Sunday, 25 November 2018

Mann Ki Baat @50: The Man, the Message and the Medium


By Fayyaz Sheheryar, Director General

In an 1895 article "Brunch: A Plea" in Hunter's Weekly, British author Guy Beringer defines ‘Sunday brunch’ as "cheerful, sociable and talk-compelling. It puts you in a good temper, it makes you satisfied with yourself and your fellow beings, and it sweeps away the worries and cobwebs of the week."
For 49 months now, All India Radio has been setting the table one Sunday a month for elevenses, a special brunch so to speak, featuring a special man at the head of the table.

We had watched the man speak in a high-octane election campaign for months in 2014. We also saw how he pulled crowds from across geographical entities of India which was ample indication for us at All India Radio (AIR) that here was a broadcaster worth his salt.
On 20 May 2014, as he bowed and touched his forehead on the steps of the entrance to Parliament House  as the BJP’s Prime Minister-designate, we saw a   person risen from the ranks and attaining heights in a big and complex democracy proudly calling himself a ‘sevak’ rather than a ‘ruler’. It occurred to us that he could (what in broadcasting parlance is called) “make good radio” as broadcasters like us, primarily for public service broadcasting, search for nothing but a captive audience.

Thus we approached a stern-faced, matter of fact Prime Minister, carrying in our arms the strength of All India Radio, and requested him to create an apolitical bridge between the elector and the elected.  

Dynamic changes have taken place at a dizzy pace on the audio-visual landscape. While these changes are by and large technology-driven and global in their sweep, one revolutionary change occurred nearer home in India when the Prime Minister, for the first time in the history of Indian broadcasting, gave the nod to the nation’s public service broadcaster, for Mann Ki Baat, his informal, intimate exchange of ideas and thoughts with his fellow countrymen.

Today as the 50th episode of Mann Ki Baat is aired, it is time to look back at the unique monthly radio address which started in October 2014 and has had a memorable run. It began as a curious communication phenomenon where a leading, tech-savvy politician indulges, ironically, in a strictly apolitical conversation on a seemingly obsolete medium. It has now become a part of India’s cultural zeitgeist and entered popular lexicon. When you say ‘Mann Ki Baat’ there’s hardly anyone who won’t get what you are talking about, such has been its impact. Its popularity is not without reason – it has had some significant moments.

It has also had its moments of trepidation for me, particularly in those early days as I had attempted to bring into the fold of AIR a staunch critic of political rivals and chances were the broadcast might attract and wean away my audiences in equal measure. But that was not to be.

It is tempting to ask “In today’s world, why did the Prime Minister choose radio?”  The reasons are not far to seek.  Radio is an intimate, story-telling medium. There cannot be a more potent instrument than radio for such a candid, /warm/intimate uninhibited exchange of ideas between the country’s Prime Minister and his people.  And AIR’s reach is stupendous, with about 600 channels carrying the programme.

            As broadcast followed broadcast, attracting applause not only at home but abroad, we saw BBC and NPR chasing me to permit dissemination in those parts of the world where most other modes of broadcasting are second to radio.

It transformed my Prime Minister into a school-teacher, a sports guide, a philanthropist, counsellor, ambassador of peace and brotherhood, a concerned head of the government that was intermittently and intensely bothered by the effect of climate change & global warming, his concerns about people and their surroundings being visibly untidy, a democrat who wished justice and equality merely on the basis of being citizen of India.

Many world leaders have realised the power of radio – Winston Churchill, Franklin Roosevelt (with his popular radio addresses called Fireside Chats) and successive Presidents of the United States of America. The erstwhile US President Barack Obama was more than happy to partner our Prime Minister in this special broadcast when he touched down in India for Republic Day 2015.

This special edition in which the Indian Prime Minister and the US President talk about their humble beginnings and their concern for people especially the youth had an indelible impact.  Both emphasized on youth power saying “Communists used to say earlier, 'workers of the world unite.' I think today it should be youth -- unite the world”.  This gave a new fillip to the country’s youth, prompting them to come forward to partner the Government in the task of nation-building.  This was also America’s tribute to the people’s Prime Minister in India.

Mann Ki Baat, far above the terrestrial transmission, reached Indian and global audiences alike through live streaming supported by AIR’s official mobile app – ‘All India Radio LIVE’; through megaphones in Panchayats as a narrowcast for a clustered audience through Direct to Home (DTH) devices. And most recently, through Amazon’s Echo Dot where Alexa takes command and you get the AIR service of your choice.

Most of all, Indians in different parts of India, speaking regional languages, and those that form the Indian Diaspora and those too who are not Indians at all but have deep interest in Indian affairs all get versions of Mann Ki Baat in their language including English and Sanskrit.

That has made Mann Ki Baat the most widely disseminated radio broadcast in the world, making it an example of what is best in public service broadcasting.

Every time I travelled abroad in the last four years, many professionals in the Asia Pacific region and European Broadcasting Union echoed my view that radio in a democracy needs to cement different segments of audiences which can hardly be done unless the Chief Executive of the country knocks at their doors every last Sunday of the month at 11 am. And wanting any and all among his audience to send in their views, so that he replies and wherever possible, remedies.

The idea of Mann Ki Baat attracted commercial radio and radio and television news in private sector and it is broadcast not merely for its intrinsic news value but also for it bringing a healing touch to those sections lacking access to counselling and redressal.

