ग दिखाया, सदियों से प्रेरणा देते रहें | गुरु नानक देव ने समाज में जातिगत भेदभाव को ख़त्म करने और पूरे मानवजाति को एक मानते हुए उन्हें गले लगाने की शिक्षा दी | गुरु नानक देव कहते थे गरीबों और जरुरतमंदों की सेवा ही भगवान की सेवा है | वे जहाँ भी गए उन्होंने समाज की भलाई के लिए कई पहल की | सामाजिक भेदभाव से मुक्त रसोई की व्यवस्था जहाँ हर जाति, पंथ, धर्म या सम्प्रदाय का व्यक्ति आकर खाना खा सकता था | गुरु नानक देव ने ही तो इस लंगर व्यवस्था की शुरुआत की | 2019 में गुरु नानक देव जी का 550वाँ प्रकाश पर्व मनाया जाएगा | मैं चाहता हूँ हम सब लोग उत्साह और उमंग के साथ इससे जुड़े | आप लोगो से भी मेरा आग्रह गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व पर पूरे समाज में और विश्वभर में इसे कैसे मनाया जाए, नए-नए ideas क्या हों, नए-नए सुझाव क्या हों, नई-नई कल्पनाएँ क्या हों, उस पर हम सोचें, तैयारियाँ करें और बड़े गौरव के साथ उसको हम सब, इस प्रकाश पर्व को प्रेरणा पर्व भी बनाएं |

    मेरे प्यारे देशवासियो! भारत की आज़ादी का संघर्ष बहुत लम्बा है, बहुत व्यापक है, बहुत गहरा है, अनगिनत शाहदतों से भरा हुआ है | पंजाब से जुड़ा एक और इतिहास है | 2019 में जलियांवाला बाग़ की उस भयावह घटना के भी 100 साल पूरे हो रहे हैं जिसने पूरी मानवता को शर्मसार कर दिया था | 13 अप्रैल, 1919 का वो काला दिन कौन भूल सकता है जब power का दुरुपयोग करते हुए क्रूरता की सारी हदें पार कर निर्दोष, निहत्थे और मासूम लोगों पर गोलियाँ चलाई गयी थी | इस घटना के 100 वर्ष पूरे होने वाले हैं | इसे हम कैसे स्मरण करें, हम सब इस पर सोच सकते हैं, लेकिन इस घटना ने जो अमर सन्देश दिया, उसे हम हमेशा याद रखें | ये हिंसा और क्रूरता से कभी किसी समस्या का समाधान नहीं किया जा सकता | जीत हमेशा शांति और अहिंसा की होती है, त्याग और बलिदान की होती है | 
 
मेरे प्यारे देशवासियो! दिल्ली के रोहिणी के श्रीमान रमण कुमार ने ‘Narendra Modi Mobile App’ पर लिखा है कि आने वाली 6 जुलाई को डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी का जन्मदिन है और वे चाहते हैं इस कार्यक्रम में डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बारे में देशवासियों से बात करूँ | रमण जी सबसे पहले तो आपको बहुत-बहुत धन्यवाद | भारत के इतिहास में आपकी रूचि देखकर काफ़ी अच्छा लगा | आप जानते हैं, कल ही डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि थी 23, जून को | डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी कई क्षेत्रों से जुड़े रहे लेकिन जो क्षेत्र उनके सबसे करीब रहे वे थे education, administration और parliamentary affairs, बहुत कम लोगों को पता होगा कि वे कोलकाता विश्वविद्यालय के सबसे कम उम्र के Vice Chancellor थे | जब वे Vice Chancellor बने थे तब उनकी उम्र मात्र 33 वर्ष थी | बहुत कम लोग ये जानते होंगे कि 1937 में डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के निमंत्रण पर श्री गुरुदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर ने कोलकाता विश्वविद्यालय में convocation को बांग्ला भाषा में संबोधित किया था | यह पहला अवसर था, जब अंग्रेजों की सल्तनत थी और कोलकाता विश्वविद्यालय में किसी ने बांग्ला भाषा में convocation को संबोधित किया था | 1947 से 1950 तक डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी भारत के पहले उद्योग मंत्री रहे और एक अर्थ में कहें तो उन्होंने भारत का औद्योगिक विकास का मज़बूत शिलान्यास किया था, मज़बूत base तैयार किया था, एक मज़बूत platform तैयार किया था | 1948 में आई स्वतंत्र भारत की पहली औद्योगिक नीति उनके ideas और visions की छाप लेकर के आई थी | डॉ० मुखर्जी का सपना था भारत हर क्षेत्र में औद्योगिक रूप से आत्मनिर्भर हो, कुशल और समृद्ध हो | वे चाहते थे कि भारत बड़े उद्योगों को develop करे और साथ ही MSMEs, हथकरघा, वस्त्र और कुटीर उद्योग पर भी पूरा ध्यान दे | कुटीर और लघु उद्योगों के समुचित विकास के लिए उन्हें finance और organization setup मिले, इसके लिए 1948 से 1950 के बीच All India Handicrafts Board, All India Handloom Board और Khadi & Village Industries Board की स्थापना की गई थी | डॉ० मुखर्जी का भारत के रक्षा उत्पादन के स्वदेशीकरण पर भी विशेष ज़ोर था | Chittaranjan Locomotive Works Factory, Hindustan Aircraft Factory, सिंदरी का खाद कारखाना और दामोदर घाटी निगम, ये चार सबसे सफ़ल और बड़े projects और दूसरे river valley projects की स्थापना में डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बहुत बड़ा योगदान था | पश्चिम बंगाल के विकास को लेकर वे काफ़ी passionate थे | उनकी समझ, विवेक और सक्रियता का ही परिणाम है कि बंगाल का एक हिस्सा बचाया जा सका और वह आज भी भारत का हिस्सा है | डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के लिए, जो सबसे महत्वपूर्ण बात थी, वो थी भारत की अखंडता और एकता - और इसी के लिए 52 साल की कम उम्र में ही उन्होंने अपनी जान भी गवानी पड़ी | आइये! हम हमेशा डॉ० श्यामा प्रसाद मुखर्जी के एकता के सन्देश को याद रखें, सद्भाव और भाईचारे की भावना के साथ, भारत की प्रगति के लिए जी-जान से जुटे रहें |
    मेरे प्यारे देशवासियो! पिछले कुछ सप्ताह में मुझे video call के माध्यम से सरकार की विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से संवाद करने का अवसर मिला | फाइलों से परे जाकर लोगों की life में जो बदलाव आ रहे हैं, उनके बारे में सीधा उन्हीं से जानने का अवसर मिला | लोगों ने अपने संकल्प, अपने सुख-दुःख, अपनी उपलब्धियों के बारे में बताया | मैं मानता हूँ कि मेरे लिए यह महज एक सरकारी कार्यक्रम नहीं था बल्कि यह एक अलग तरह का learning experience था और इस दौरान लोगों के चेहरे पर जो खुशियाँ देखने को मिली, उससे बड़ा संतोष का पल किसी की भी ज़िन्दगी में क्या हो सकता है? जब एक सामान्य मानवी(मानव) की कहानियाँ सुनता था | उनके भोले-भाले शब्द अपने अनुभव की कथा वो जो कह रहे थे, दिल को छू जाती थी | दूर-सुदूर गांवों में बेटियाँ common service centre के माध्यम से गांवों के बुज़ुर्गों की pension से लेकर passport बनवाने तक की सेवाएँ उपलब्ध करवा रही हैं | जब छत्तीसगढ़ की कोई बहन सीताफल को collect कर उसकी ice-cream  बनाकर व्यवसाय करती हो | झारखंड में अंजन प्रकाश की तरह देश के लाखों युवा-जन औषधि केंद्र चलाने के साथ-साथ आस-पास के गावों में जाकर सस्ती दवाइयाँ उपलब्ध करवा रहे हों | वहीं पश्चिम बंगाल का कोई नौजवान दो-तीन साल पहले नौकरी ढूंढ रहा हो और अब वह केवल अपना सफल व्यवसाय कर रहा है; इतना ही नहीं, दस-पंद्रह लोगों को और नौकरी भी दे रहा है | इधर तमिलनाडु, पंजाब, गोवा के स्कूल के छात्र अपनी छोटी उम्र में स्कूल की tinkering lab में waste management जैसे important topic पर काम कर रहे हों | न जाने कितनी-कितनी कहानियाँ थी | देश का कोई कोना ऐसा नहीं होगा जहाँ लोगों को अपनी सफलता की बात कहनी न हो | मुझे खुशी इस बात की है इस पूरे कार्यक्रम में सरकार की सफलता से ज़्यादा सामान्य मानवी (मानव) की सफलता की बातें देश की शक्ति, नए भारत के सपनों की शक्ति, नए भारत के संकल्प की शक्ति - इसे मैं अनुभव कर रहा था | समाज में कुछ लोग होते हैं | वह जब तक निराशा की बातें न करें, हताशा की बातें न करें, अविश्वास पैदा करने का प्रयास न करें, जोड़ने के बजाय तोड़ने के रास्ते न खोजें, तब तक उनको चैन नहीं होता है | ऐसे वातावरण में सामान्य मानवी (मानव) जब नई आशा, नया उमंग और अपने जीवन में घटी घटनाओं की बात लेकर के आता है तो वह सरकार का श्रेय नहीं होता | दूर-सुदूर एक छोटे से गाँव की छोटी सी बालिका की घटना भी सवा-सौ करोड़ देशवासियों के लिए प्रेरणा बन जाती है | मेरे लिए technology की मदद से, video bridge के माध्यम से लाभार्थियों के साथ समय बिताने का एक पल बहुत ही सुखद, बहुत ही प्रेरक रहा है और इससे कार्य करने का संतोष तो मिलता ही है लेकिन और अधिक कार्य करने का उत्साह भी मिलता है | ग़रीब से ग़रीब व्यक्ति के लिए ज़िन्दगी खपाने का एक और नया आनंद, एक और नया उत्साह, एक और नई प्रेरणा प्राप्त होती है | मैं देशवासियों का बहुत आभारी हूँ | 40-40, 50-50 लाख लोग इस video bridge के कार्यक्रम में जुड़े और मुझे नई ताक़त देने का काम आपने किया | मैं फिर एक बार आप सबका आभार व्यक्त करना चाहता हूँ |