Mann Ki Baat is unique in many respects. First, it is an unexpurgated broadcast – spontaneous, candid, uninhibited and straight from the heart – from the Prime Minister. Secondly, it is digitally created spoken word disseminated through terrestrial mode, DTH and internet platforms. Thirdly, the programme is designed to invoke reciprocity, leading to a deluge of letters and feedback on the MyGov portal from people sharing their trials, tribulations, concerns and aspirations with their Prime Minister. Yet another feature is crowd sourcing to elicit suggestions and inputs for subsequent episodes in a self-effacing gesture by the Prime Minister.

A rewind to some of the milestones: In December 2014, the Modi government had launched ‘Beti Bachao Beti Padhao’, a programme aimed at bringing about a societal transformation in the way the girl child is treated, with a special focus upon more than a 100 gender-sensitive districts which had a skewed sex ratio.

A few months later, a sarpanch clicked a selfie with his daughter in a Haryana village. By itself, this would have meant little more than a happy moment for the father-daughter duo. Little did they know that they would end up creating a worldwide trend.

Taking a cue from the Haryana village sarpanch, the Prime Minister spoke about BetiBachao and appealed to people to put up a #SelfieWithDaughter on social media and tell everyone how proud they were of their daughters. There was such tremendous positivity generated by this worldwide trend that each picture of a daughter basking in the love of her proud parents was a sight to behold.

Commoners, cricketers, celebrities, international diplomats, politicians, media persons and even people from other countries from all walks of life tweeted and posted their #SelfieWithDaughter.

The atmosphere of love and pride it created was lauded universally, not only by people from across the world but also by at least one politician from the Congress.

In a single stroke, the constant negativity around a sensitive but important matter had been turned into a positive, ‘can do’ atmosphere that resonated with the message that nothing is more precious than a daughter.

Mann Ki Baat and Swachh Bharat are connected in more ways than one. For starters, while Swachh Bharat was launched on October 2nd 2014, the first episode of Mann Ki Baat went on air on October 3rd 2014, the very next day. The next connection is that Mann Ki Baat, for the Prime Minister, has been one of the important platforms in strengthening the cleanliness mission and making it a more people-driven movement. Most episodes of the radio address, if not all, have some element relating to ‘Swachhata’ in them.

In many editions of Mann Ki Baat, the Prime Minister mentions interesting but inspiring anecdotes from the lives of common people who want to see a cleaner India. From a retired teacher donating a third of his life’s savings to the cleanliness mission to a girl in a Karnataka village who resorted to Satyagraha to get a toilet built, a widespread involvement of people in cleanliness mission can be seen.

One especially endearing phone call that the Prime Minister received on a Mann Ki Baat episode will, however, remain something to be marveled at. A young boy, a child in fact, called the Prime Minister on the number dedicated for Mann Ki Baat inputs. He had a one-line command for the Prime Minister of the country – ‘Ensure availability of dustbins in every street’.

This was, at once, both a vindication and an indication. It was a vindication of the Mann Ki Baat platform that it gave a voice to a child who wanted to be heard on an important issue as well as an indication of how much the message of a clean India has percolated into the minds of the generation that will create the India of tomorrow.

Youth, especially students, as well as lifestyle issues of our competitive times have been a regular focus of Mann Ki Baat. The Prime Minister had dedicated one complete episode in February 2016 to the topic of facing exams in a stress-free manner. People who faced tremendous pressure themselves and excelled, such as Sachin Tendulkar, Viswanathan Anand and Prof CNR Rao, too, featured in this episode giving valuable, non-preachy, simple tips to students.

Later, driven by the overwhelming positive feedback from the students, teachers, parents and the education community on how impactful this episode was, the Prime Minister went on to write the best-selling book ‘Exam Warriors’ on the same topic. What started out as a topic on a radio address turned into a bestselling book of students.

Speaking of exams and stress, there was another related topic, one that society often brushes under the carpet that the Prime Minister spoke of in one of the episodes of Mann Ki Baat. It was about depression. It was a heartfelt and meaningful gesture when he spoke of the vulnerability of the youth, especially students who lived in hostels to depression. He charted the way out of depression in his own unique way when he advocated for expression rather than suppression to help oneself come out of depression.

He stressed on communication, creation of a psychologically conducive environment, support of family and friends, professional help and Yoga to win against lifestyle diseases like depression that are often trivialized and stigmatized. An Indian political leader reaching out to the vulnerable on such a sensitive matter, with deep understanding and empathy, was unprecedented. This was universally hailed and, to many, was a highpoint of Mann Ki Baat as this was truly Mann Ki Baat.

From the girl child to student stress, from cleanliness to coming out of depression, the Prime Minister has often utilized Mann Ki Baat as a platform to evocatively make society speak to itself by speaking to him. Mann Ki Baat has become a conversation that millions of Indians look forward to, with their cup of tea on a Sunday every month.

And All India Radio has the privilege to host it.






‘मन की बात’ (50वाँ एपिसोड) प्रसारण तिथि: 25.11.2018

मेरे प्यारे देशवासियो, नमस्कार | 3 अक्टूबर, 2014
विजयादशमी का पावन पर्व | ‘मन की बात’ के माध्यम से हम सबने
एक साथ, एक यात्रा का प्रारम्भ किया था | ‘मन की बात’, इस यात्रा
के आज 50 एपिसोड पूरे हो गए हैं | इस तरह आज ये Golden
Jubilee Episode स्वर्णिम एपिसोड है | इस बार आपके जो पत्र और
फ़ोन आये हैं, अधिकतर वे इस 50 एपिसोड के सन्दर्भ में ही हैं |
MyGov पर दिल्ली के अंशु कुमार, अमर कुमार और पटना से विकास
यादव, इसी तरह से NarendraModiApp पर दिल्ली की मोनिका जैन,
बर्दवान, West Bengal के प्रसेनजीत सरकार और नागपुर की संगीता
शास्त्री इन सब लोगों ने लगभग एक ही तरह का प्रश्न पूछा है |
उनका कहना है कि अक्सर लोग आपको latest technology, Social
Media और Mobile Apps के साथ जोड़ते हैं, लेकिन आपने लोगों के
साथ जुड़ने के लिये रेडियो को क्यों चुना ? आपकी ये जिज्ञासा बहुत
स्वाभाविक है कि आज के युग में, जबकि करीब रेडियो भुला दिया
गया था उस समय मोदी रेडियो लेकर के क्यों आया ? मैं आपको
एक किस्सा सुनाना चाहता हूँ | ये 1998 की बात है, मैं भारतीय
जनता पार्टी के संगठन के कार्यकर्ता के रूप में हिमाचल में काम
करता था | मई का महीना था और मैं शाम के समय travel करता
हुआ किसी और स्थान पर जा रहा था | हिमाचल की पहाड़ियों में

शाम को ठण्ड तो हो ही जाती है, तो रास्ते में एक ढाबे पर चाय के
लिये रुका और जब मैं चाय के लिए order किया तो उसके पहले, वो
बहुत छोटा सा ढाबा था, एक ही व्यक्ति खुद चाय बनाता था, बेचता
था | ऊपर कपड़ा भी नहीं था ऐसे ही road के किनारे पर छोटा सा
ठेला लगा के खड़ा था | तो उसने अपने पास एक शीशे का बर्तन था,
उसमें से लड्डू निकाला, पहले बोला – साहब, चाय बाद में, लड्डू
खाइए | मुँह मीठा कीजिये | मैं भी हैरान हो गया तो मैंने पूछा क्या
बात है कोई घर में कोई शादी-वादी कोई प्रसंग-वसंग है क्या ! उसने
कहा नहीं-नहीं भाईसाहब, आपको मालूम नहीं क्या ? अरे बहुत बड़ी
खुशी की बात है वो ऐसा उछल रहा था, ऐसा उमंग से भरा हुआ था,
तो मैंने कहा क्या हुआ ! अरे बोले आज भारत ने bomb फोड़ दिया है
| मैंने कहा भारत ने bomb फोड़ दिया है ! मैं कुछ समझा नहीं ! तो
उसने कहा - देखिये साहब, रेडियो सुनिये | तो रेडियो पर उसी की
चर्चा चल रही थी | तो उसने कहा उस समय हमारे प्रधानमंत्री अटल
बिहारी वाजपेयी ने - वो परमाणु परीक्षण का दिन था और मीडिया के
सामने आकर के घोषणा की थी और इसने ये घोषणा रेडियो पर सुनी
थी और नाच रहा था और मुझे बड़ा ही आश्चर्य हुआ कि इस जंगल
के सुनसान इलाके में, बर्फीली पहाड़ियों के बीच, एक सामान्य इंसान
जो चाय का ठेला लेकर के अपना काम कर रहा है और दिन-भर
रेडियो सुनता रहता होगा और उस रेडियो की ख़बर का उसके मन पर
इतना असर था, इतना प्रभाव था और तब से मेरे मन में एक बात
घर कर गयी थी कि रेडियो जन-जन से जुड़ा हुआ है और रेडियो की

बहुत बड़ी ताकत है | communication की reach और उसकी गहराई,
शायद रेडियो की बराबरी कोई नहीं कर सकता ये मेरा उस समय से
मेरे मन में भरा पड़ा है और उसकी ताकत का मैं अंदाज करता था |
तो जब मैं प्रधानमंत्री बना तो सबसे ताकतवर माध्यम की तरफ़ मेरा
ध्यान जाना बहुत स्वाभाविक था | और जब मैंने मई 2014 में एक
‘प्रधान-सेवक’ के रूप में कार्यभार संभाला तो मेरे मन में इच्छा थी
कि देश की एकता, हमारे भव्य इतिहास, उसका शौर्य, भारत की
विविधताएँ, हमारी सांस्कृतिक विविधताएँ, हमारे समाज के रग-रग में
समायी हुई अच्छाइयाँ, लोगों का पुरुषार्थ, जज़्बा, त्याग, तपस्या इन
सारी बातों को, भारत की यह कहानी, जन-जन तक पहुँचनी चाहिये |
देश के दूर-सुदूर गावों से लेकर Metro Cities तक, किसानों से लेकर
के युवा professionals तक और बस उसी में से ये ‘मन की बात’ की
यात्रा प्रारंभ हो गयी | हर महीने लाखों की संख्या में पत्रों को पढ़ते,
phone calls सुनते, App और MyGov पर comment देखते और इन
सबको एक सूत्र में पिरोकर के, हल्की-फुल्की बातें करते-करते 50
episode की एक सफ़र, ये यात्रा हम सबने मिलकर के कर ली है |
हाल ही में आकाशवाणी ने ‘मन की बात’ पर survey भी कराया | मैंने
उनमें से कुछ ऐसे feedback को देखा जो काफी दिलचस्प हैं | जिन
लोगों के बीच survey किया गया है, उनमें से औसतन 70%
नियमित रूप से ‘मन की बात’ सुनने वाले लोग हैं | अधिकतर लोगों
को लगता है कि ‘मन की बात’ का सबसे बड़ा योगदान ये है कि
इसने समाज में positivity की भावना बढ़ायी है | ‘मन की बात’ के