मेरे प्यारे देशवासियो ! मैं हमेशा अनुभव करता हूँ, अगर हम हमारे आस-पास देखें तो कहीं-न-कहीं कुछ-न-कुछ अच्छा होता है | अच्छा करने वाले लोग होते हैं | अच्छाई की सुगंध हम भी अनुभव कर सकते हैं | पिछले दिनों एक बात मेरे ध्यान में आई और यह बड़ा अनोखा combination है | इसमें एक तरफ़ जहाँ professionals और engineers हैं वहीं दूसरी तरफ खेत में काम करने वाले, खेती से जुड़े हमारे किसान भाई-बहन हैं | अब आप सोच रहें होंगे कि यह तो दो बिल्कुल अलग-अलग व्यवसाय हैं - इनका क्या संबंध? लेकिन ऐसा है, बेंगलुरु में corporate professionals, IT engineers साथ आये | उन्होंने मिलकर के एक सहज ‘समृद्धि ट्रस्ट’ बनाया है और उन्होंने किसानों की आय दोगुनी हो, इसके लिए इस ट्रस्ट को activate किया | किसानों से जुड़ते गए, योजनाएँ बनाते गए और किसानों की आय बढ़ाने के लिए सफल प्रयास करते रहे | खेती के नए गुण सिखाने के साथ-साथ जैविक खेती कैसे की जाए? खेतों में एक फसल के साथ-साथ और भी फसल कैसे उगाई जाए? ये ट्रस्ट के द्वारा इन professional, engineer, technocrat के द्वारा किसानों को training दी जाने लगी | पहले जो किसान अपने खेतों में एक ही फसल पर निर्भर हुआ करते थे | उपज भी अच्छी नहीं होती थी और मुनाफ़ा भी ज़्यादा नहीं होता था | आज वह न केवल सब्जियाँ उगा रहें हैं और बल्कि अपनी सब्जियों की marketing भी ट्रस्ट के माध्यम से कर के, अच्छे दाम पा रहे हैं | अनाज़ उत्पादन करने वाले किसान भी इससे जुड़ें हुए हैं | एक तरफ फसल के उत्पाद से लेकर के marketing तक पूरी chain में किसानों की एक प्रमुख भूमिका है तो दूसरी तरफ मुनाफ़े में किसानों की भागीदारी सुनिश्चित उनका हक़ सुनिश्चित करने का प्रयास है | फसल अच्छी हो, उसके लिए अच्छी नस्ल की बीजें हों | इसके लिए अलग सीड-बैंक बनाया गया है | महिलाएँ इस सीड-बैंक का कामकाज देखती हैं | महिलाओं को भी जोड़ा गया है | मैं इन युवाओं को इस अभिनव प्रयोग के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूँ और मुझे खुशी है कि professionals, technocrat, engineering की दुनिया से जुड़े इन नौजवानों ने अपने दायरे से बाहर निकल कर के किसान के साथ जुड़ना, गाँव के साथ जुड़ना, खेत और खलिहान के साथ जुड़ने का जो रास्ता अपनाया है | मैं फिर एक बार मेरे देश की युवा-पीढ़ी को उनके इस अभिनव प्रयोगों, को कुछ जो शायद मैंने जाना होगा, कुछ नहीं जाना होगा, कुछ लोगों को पता होगा, कुछ पता नहीं होगा लेकिन निरंतर कोटि-कोटि लोग कुछ-न-कुछ अच्छा कर रहे हैं, उन सबको मेरी तरफ से बहुत-बहुत शुभकामना हैं |  

मेरे प्यारे देशवासियो ! GST को एक साल पूरा होने वाला है ‘One Nation, One Tax’ देश के लोगों का सपना था, वो आज हक़ीक़त में बदल चुका है | One Nation One Tax reform, इसके लिए अगर मुझे सबसे ज्यादा किसी को credit देनी है तो मैं राज्यों को credit देता हूँ | GST Cooperative federalism का एक बेहतरीन उदाहरण है, जहाँ सभी राज्यों ने मिलकर देशहित में फ़ैसला लिया और तब जाकर देश में इतना बड़ा tax reform लागू हो सका | अब तक GST Council की 27 meeting हुई हैं और हम सब गर्व कर सकते हैं कि भिन्न-भिन्न राजनीतिक विचारधारा के लोग वहाँ बैठते हैं, भिन्न-भिन्न राज्यों के लोग बैठते हैं, अलग-अलग priority वाले राज्य होते हैं लेकिन उसके बावजूद भी GST Council में अब तक जितने भी निर्णय किये गए हैं, वे सारे के सारे सर्वसहमति से किये गए हैं | GST से पहले देश में 17 अलग-अलग प्रकार के tax हुआ करते थे लेकिन इस व्यवस्था में अब सिर्फ़ एक ही tax पूरे देश में लागू है | GST ईमानदारी की जीत है और ईमानदारी का एक उत्सव भी है | पहले देश में काफ़ी बार tax के मामले में इंस्पेक्टरराज की शिकायतें आती रहती थी | GST में इंस्पेक्टर की जगह IT ने information technology ने ले ली है | return से लेकर refund तक सब कुछ online information technology के द्वारा होता है | GST के आने से check post ख़त्म हो गई और माल सामानों की आवाजाही तेज़ हो गई, जिससे न सिर्फ़ समय बच रहा है बल्कि logistics क्षेत्र में भी इसका काफ़ी लाभ मिल रहा है | GST शायद दुनिया का सबसे बड़ा tax reform होगा | भारत में इतना बड़ा tax reform सफ़ल इसलिए हो पाया क्योंकि देश के लोगों ने इसे अपनाया और जन-शक्ति के द्वारा ही GST की सफ़लता सुनिश्चित हो सकी | आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि इतना बड़ा reform, इतना बड़ा देश, इतनी बड़ी जनसंख्या इसको पूर्ण रूप से स्थिर होने में 5 से 7 साल का समय लगता है लेकिन देश के ईमानदार लोगों का उत्साह, देश की ईमानदारी का उत्सव जन-शक्ति की भागीदारी का नतीज़ा है कि एक साल के भीतर-भीतर बहुतेक मात्रा में ये नई कर प्रणाली अपनी जगह बना चुकी है, स्थिरता प्राप्त कर चुकी है और आवश्यकता के अनुसार अपनी inbuilt व्यवस्था के द्वारा वो सुधार भी करती रहती है | ये अपने आप में एक बहुत बड़ी सफ़लता सवा-सौ करोड़ देशवासियों ने अर्जित की है |

मेरे प्यारे देशवासियो! फिर एक बार ‘मन की बात’ को पूर्ण करते हुए अगले ‘मन की बात’ का इंतज़ार कर रहा हूँ, आपसे मिलने का, आपसे बातें करने का | आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएँ |
बहुत-बहुत धन्यवाद |
*************


Friday, 8 June 2018

ISBS to AIR :82 years on...

“Splendid!” I said, “And what beautiful initials!” The Viceroy concluded that he had invented it. And there was no more trouble.
          Thus All India Radio was born.”