माध्यम से बड़े पैमाने पर जन-आन्दोलनों को बढ़ावा मिला है |
#indiapositive को लेकर व्यापक चर्चा भी हुई है | ये हमारे देशवासियों
के मन में बसी positivity की भावना की, सकारात्मकता की भावना
की भी झलक है | लोगों ने अपना ये अनुभव भी share किया है कि
‘मन की बात’ से volunteerism यानी स्वेच्छा से कुछ करने की भावना
बढ़ी है | एक ऐसा बदलाव आया है जिसमें समाज की सेवा के लिए
लोग बढ़ चढ़ करके आगे आ रहे हैं | मुझे यह देखकर के खुशी हुई
कि ‘मन की बात’ के कारण रेडियो, और अधिक लोकप्रिय हो रहा है |
लेकिन यह केवल रेडियो ही नहीं है जिसके माध्यम से लोग इस
कार्यक्रम में जुड़ रहे हैं | लोग टी.वी., एफ़.एम. रेडियो, मोबाइल,
इन्टरनेट, फ़ेसबुक लाइव, और periscope के साथ-साथ
NarendraModiApp के माध्यम से भी ‘मन की बात’ में अपनी
भागीदारी सुनिश्चित कर रहे हैं | मैं ‘मन की बात’ परिवार के आप
सभी सदस्यों को इस पर विश्वास जताने और इसका हिस्सा बनने के
लिये अंतःकरणपूर्वक धन्यवाद देता हूँ |
(फ़ोन कॉल-1)
“आदरणीय प्रधानमंत्री जी, नमस्ते ! मेरा नाम शालिनी है और
मैं हैदराबाद से बोल रही हूँ | ‘मन की बात’ कार्यक्रम जनता के बीच
एक बहुत ही लोकप्रिय कार्यक्रम है | प्रारम्भ में लोगों ने सोचा कि
यह कार्यक्रम भी एक राजनीतिक मंच बनकर ही रह जाएगा और
आलोचना का विषय भी बना | परन्तु जैसे-जैसे ये कार्यक्रम आगे बढ़ा
हमने देखा कि राजनीति के स्थान पर, यह सामाजिक समस्याओं और

चुनौतियों पर ही केन्द्रित रहा और इस तरह मेरे जैसे करोड़ों सामान्य
लोगों से जुड़ता गया | धीमे-धीमे आलोचना भी समाप्त हो गयी | तो
मेरा प्रश्न यह है कि आप इस कार्यक्रम को किस प्रकार राजनीति से
दूर रखने में सफल रहे | क्या कभी आपका ऐसा मन नहीं हुआ कि
आप इस कार्यक्रम को राजनीति के लिये उपयोग कर सकें या फिर
इस मंच से अपनी सरकार की उपलब्धियाँ गिना सकें ? धन्यवाद |”
(फ़ोन कॉल समाप्त)

आपके फ़ोन-कॉल के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद | आपकी आशंका
सही है | दरअसल नेता को mike मिल जाए और लाखों-करोड़ों की
संख्या में सुनने वाले हों, तो फिर क्या चाहिये ? कुछ युवा मित्रों ने
‘मन की बात’ में आए सब विषयों पर एक study की | उन्होंने सारे
episode का lexical analysis किया और उन्होंने अध्ययन किया कि
कौन से शब्द कितनी बार बोले गए ? कौन से शब्द हैं जो बार-बार
बोले गए ? उनकी एक finding यही है कि यह कार्यक्रम apolitical रहा
| जब ‘मन की बात’ शुरू किया था तभी मैंने तय किया था कि न
इसमें politics हो, न इसमें सरकार की वाह-वाही हो, न इसमें कहीं
मोदी हो और मेरे इस संकल्प को निभाने के लिये सबसे बड़ा संबल,
सबसे बड़ी प्रेरणा मिली आप सबसे | हर ‘मन की बात’ से पहले आने
वाले पत्रों, online comments, phone calls इनमें श्रोताओं की अपेक्षाएँ
साफ़ होती हैं | मोदी आएगा और चला जाएगा, लेकिन यह देश अटल
रहेगा, हमारी संस्कृति अमर रहेगी | 130 करोड़ देशवासियों की छोटी-

छोटी यह कहानियाँ हमेशा जीवित रहेंगी | इस देश को नयी प्रेरणा में
उत्साह से नयी ऊंचाइयों पर लेती जाती रहेंगी | मैं भी कभी-कभी
पीछे मुड़कर के देखता हूँ तो मुझे भी बहुत बड़ा आश्चर्य होता है |
कभी कोई देश के किसी कोने से पत्र लिखकर कहता है - हमें छोटे
दुकानदारों, auto चलाने वालों, सब्जी बेचने वालों ऐसे लोगों से बहुत
ज़्यादा मोल-भाव नहीं करना चाहिये | मैं पत्र पढता हूँ, ऐसा ही भाव
कभी किसी और पत्र में आया हो उसको साथ गूँथ लेता हूँ | दो बातें
मैं अपने अनुभव की भी उसके साथ share कर लेता हूँ, आप सबके
साथ बाँट लेता हूँ और फिर न जाने कब यह बात घर-परिवारों में
पहुँचती है, social media और WhatsApp पर घूमती है और एक
परिवर्तन की ओर बढ़ती रहती है | आपकी भेजी स्वच्छता की
कहानियों ने, सामान्य लोगों के ढ़ेर सारे उदाहरणों ने, न जाने कब
घर-घर में एक नन्हा स्वच्छता का brand Ambassador खड़ा कर दिया
है, जो घरवालों को भी टोकता है और कभी-कभी phone call कर
प्रधानमंत्री को भी आदेश देता है | कब किसी सरकार की इतनी
ताक़त होगी कि selfiewithdaughter की मुहिम हरियाणा के एक छोटे
से गाँव से शुरू होकर पूरे देश में ही नहीं, विदेशों में भी फैल जाए |
समाज का हर वर्ग, celebrities सब जुड़ जाएँ और समाज में सोच-
परिवर्तन की एक नयी modern language में, जिसे आज की पीढ़ी
समझती हो ऐसी अलख जगा जाये | कभी-कभी ‘मन की बात’ का
मजाक भी उड़ता है लेकिन मेरे मन में हमेशा ही 130 करोड़ देशवासी
बसे रहते हैं | उनका मन मेरा मन है | ‘मन की बात’ सरकारी बात