Organized broadcasting in India began in Bombay when the first station of the Indian Broadcasting Company (IBC) was inaugurated by the British Viceroy of India, Lord Irwin on July 23rd 1927. Calcutta soon got its own station on August 26, 1927. These stations operated on medium wave of 1.5 kw of power. Radio Broadcasts by the end of the year reached about 3500 license holders.
However in a tragic turn of events, the IBC went bankrupt owing to under-capitalisation and high price of receiving sets. The liquidation of the company led to many representations to the government for the continuance of the service.  The government decided to take over the stations at Bombay and Calcutta at the depreciated value of its assets and staff at the existing terms of the company.  Thus from April 1, 1930 broadcasting in India came under the direct control of the government.  It was placed in the Department of Industries and Labour under the designation ‘Indian Broadcasting Service’. Faced with financial stringency, the government reduced IBC’s monthly expenditure to Rs. 2400 and then further to Rs. 2200.  Faced with ‘recession’, the government eventually decided to close down the broadcasting service. 
The decision naturally caused widespread resentment and certain amount of agitation especially in Bengal.  The Government of India therefore decided to continue its broadcasting service by increasing duty on the Receiving Sets from the existing 25% to 50 %.
By the end of 1932 when the BBC started its Empire Service, the number of people opting for receivers steadily increased from 8000 to 11000 approximately. The number jumped to 16000 by the end of 1934, when the government embarked on a policy of development of broadcasting by sanctioning Rs. 2.50 lakhs for the establishment of a radio station in Delhi.
In September 1935, broadcasting began in the princely state of Mysore with the name AKASHVANI (the voice from the sky).  Dr. Gopalaswamy, Professor of Psychology at the Mysore University had set up a 30 watt transmitter at his house.  A 250 watt transmitter was later imported.  It continued with support from the public and the Mysore Municipality till it was taken over by the Mysore State in 1941. 
The Delhi station of the Indian State Broadcasting Service went on the air on January 1, 1936, from the temporary studios in 18 Alipur Road.  The 20 kw mw transmitter was located at Mall Road.  By now Controller Lionel Fielden, was able to persuade the Viceroy Lord Linlithgow to adopt the name ALL INDIA RADIO despite opposition from the Secretariat.  The new name was adopted from June 8, 1936.


(*-Extract from an interview with Sir Lionel Fielden, the first Controller General of AIR on the name All India Radio, his creation.)

Tuesday, 29 May 2018

Kisanvani Impact Assessment & Capacity Building Workshop


15 AIR Kisanvani Programme Producers from country’s North Eastern States, Odisha and West Bengal will be brainstorming with leading Agricultural Scientists, Technocrats, Bureaucrats & Progressive Farmers at ICAR, Shillong from 30th May to 01st June 2018.
The three days ‘Impact Assessment & Capacity Building’ workshop, would focus on ways & means of steering the silent Second Green Revolution sprouting in the fertile lands of India’s North-East, towards the goal of ‘Doubling of Farmer’s Income by 2022’ – the organic way.
The workshop is scheduled to be inaugurated by Hon’ble Governor of Meghalaya H. E. Shri Ganga Prasad.

Sunday, 27 May 2018

‘मन की बात’(44वीं कड़ी) प्रसारण तिथि: 27.05.2018



नमस्कार ! ‘मन की बात’ के माध्यम से फिर एक बार आप सबसे   रूबरू होने का अवसर मिला है | आप लोगों को भलीभांति याद होगा   नौ-सेना की 6 महिला कमांडरों, ये एक दल पिछले कई महीनों से समुद्र की यात्रा पर था | ‘नाविका सागर परिक्रमा’ - जी मैं उनके विषय में कुछ बात करना चाहता हूँ | भारत की इन 6 बेटियों ने, उनकी इस team ने two hundred and fifty four days - 250 से भी ज़्यादा दिन समुद्र के माध्यम से INSV तारिणी में पूरी दुनिया की सैर कर 21 मई को भारत वापस लौटी हैं और पूरे देश ने उनका काफी गर्मजोशी से स्वागत किया | उन्होंने विभिन्न महासागरों और कई समुद्रों में यात्रा करते हुए लगभग बाईस हज़ार nautical miles की दूरी तय की | यह विश्व में अपने आप में एक पहली घटना थी | गत बुधवार को मुझे इन सभी बेटियों से मिलने का, उनके अनुभव सुनने का अवसर मिला | मैं एक बार फिर इन बेटियों को उनके adventure को, Navy की प्रतिष्ठा को बढ़ाने के लिए, भारत का मान-सम्मान बढ़ाने के लिये और विशेषकर दुनिया को भी लगे कि भारत की बेटियाँ कम नहीं हैं - ये सन्देश पहुँचाने के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूँ | Sense of adventure कौन नहीं जानता है | अगर हम मानव जाति की विकास यात्रा देखें तो किसी-न-किसी adventure की कोख में ही प्रगति पैदा हुई है | विकास adventure की गोद में ही तो जन्म लेता है | कुछ कर गुजरने का इरादा, कुछ लीक  से हटकर के करने का मायना, कुछ extra ordinary करने की बात, मैं भी कुछ कर सकता हूँ - ये भाव, करने वाले भले कम हों, लेकिन युगों तक, कोटि-कोटि लोगों को प्रेरणा मिलती रहती है |  पिछले दिनों आपने देखा होगा Mount Everest पर चढ़ने वालों के विषय में कई नयी-नयी बातें ध्यान में आयी हैं और सदियों से Everest मानव जाति को ललकारता रहा और बहादुर लोग उस चुनौती को स्वीकारते भी रहे हैं |
16 मई को महाराष्ट्र के चंद्रपुर के एक आश्रम-स्कूल के         5 आदिवासी बच्चों ने tribal students – मनीषा धुर्वे, प्रमेश आले, उमाकान्त मडवी, कविदास कातमोड़े, विकास सोयाम – इन हमारे आदिवासी बच्चों के एक दल ने दुनिया की सबसे ऊँची चोटी पर चढ़ाई की | आश्रम-स्कूल के इन छात्रों ने अगस्त 2017 में training शुरू की थी | वर्धा, हैदराबाद, दार्जिलिंग, लेह, लद्दाख - इनकी training हुई | इन युवाओं को ‘मिशन शौर्य’ के तहत चुना गया था और नाम के ही अनुरूप Everest फतह कर उन्होंने पूरे देश को गौरवान्वित किया है | मैं चंद्रपुर के स्कूल के लोगों को, इन मेरे नन्हे-मुन्हे साथियों को, ह्रदय से बहुत-बहुत बधाई देता हूँ | हाल ही में 16 वर्षीय शिवांगी पाठक, नेपाल की ओर से Everest फ़तह करने वाली सबसे कम उम्र की भारतीय महिला बनी | बेटी शिवांगी को बहुत-बहुत बधाई |
अजीत बजाज और उनकी बेटी दीया Everest की चढ़ाई करने वाली पहली भारतीय पिता-पुत्री की जोड़ी बन गयी | ऐसा ही नहीं कि केवल युवा ही Everest की चढ़ाई कर रहे हैं | संगीता बहल ने 19 मई को Everest की चढ़ाई की और संगीता बहल की आयु 50 से भी अधिक है | Everest पर चढ़ाई करने वाले कुछ ऐसे भी हैं, जिन्होंने दिखाया कि उनके पास न केवल skill है बल्कि वे sensitive भी हैं | अभी पिछले दिनों स्वच्छ गंगा अभियान के तहत BSF के एक group ने Everest की चढ़ाई की, पर पूरी team Everest से ढ़ेर सारा कूड़ा अपने साथ नीचे उतार कर लायी | यह कार्य प्रशंसनीय तो है ही, साथ-ही-साथ यह स्वच्छता के प्रति, पर्यावरण के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को भी दर्शाता है | वर्षों से लोग Everest की चढ़ाई करते रहे हैं और ऐसे कई लोग हैं, जिन्होंने सफलतापूर्वक इसे पूरा किया है | मैं इन सभी साहसी वीरों को,  ख़ासकर के बेटियों को ह्रदय से बहुत-बहुत बधाई देता हूँ |
                                
मेरे प्यारे देशवासियो और ख़ासकर के मेरे नौजवान दोस्तो ! अभी दो महीने पहले जब मैंने fit India की बात की थी तो मैंने नहीं सोचा था कि इस पर इतना अच्छा response आएगा | इतनी भारी संख्या में हर क्षेत्र से लोग इसके support में आगे आएँगे | जब में fit India की बात करता हूँ तो मैं मानता हूँ कि जितना हम खेलेंगे, उतना ही देश खेलेगा | social media पर लोग fitness challenge की videos share कर रहे हैं, उसमें एक-दूसरे को tag कर उन्हें challenge कर रहे हैं | Fit India के इस अभियान से आज हर कोई जुड़ रहा है | चाहे फिल्म से जुड़े लोग हों, sports से जुड़े लोग हों या देश के आम-जन, सेना के जवान हों, स्कूल की टीचर हों, चारों तरफ़ से एक ही गूँज सुनाई दे रही है – ‘हम fit तो India fit | मेरे लिए खुशी की बात है कि मुझे भी भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली जी ने challenge किया है और मैंने भी उनके challenge को स्वीकार किया है | मैं मानता हूँ कि ये बहुत अच्छी चीज है और इस तरह का challenge हमें fit रखने और दूसरों को भी fit रहने के लिए प्रोत्साहित करेगा |
मेरे प्यारे देशवासियो ! ‘मन की बात’ में कई बार खेल के संबंध में, खिलाडियों के संबंध में, कुछ-न-कुछ बातें आपने मेरे से सुनी ही हैं और पिछली बार तो Commonwealth Games के हमारे नायक, अपनी मन की बातें, इस कार्यक्रम के माध्यम से हमें बता रहे थे -
“नमस्कार सर ! मैं छवि यादव नोएडा से बोल रही हूँ, मैं आपकी ‘मन की बात’ की regular listener हूँ और आज आपसे अपनी मन की बात करना चाहती हूँ. आजकल गर्मी की छुट्टियाँ शुरू हो गयी हैं और एक माँ होने के नाते मैं देख रही हूँ कि बच्चे ज़्यादातर समय इंटरनेट games खेलते हुए बिताते हैं, जब कि जब हम छोटे थे तो हम traditional  games  जो कि ज़्यादातर outdoor games होते थे, वो खेलते थे, जैसा कि एक game था जिसमें 7 पत्थर के टुकड़े एक के ऊपर एक रखके उसे ball से मारते थे और ऊँच-नीच होता था, खो-खो, ये सब game जो आजकल खो से गए हैं | मेरा ये निवेदन है कि आप आजकल की generation को कुछ traditional  games  के बारे में बताएं, जिससे उनकी भी रूचि इस तरफ़ बढ़े, धन्यवाद |”
छवि यादव जी, आपके phone call के लिए आपका बहुत धन्यवाद | ये बात सही है कि जो खेल कभी गली-गली, हर बच्चे के जीवन का हिस्सा होते थे, वे आज कम होते जा रहे हैं | ये खेल ख़ासकर गर्मी की छुट्टियों का विशेष हिस्सा होते थे | कभी भरी दोपहरी में, तो कभी रात में खाने के बाद बिना किसी चिंता के, बिल्कुल बेफिक्र होकर के बच्चे घंटो-घंटो तक खेला करते थे और कुछ खेल तो ऐसे भी हैं, जो पूरा परिवार साथ में खेला करता था – पिट्ठू हो या कंचे हो, खो-खो हो, लट्टू हो या गिल्ली-डंडा हो, न जाने.....अनगिनत खेल कश्मीर से कन्याकुमारी, कच्छ से कामरूप तक हर किसी के बचपन का हिस्सा हुआ करते थे | हाँ, यह हो सकता है कि अलग-अलग जगह वो अलग-अलग नामों से जाने जाते थे, जैसे अब पिट्ठू ही यह खेल कई नामों से जाना जाता है | कोई उसे लागोरी, सातोलिया, सात पत्थर, डिकोरी, सतोदिया न जाने कितने नाम हैं एक ही खेल के | परंपरागत खेलों में दोनों तरह के खेल हैं | out door भी हैं, indoor भी हैं | हमारे देश की विविधता के पीछे छिपी एकता इन खेलों में भी देखी जा सकती है | एक ही खेल अलग-अलग जगह, अलग-अलग नामों से जाना जाता है | मैं गुजरात से हूँ मुझे पता है गुजरात में एक खेल है, जिसे चोमल-इस्तो कहते हैं | ये कोड़ियों या इमली के बीज या dice के साथ और 8x8 के square board के साथ खेला जाता है | यह खेल लगभग हर राज्य में खेला जाता था | कर्नाटक में इसे चौकाबारा कहते थे, मध्यप्रदेश में अत्तू | केरल में पकीड़ाकाली तो महाराष्ट्र में चम्पल, तो तमिलनाडु में दायाम और थायाम, तो कहीं राजस्थान में चंगापो न जाने कितने नाम थे लेकिन खेलने के बाद पता चलता है, हर राज्य वाले को भाषा भले न जानता हो – अरे वाह! ये खेल तो हम भी करते थे | हम में से कौन होगा, जिसने बचपन में गिल्ली-डंडा न खेला हो | गिल्ली-डंडा तो गाँव से लेकर शहरों तक में खेले जाने वाला खेल है | देश के अलग-अलग भागों में इसे अलग-अलग नामों से जाना जाता है | आंध्रप्रदेश में इसे गोटिबिल्ला या कर्राबिल्ला के नाम से जानते हैं | उड़ीसा में उसे गुलिबाड़ी कहते हैं तो महाराष्ट्र में इसे वित्तिडालू कहते हैं | कुछ खेलों का अपना एक season होता है | जैसे पतंग उड़ाने का भी एक season होता है | जब हर कोई पतंग उड़ाता है जब हम खेलते हैं, हम में जो unique qualities होती हैं, हम उन्हें freely express कर पाते हैं | आपने देखा होगा कई बच्चे, जो शर्मीले स्वभाव के होते हैं लेकिन खेलते समय बहुत ही चंचल हो जाते हैं | ख़ुद को express करते हैं, बड़े जो गंभीर से दिखते हैं, खेलते समय उनमें जो एक बच्चा छिपा होता है, वो बाहर आता है | पारंपरिक खेल कुछ इस तरह से बने हैं कि शारीरिक क्षमता के साथ-साथ वो हमारी logical thinking, एकाग्रता, सजगता, स्फूर्ति को भी बढ़ावा देते हैं | और खेल सिर्फ खेल नहीं होते हैं, वह जीवन के मूल्यों को सिखाते हैं | लक्ष्य तय करना, दृढ़ता कैसे हासिल करना!, team spirit कैसे पैदा होना, परस्पर सहयोग कैसे करना | पिछले दिनों मैं देख रहा था कि business management से जुड़े हुए training programmes में भी overall personality development और interpersonal skills के improvement के लिए भी हमारे जो परंपरागत खेल थे, उसका आजकल उपयोग हो रहा है और बड़ी आसानी से overall development में हमारे खेल काम आ रहे हैं और फिर इन खेलों को खेलने की कोई उम्र तो है ही नहीं | बच्चों से ले करके दादा-दादी, नाना-नानी जब सब खेलते हैं तो यह जो कहते हैं न generation gap, अरे वो भी छू-मंतर हो जाता है | साथ-ही-साथ हम अपनी संस्कृति और परम्पराओं को भी जानते हैं | कई खेल हमें समाज, पर्यावरण आदि के बारे में भी जागरूक करते हैं | कभी-कभी चिंता होती है कि कहीं हमारे यह खेल खो न जाएँ और वह सिर्फ खेल ही नहीं खो जाएगा, कहीं बचपन ही खो जाएगा और फिर उस कविताओं को हम सुनते रहेंगे -
यह दौलत भी ले लो
यह शौहरत भी ले लो
भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी
मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन
वो कागज की कश्ती, वो बारिश का पानी