नहीं है - यह समाज की बात है | ‘मन की बात’ एक aspirational
India, महत्वाकांक्षी भारत की बात है | भारत का मूल-प्राण राजनीति
नहीं है, भारत का मूल-प्राण राजशक्ति भी नहीं है | भारत का मूल-
प्राण समाजनीति है और समाज-शक्ति है | समाज जीवन के हजारों
पहलू होते हैं उनमें से एक पहलू राजनीति भी है | राजनीति सबकुछ
हो जाए, यह स्वस्थ समाज के लिए एक अच्छी व्यवस्था नहीं है |
कभी-कभी राजनीतिक घटनाएँ और राजनीतिक लोग, इतने हावी हो
जाते हैं कि समाज की अन्य प्रतिभाएँ और अन्य पुरुषार्थ दब जाते हैं
| भारत जैसे देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए जन-सामान्य की
प्रतिभाएँ पुरुषार्थ को उचित स्थान मिले, यह हम सबका एक सामूहिक
दायित्व है और ‘मन की बात’ इस दिशा में एक नम्र और छोटा सा
प्रयास है |
(फ़ोन कॉल–2)
“नमस्ते प्रधानमंत्री जी ! मैं प्रोमिता मुखर्जी बोल रही हूँ मुंबई
से | सर ‘मन की बात’ का हर episode गहरी insight से, जानकारी
information से, positive stories से और आम आदमी के अच्छे कामों
से भरा हुआ होता है | तो मैं आपसे पूछना चाहती हूँ कि हर
programme से पहले आप कितना prepare करते हैं ?”
(फोन कॉल समाप्त)

फ़ोन कॉल के लिए आप का बहुत-बहुत धन्यवाद ! आपका
सवाल एक प्रकार से अपनेपन से पूछा सवाल है | मैं मानता हूँ ‘मन
की बात’ के 50 episode की सबसे बड़ी सिद्धि यही है कि आप
प्रधानमंत्री से नहीं, जैसे अपने एक निकट साथी से सवाल पूछ रहे हैं |
बस, यही तो लोकतंत्र है | आपने जो सवाल पूछा है अगर मैं सीधे
शब्दों में उत्तर दूँ तो कहूँगा - कुछ भी नहीं | actually ‘मन की बात’
मेरे लिए बहुत ही आसान काम है | हर बार ‘मन की बात’ से पहले
लोगों के पत्र आते हैं | Mygov और Narendra Modi Mobile App पर
लोग अपने विचार share करते हैं | एक Toll Free Number भी है –
1800117800 वहाँ कॉल करके लोग अपने सन्देश अपनी आवाज़ में
record भी करते हैं | मेरी कोशिश रहती है कि ‘मन की बात’ से पहले
ज्यादा से ज्यादा पत्र और comments खुद पढूँ | मैं काफी सारे फ़ोन
कॉल भी सुनता हूँ | जैसे-जैसे ‘मन की बात’ का episode करीब आता
है तो travelling के दौरान, आपके द्वारा भेजे गए ideas और inputs
को मैं बहुत बारीकी से पढ़ता हूँ |
हर पल मेरे देशवासी, मेरे मन में रचे बसे होते हैं और इसलिए
जब भी कोई पत्र पढ़ता हूँ तो पत्र लिखने वाले की परिस्थिति, उसके
भाव, मेरे विचार का हिस्सा बन जाते हैं | वो पत्र मेरे लिए सिर्फ एक
कागज़ का टुकड़ा नहीं रहता है और वैसे ही मैंने करीब 40-45 साल
अखंड रूप से एक परिव्राजक का जीवन जीया है और देश के
अधिकतर जिलों में गया हूँ और देश के दूर-दराज जिलों में मैंने काफी
समय भी बिताया है | और, इसके कारण जब मैं पत्र पढ़ता हूँ तो मैं

उस स्थान और सन्दर्भ से आसानी से अपने आप को relate कर
पाता हूँ | फिर मैं, कुछ factual चीज़ों को जैसे गाँव, व्यक्ति का नाम
उन चीज़ों को नोट कर लेता हूँ | सच पूछो तो “मन की बात” में
आवाज़ मेरी है, लेकिन examples, emotions और spirit मेरे देशवासियों
के ही हैं | मैं ‘मन की बात’ में योगदान देने वाले प्रत्येक व्यक्ति को
धन्यवाद देना चाहता हूँ | ऐसे लाखों लोग हैं जिनका नाम मैं आज
तक ‘मन की बात’ में नहीं ले पाया, लेकिन वो बिना निराश हुए
अपने पत्र, अपने comments भेजते हैं - आपके विचार, आपकी
भावनाएं मेरे जीवन में बहुत ही महत्व रखती हैं | मुझे पूरा विश्वास
है कि आप सभी की बातें पहले से कई गुना ज़्यादा मुझे मिलेंगी और
‘मन की बात’ को, और रोचक और प्रभावी और उपयोगी बनाएगी |
यह भी कोशिश की जाती है कि जो पत्र ‘मन की बात’ में शामिल
नहीं हुए उन पत्रों और सुझावों पर सम्बंधित विभाग भी ध्यान दें | मैं
आकाशवाणी, एफ़.एम. रेडियो, दूरदर्शन, अन्य T.V. channels, social
media के मेरे साथियों को भी धन्यवाद देना चाहता हूँ | उनके परिश्रम
से ‘मन की बात’ ज़्यादा से ज़्यादा लोगों का तक पहुँच पाती है |
आकाशवाणी की टीम हर episode को बहुत सारी भाषाओं में प्रसारण
के लिए तैयार करती है | कुछ लोग बखूबी regional languages में
मोदी से मिलती-जुलती आवाज़ में और उसी लहज़े से ‘मन की बात’
सुनाते हैं | इस तरह से वे उस 30 minutes के लिए नरेन्द्र मोदी ही
बन जाते हैं | मैं उन लोगों को भी उनके talent और skills के लिए
बधाई देता हूँ, धन्यवाद देता हूँ | मैं आप सबसे भी यह आग्रह करूँगा

कि इस कार्यक्रम को अपनी स्थानीय भाषाओं में भी अवश्य सुनें | मैं
media के अपने उन साथियों को हृदयपूर्वक धन्यवाद देना चाहता हूँ
जो अपने channels पर ‘मन की बात’ का हर बार नियमित रूप से
प्रसारण करते हैं | कोई भी राजनैतिक व्यक्ति media से कभी भी
खुश नहीं होता है, उसे लगता है उसे बहुत कम coverage मिलता है
या जो coverage मिलता है वो negative होता है लेकिन ‘मन की
बात’ में उठाए गए कई विषयों को media ने अपना बना लिया है |
स्वच्छता, सड़क सुरक्षा, drugs free India, selfie with daughter जैसे
कई विषय हैं जिन्हें media ने innovative तरीके से एक अभियान का
रूप देकर आगे बढ़ाने का काम किया | T.V. channels ने इसको most
watched radio programme बना दिया | मैं media का हृदय से
अभिनन्दन करता हूँ | आपके सहयोग के बिना ‘मन की बात’ की यह
यात्रा अधूरी ही रहती |
(फ़ोन कॉल –3)
“नमस्ते मोदी जी ! मैं निधि बहुगुणा बोल रही हूँ मसूरी
उत्तराखण्ड से | मैं दो युवा बच्चों की माँ हूँ | मैंने अक्सर यह देखा है
कि इस उम्र के बच्चे यह पसंद नहीं करते कि उन्हें कोई बताए कि
उन्हें क्या करना है ? चाहे वे teachers हों या वे उनके माता-पिता हों
| पर जब आपके ‘मन की बात’ होती है और आप बच्चों से कुछ
कहते हैं तो वे दिल से समझते हैं और उस बात को करते भी हैं - तो
आप हमसे इस secret को share करेंगे क्या ? क्या जिस तरह से आप

बोलते हैं या जो आप issue उठाते हैं कि वे बच्चे अच्छी तरह समझ
के implement करते हैं | धन्यवाद |” (फ़ोन कॉल समाप्त)
निधि जी, आपके फ़ोन कॉल के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद |
दरअसल मैं कहूँ तो मेरे पास तो कोई secret नहीं है | जो मैं कर रहा
हूँ वो सब परिवारों में भी होता भी होगा | सरल भाषा में कहूँ तो मैं
अपने आप को, उस युवा के अन्दर ढाल लेने का प्रयास करता हूँ, खुद
को उसकी परिस्थितियों में रखकर उसके विचारों के साथ एक
सामंजस्य बैठाने, एक wave length match करने की कोशिश करता हूँ
| हमारे ख़ुद के ज़िंदगी के वो पुराने baggages हैं, जब वो बीच में नहीं
आते हैं तो किसी को समझना आसान हो जाता है | कभी-कभी हमारे
पूर्वाग्रह ही संवाद के लिए सबसे बड़ा संकट बन जाते हैं | स्वीकार-
अस्वीकार और प्रतिक्रियाओं की बजाय किसी की बात को समझना
मेरी प्राथमिकता रहती है | मेरा अनुभव रहा है कि ऐसे में सामने
वाला भी हमें convince करने के लिए भांति-भांति के तर्क या दबाव
बनाने की बजाय हमारी wavelength पर आने का प्रयास करता है |
इसीलिए communication gap खत्म हो जाता है फिर एक प्रकार से
उस विचार के साथ हम दोनों सहयात्री बन जाते हैं | दोनों में से पता
ही नहीं चलता है कि कब और कैसे एक ने अपना विचार छोड़कर
दूसरे का स्वीकार कर लिया है - own कर लिया है | आज के युवाओं
की यही खूबी है कि वो ऐसा कुछ भी नहीं करेंगे जिस पर स्वयं उन्हें
विश्वास नहीं हो और जब वो किसी चीज़ पर विश्वास करते हैं तो
फिर उसके लिए सब कुछ छोड़-छाड़ कर उसके पीछे लग जाते हैं |