यही गीत हम सुनते रह जाएँगे और इसीलिए यह पारंपरिक खेल, इसको खोना नहीं है आज आवश्यकता है कि स्कूल, मौहल्ले, युवा-मंडल आगे आकर इन खेलों को बढ़ावा दें | crowd sourcing के द्वारा हम अपने पारंपरिक खेलों का एक बहुत बड़ा archive बना सकते हैं | इन खेलों के videos बनाए जा सकते हैं, जिनमें खेलों के नियम, खेलने के तरीके के बारे में दिखाया जा सकता है | Animation फ़िल्में भी बनाई जा सकती हैं ताकि हमारी जो नई पीढ़ी है, जिनके लिए यह गलियों में खेले जाने वाले खेल कभी-कभी अज़ूबा होता है - वह देखेंगे, खेलेंगे, खिलेंगे |
    मेरे प्यारे देशवासियो ! आने वाले 5 जून को हमारा देश भारत आधिकारिक तौर पर World Environment Day Celebration विश्व पर्यावरण दिवस को भारत host करेगा | यह भारत के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण उपलब्धि है और यह जलवायु परिवर्तन को कम करने की दिशा में विश्व में भारत के बढ़ते नेतृत्व को भी स्वीकृति मिल रही है - इसका परिचायक है | इस बार की theme है ‘Beat Plastic Pollution’ | मेरी आप सभी से अपील है, इस theme के भाव को, इसके महत्व को समझते हुए हम सब यह सुनिश्चित करें कि हम polythene, low grade plastic का उपयोग न करें और Plastic Pollution का जो एक negative impact हमारी प्रकृति पर, wild life पर और हमारे स्वास्थ्य पर पड़ रहा है, उसे कम करने का प्रयास करें | World Environment Day की website wed-india2018 पर जाएँ और वहाँ ढ़ेर सारे सुझाव बड़े ही रोचक ढ़ंग से दिए गए हैं - देखें, जानें और उन्हें अपने रोजमर्रा के जीवन में उतारने का प्रयास करें | जब भयंकर गर्मी होती है, बाढ़ होती है | बारिश थमती नहीं है | असहनीय ठंड पड़ जाती है तो हर कोई expert बन करके global warming, climate change इसकी बातें करता है लेकिन क्या बातें करने से बात बनती है क्या? प्रकृति के प्रति संवेदनशील होना, प्रकृति की रक्षा करना, यह हमारा सहज स्वभाव होना चाहिए, हमारे संस्कारों में होना चाहिए | पिछले कुछ हफ़्तों में हम सभी ने देखा कि देश के अलग-अलग क्षेत्रों में धूल-आँधी चली, तेज़ हवाओं के साथ-साथ भारी वर्षा भी हुई, जो कि unseasonal है | जान-हानि भी हुई, माल-हानि भी हुई | यह सारी चीज़ें मूलतः weather pattern में जो बदलाव है, उसी का परिणाम है हमारी संस्कृति, हमारी परंपरा ने हमें प्रकृति के साथ संघर्ष करना नहीं सिखाया है | हमें प्रकृति के साथ सदभाव से रहना है, प्रकृति के साथ जुड़ करके रहना है | महात्मा गाँधी ने तो जीवन भर हर कदम इस बात की वकालत की थी | जब आज भारत climate justice की बात करता है | जब भारत ने Cop21 और Paris समझौते में प्रमुख भूमिका निभाई | जब हमनें international solar alliance के माध्यम से पूरी दुनिया को एकजुट किया तो इन सबके मूल में महात्मा गाँधी के उस सपने को पूरा करने का एक भाव था | इस पर्यावरण दिवस पर हम सब इस बारे में सोचें कि हम अपने planet को स्वच्छ और हरित बनाने के लिए क्या कर सकते हैं? किस तरह इस दिशा में आगे बढ़ सकते हैं? क्या innovative कर सकते हैं? बारिश का मौसम आने वाला है, हम इस बार record वृक्षारोपण का लक्ष्य ले सकते हैं और केवल वृक्ष लगाना ही नहीं बल्कि उसके बड़े होने तक उसके रख-रखाव की व्यवस्था करना |

मेरे प्यारे देशवासियो और विशेषकर के मेरे नौजवान साथियो ! आप 21 जून को बराबर अब याद रखते हैं, आप ही नहीं, हम ही नहीं सारी दुनिया 21 जून को याद रखती है | पूरे विश्व के लिए 21 जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाता है और ये सर्व-स्वीकृत हो चुका है और लोग महीनों पहले तैयारियाँ शुरू कर देते हैं | इन दिनों ख़बर मिल रही है, सारी दुनिया में 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की भरसक तैयारियाँ चल रही हैं | yoga for unity और harmonious society का ये वो सन्देश है, जो विश्व ने पिछले कुछ वर्षों से बार-बार अनुभव किया है | संस्कृत के महान कवि भर्तृहरि ने सदियों पहले अपने शतकत्रयम् में लिखा था –
धैर्यं यस्य पिता क्षमा च जननी शान्तिश्चिरं गेहिनी
सत्यं सूनुरयं दया च भगिनी भ्राता मनः संयमः।
शय्या भूमितलं दिशोSपि वसनं ज्ञानामृतं भोजनं
एते यस्य कुटिम्बिनः वद सखे कस्माद् भयं योगिनः।।

सदियों पहले ये कही गई बात का सीधा-सीधा मतलब है कि नियमित योगा अभ्यास करने पर कुछ अच्छे गुण सगे-सम्बन्धियों और मित्रों की तरह हो जाते हैं | योग करने से साहस पैदा होता है जो सदा ही पिता की तरह हमारी रक्षा करता है | क्षमा का भाव उत्पन्न होता है जैसा माँ का अपने बच्चों के लिए होता है और मानसिक शांति हमारी स्थायी मित्र बन जाती है | भर्तृहरि ने कहा है कि नियमित योग करने से सत्य हमारी संतान, दया हमारी बहन, आत्मसंयम हमारा भाई, स्वयं धरती हमारा बिस्तर और ज्ञान हमारी भूख मिटाने वाला बन जाता है | जब इतने सारे गुण किसी के साथी बन जाएँ तो योगी सभी प्रकार के भय पर विजय प्राप्त कर लेता है | एक बार फिर मैं सभी देशवासियों से अपील करता हूँ कि वे योग की अपनी विरासत को आगे बढ़ायें और एक स्वस्थ, खुशहाल और सद्भावपूर्ण राष्ट्र का निर्माण करें |
    मेरे प्यारे देशवासियो ! आज 27 मई है | भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु जी की पुण्यतिथि है | मैं पंडित जी को प्रणाम करता हूँ | इस मई महीने की याद एक और बात से भी जुड़ी है और वो है वीर सावरकर | 1857 में ये मई का ही महीना था, जब भारतवासियों ने अंग्रेजों को अपनी ताकत दिखाई थी | देश के कई हिस्सों में हमारे जवान और किसान अपनी बहादुरी दिखाते हुए अन्याय के विरोध में उठ खड़े हुए थे | दुःख की बात है कि हम बहुत लम्बे समय तक 1857 की घटनाओं को केवल विद्रोह या सिपाही विद्रोह कहते रहे | वास्तव में उस घटना को न केवल कम करके आँका गया बल्कि यह हमारे स्वाभिमान को धक्का पहुँचाने का भी एक प्रयास था | यह वीर सावरकर ही थे, जिन्होंने निर्भीक हो के लिखा कि 1857 में जो कुछ भी हुआ वो कोई विद्रोह नहीं था बल्कि आजादी की पहली लड़ाई थी | सावरकर सहित लंदन के India House के वीरों ने इसकी 50वीं वर्षगांठ धूमधाम से मनाई | यह भी एक अद्भुत संयोग है कि जिस महीने में स्वतंत्रता का पहला स्वतंत्र संग्राम आरंभ हुआ, उसी महीने में वीर सावरकर जी का जन्म हुआ | सावरकर जी का व्यक्तित्व विशेषताओं से भरा था; शस्त्र और शास्त्र दोनों के उपासक थे | आमतौर पर वीर सावरकर को उनकी बहादुरी और ब्रिटिश राज के खिलाफ़ उनके संघर्ष के लिए जानते हैं लेकिन इन सबके अलावा वे एक ओज़स्वी कवि और समाज सुधारक भी थे, जिन्होंने हमेशा सद्भावना और एकता पर बल दिया | सावरकर जी के बारे में एक अद्भुत वर्णन हमारे प्रिय आदरणीय अटल बिहारी वाजपेयी जी ने किया है | अटल जी ने कहा था – सावरकर माने तेज़, सावरकर माने त्याग, सावरकर माने तप, सावरकर माने तत्व, सावरकर माने तर्क, सावरकर माने तारुण्य, सावरकर माने तीर, सावरकर माने तलवार | कितना सटीक चित्रण किया था अटल जी ने | सावरकर कविता और क्रांति दोनों को साथ लेकर चले | संवेदनशील कवि होने के साथ-साथ वे साहसिक क्रांतिकारी भी थे |       