अक्सर लोग परिवारों में बड़ों और teenagers के बीच communication
gap की चर्चा करते हैं | दरअसल अधिकतर परिवारों में teenagers से
बातचीत का दायरा बड़ा सीमित होता है | अधिकतर समय पढ़ाई की
बातें या फिर आदतों और फिर lifestyle को लेकर ‘ऐसा कर – ऐसा
मत कर’ बिना किसी अपेक्षा के खुले मन से बातें, धीरे-धीरे परिवार
में भी बहुत कम होती जा रही है और यह भी चिंता का विषय है |
Expect की बजाय accept और dismiss करने की बजाय discuss
करने से संवाद प्रभावी बनेगा | अलग-अलग कार्यक्रमों या फिर Social
Media के माध्यम से युवाओं के साथ लगातार बातचीत करने का
मेरा प्रयास रहता है | वे जो कर रहे हैं या क्या सोच रहे हैं - उससे
सीखने का मैं हमेशा प्रयास करता रहता हूँ | उनके पास हमेशा ideas
का भण्डार होता है | वे अत्यधिक energetic, innovative और
focussed होते हैं | ‘मन की बात’ के माध्यम से मैं युवाओं के प्रयासों
को, उनकी बातों को, ज्यादा से ज्यादा साझा करने का प्रयास करता
हूँ | अक्सर शिकायत होती है कि युवा बहुत ही अधिक सवाल करते
हैं | मैं कहता हूँ कि अच्छा है कि नौजवान सवाल करते हैं | ये
अच्छी बात इसलिए है क्योंकि इसका अर्थ हुआ कि वे सभी चीज़ों की
जड़ से छानबीन करना चाहते हैं | कुछ लोग कहते हैं कि युवाओं में
धैर्य नहीं होता, लेकिन मेरा मानना है कि युवाओं के पास बर्बाद करने
के लिए समय नहीं है | यही वो चीज़ है जो आज के नौजवानों को
अधिक innovative बनने में मदद करती है, क्योंकि, वे चीज़ों को
तेज़ी से करना चाहते हैं | हमें लगता है आज के युवा बहुत

महत्वाकांक्षी हैं और बहुत बड़ी-बड़ी चीज़ें सोचते हैं | अच्छा है, बड़े
सपने देखें और बड़ी सफलताओं को हासिल करें - आखिर, यही तो
New India है | कुछ लोग कहते हैं कि युवा पीढ़ी एक ही समय में
कई चीज़ें करना चाहती है | मैं कहता हूँ - इसमें बुराई क्या है ? वे
multitasking में पारंगत हैं इसलिए ऐसा करते हैं | अगर हम आस-
पास नज़र दौड़ायें तो वो चाहे Social Entrepreneurship हो, Start-
Ups हो, Sports हो या फिर अन्य क्षेत्र - समाज में बड़ा बदलाव लाने
वाले युवा ही हैं | वे युवा, जिन्होंने सवाल पूछने और बड़े सपने देखने
का साहस दिखाया | अगर हम युवाओं के विचारों को धरातल पर
उतार दें और उन्हें अभिव्यक्त करने के लिए खुला वातावरण दें तो वे
देश में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं | वे ऐसा कर भी रहे हैं |
मेरे प्यारे देशवासियो, गुरुग्राम से विनीता जी ने MyGov पर
लिखा है कि ‘मन की बात’ में मुझे कल यानी 26 नवम्बर को आने
वाले ‘संविधान दिवस’ के बारे में बात करनी चाहिए | उनका कहना है,
यह दिन विशेष है क्योंकि हम संविधान को अपनाने के 70वें वर्ष में
प्रवेश करने वाले हैं |
विनीता जी, आपके सुझाव के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद|
हाँ, कल ‘संविधान दिवस’ है | उन महान विभूतियों को याद
करने का दिन जिन्होंने हमारा संविधान बनाया | 26 नवम्बर, 1949
को हमारे संविधान को अपनाया गया था | संविधान draft करने के
इस ऐतिहासिक कार्य को पूरा करने में संविधान सभा को 2 वर्ष, 11

महीने और 17 दिन लगे | कल्पना कीजिये 3 वर्ष के भीतर ही इन
महान विभूतियों ने हमें इतना व्यापक और विस्तृत संविधान दिया |
इन्होंने जिस असाधारण गति से संविधान का निर्माण किया वो आज
भी time management और productivity का एक उदाहरण है | ये
हमें भी अपने दायित्वों को record समय में पूरा करने के लिए प्रेरित
करता है | संविधान सभा देश की महान प्रतिभाओं का संगम थी,
उनमें से हर कोई अपने देश को एक ऐसा संविधान देने के लिए
प्रतिबद्ध था जिससे भारत के लोग सशक्त हों, ग़रीब से ग़रीब
व्यक्ति भी समर्थ बने |
हमारे संविधान में खास बात यही है कि अधिकार और कर्तव्य
यानी Rights and Duties, इसके बारे में विस्तार से वर्णन किया गया
है | नागरिक के जीवन में इन्हीं दोनों का तालमेल देश को आगे ले
जाएगा | अगर हम दूसरों के अधिकार का सम्मान करेंगे तो हमारे
अधिकारों की रक्षा अपने आप हो जायेगी और इसी तरह अगर हम
संविधान में दिए अपने कर्तव्यों का पालन करेंगे तो भी हमारे
अधिकारों की रक्षा अपने आप हो जायेगी | मुझे अभी भी याद है
2010 में जब भारत के गणतंत्र को 60 साल हुए थे तब गुजरात में
हमने हाथी पर रख कर संविधान की शोभा-यात्रा निकाली थी | युवाओं
में संविधान के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए और उन्हें संविधान
के पहलुओं से जोड़ने के लिए ये एक यादगार प्रसंग था | वर्ष 2020
में एक गणतंत्र के रूप में हम 70 साल पूरे करेंगे और 2022 में
हमारी आज़ादी के 75 वर्ष पूरे हो जायेंगे |