मेरे प्यारे भाइयो-बहनो ! मैं टी.वी. पर एक कहानी देख रहा था | राजस्थान के सीकर की कच्ची बस्तियों की हमारी ग़रीब बेटियों की | हमारी ये बेटियाँ, जो कभी कचरा बीनने से लेकर घर-घर माँगने को मजबूर थीं - आज वें सिलाई का काम सीख कर ग़रीबों का तन ढ़कने के लिए कपड़े सिल रही हैं | यहाँ की बेटियाँ, आज अपने और अपने परिवार के कपड़ों के अलावा सामान्य से लेकर अच्छे कपड़े तक सिल रही हैं | वे इसके साथ-साथ कौशल विकास का course भी कर रही हैं | हमारी ये बेटियाँ आज आत्मनिर्भर बनी हैं | सम्मान के साथ अपना जीवन जी रही है और अपने-अपने परिवार के लिए एक ताक़त बन गई है | मैं आशा और विश्वास से भरी हमारी इन बेटियों को उनके उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएँ देता हूँ | इन्होंने दिखाया है कि अगर कुछ कर दिखाने का जज़्बा हो और उसके लिए आप कृतसंकल्पित हों तो तमाम मुश्किलों के बीच भी सफलता हासिल की जा सकती है और ये सिर्फ सीकर की बात नहीं है हिन्दुस्तान के हर कोने में आपको ये सब देखने को मिलेगा | आपके पास, अड़ोस-पड़ोस में नज़र करोगे तो ध्यान में आएगा कि लोग किस प्रकार से परेशानियों को परास्त करते हैं | आपने महसूस किया होगा कि जब भी हम किसी चाय की दुकान पर जाते हैं, वहाँ की चाय का आनंद लेते हैं तो साथ के कुछ लोगों से चर्चा और विचार-विमर्श भी होता ही है | ये चर्चा राजनीतिक भी होती है, सामाजिक भी होती है, चलचित्र की भी होती है, खेल और खिलाड़ियों की भी होती है, देश की समस्याओं पर भी होती है - कि ऐसी समस्या है - इसका समाधान ऐसे होगा - ये करना चाहिए लेकिन अक्सर ये चीज़ें सिर्फ चर्चा तक सीमित रह जाती हैं लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं, जो अपने कार्यों से, अपनी मेहनत और लगन से बदलाव लाने की दिशा में आगे बढ़ते हैं, उसे हकीकत का रूप देते हैं | दूसरों के सपनों को अपना बना लेने वाले और उन्हें पूरा करने के लिए खुद को खपा देने की कुछ ऐसी ही कहानी उड़ीसा के कटक शहर के झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले डी. प्रकाश राव की | कल ही मुझे  डी. प्रकाश राव से मिलने का सोभाग्य मिला | श्रीमान् डी. प्रकाश राव पिछले पाँच दशक से शहर में चाय बेच  रहे हैं | एक मामूली सी चाय बेचने वाला, आज आप जानकर हैरान हो जायेंगे 70 से अधिक बच्चों के जीवन में शिक्षा का उजियारा भर रहा है | उन्होंने बस्ती और झुग्गियों में रहने वाले बच्चों के लिए ‘आशा आश्वासन’ नाम का एक स्कूल खोला | जिस पर ये ग़रीब चाय वाला अपनी आय का 50% धन उसी में खर्च कर देता है | वे स्कूल में आने वाले सभी बच्चों को शिक्षा, स्वास्थ्य और भोजन की पूरी व्यवस्था करते हैं | में डी. प्रकाश राव की कड़ी मेहनत, उनकी लगन और उन ग़रीब बच्चों के जीवन को नयी दिशा देने के लिए बहुत-बहुत बधाई देता हूँ |    उन्होंने उनकी ज़िन्दगी के अँधेरे को समाप्त कर दिया है | ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ ये वेद-वाक्य कौन नहीं जानता है लेकिन उसको जी करके दिखाया है डी. प्रकाश राव ने | उनकी जीवन हम सभी के लिए, समाज और पूरे देश के लिए एक प्रेरणा है | आप के भी अगल-बगल में ऐसी प्रेरक घटनाओं की श्रृंखला होगी | अनगिनत घटनाएँ होंगी | आइये हम सकारात्मकता को आगे बढाएं |
जून के महीने में इतनी अधिक गर्मी होती है कि लोग बारिश का इंतज़ार करते हैं और इस उम्मीद में आसमान में बादलों की ओर टकटकी लगाये देखते हैं | अब से कुछ दिनों बाद लोग चाँद की भी प्रतीक्षा करेंगे | चाँद दिखाई देने का अर्थ यह है कि ईद मनाई जा सकती है | रमज़ान के दौरान एक महीने के उपवास के बाद ईद का पर्व जश्न की शुरुआत का प्रतीक है | मुझे विश्वास है कि सभी लोग ईद को पूरे उत्साह से मनायेंगे | इस अवसर पर बच्चों को विशेष तौर पर अच्छी ईदी भी मिलेगी | आशा करता हूँ कि ईद का त्योहार हमारे समाज में सद्भाव के बंधन को और मज़बूती प्रदान करेगा | सबको बहुत-बहुत शुभकामनाएँ |
मेरे प्यारे देशवासियो ! आप सबका बहुत-बहुत धन्यवाद | फिर एक बार अगले महीने ‘मन की बात’ में मिलेंगे |
नमस्कार !
*****