आइये, हम सभी अपने संविधान के मूल्यों को आगे बढ़ाएँ और
अपने देश में Peace, Progression, Prosperity यानी शांति, उन्नति
और समृद्धि को सुनिश्चित करें |
मेरे प्यारे देशवासियो, संविधान सभा के बारे में बात करते हुए
उस महापुरुष का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता जो संविधान
सभा के केंद्र में रहे | ये महापुरुष थे पूजनीय डॉ. बाबा साहेब
अम्बेडकर | 6 दिसम्बर को उनका महा-परिनिर्वाण दिवस है | मैं सभी
देशवासियों की ओर से बाबा साहब को नमन् करता हूँ जिन्होंने करोड़ों
भारतीयों को सम्मान से जीने का अधिकार दिया | लोकतंत्र बाबा
साहब के स्वभाव में रचा-बसा था और वो कहते थे कि भारत के
लोकतांत्रिक मूल्य कहीं बाहर से नहीं आए हैं | गणतंत्र क्या होता है
और संसदीय व्यवस्था क्या होती है - ये भारत के लिए कोई नई बात
नहीं है | संविधान सभा में उन्होंने एक बहुत भावुक अपील की थी कि
इतने संघर्ष के बाद मिली स्वतंत्रता की रक्षा हमें अपने खून की
आखिरी बूँद तक करनी है | वे यह भी कहते थे कि हम भारतीय भले
ही अलग-अलग background के हों लेकिन हमें सभी चीज़ों से ऊपर
देशहित को रखना होगा | India First - डॉ. बाबा साहेब अम्बेडकर का
यही मूलमंत्र था | एक बार फिर पूज्य बाबा साहब को विनम्र
श्रद्धांजलि |

मेरे प्यारे देशवासियो, दो दिन पहले 23 नवम्बर को हम सबने
श्री गुरु नानक देव जी की जयंती मनाई है और अगले वर्ष यानी
2019 में हम उनका 550वाँ प्रकाश-पर्व मनाने जा रहे हैं | गुरु नानक

देव जी ने सदा ही पूरी मानवता के कल्याण के लिए सोचा | उन्होंने
समाज को हमेशा सत्य, कर्म, सेवा, करुणा और सौहार्द का मार्ग
दिखाया | देश अगले वर्ष गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती
समारोह को भव्य रूप से मनायेगा | इसका रंग देश ही नहीं, दुनिया-
भर में बिखरेगा | सभी राज्य सरकारों और केन्द्रीय शासित प्रदेशों से
भी इस अवसर को धूमधाम से मनाने का अनुरोध किया गया है |
इसी प्रकार गुरु नानक देव जी का 550वाँ प्रकाश पर्व विश्व के सभी
देशों में भी मनाया जाएगा | इसके साथ ही गुरु नानक जी से जुड़े
पवित्र स्थलों के मार्ग पर एक ट्रेन भी चलाई जायेगी | अभी हाल ही
में जब मैं इससे जुड़ी मीटिंग कर रहा था तो उसी समय मुझे लखपत
साहिब गुरुद्वारा की याद आई | गुजरात के 2001 के भूकंप के दौरान
उस गुरूद्वारे को भारी नुकसान पहुँचा था, लेकिन, जिस प्रकार
स्थानीय लोगों के साथ मिलकर राज्य सरकार ने उसका जीर्णोद्धार
कराया वो आज भी एक मिसाल है |
भारत सरकार ने एक बड़ा महत्वपूर्ण निर्णय किया है कि
करतारपुर corridor बनाने का ताकि हमारे देश के यात्री आसानी से
पाकिस्तान में, करतारपुर में गुरु नानक देव जी के उस पवित्र स्थल
पर दर्शन कर सकें |
मेरे प्यारे देशवासियो, 50 episode के बाद हम फिर एक बार
मिलेंगे अगले ‘मन की बात’ में और मुझे विश्वास है कि आज ‘मन
की बात’ के इस कार्यक्रम के पीछे की भावनाओं को मुझे पहली बार
आपके समक्ष कहने का मौका मिला क्योंकि आप लोगों ने ऐसे ही

सवाल पूछे लेकिन हमारी यात्रा जारी रहेगी | आपका साथ जितना
ज्यादा जुड़ेगा, उतनी यात्रा हमारी और गहरी होगी और हर किसी को
संतोष देनेवाली मिलेगी | कभी-कभी लोगों के मन में सवाल उठता है
कि ‘मन की बात’ से मुझे क्या मिला ? मैं आज कहना चाहूँगा कि
‘मन की बात’ के जो feedback आते हैं, उसमें एक बात जो मेरे मन
को बहुत छू जाती है | अधिकतम लोगों ने ये कहा कि जब हम
परिवार के सब लोगों के साथ बैठकर के ‘मन की बात’ सुनते हैं तो
ऐसे लगता है कि हमारे परिवार का मुखिया हमारे बीच में बैठ करके
हमारी अपनी ही बातों को हमारे साथ share कर रहा है | जब ये बात
मैंने व्यापक रूप से सुनी मुझे बहुत संतोष हुआ कि मैं आपका हूँ,
आप में से ही हूँ, आपके बीच हूँ, आप ही ने मुझे बड़ा बनाया है और
एक प्रकार से मैं भी आपके परिवार के सदस्य के रूप में ही ‘मन की
बात’ के माध्यम से बार-बार आता रहूँगा, आपसे जुड़ता रहूँगा |
आपके सुख-दुःख, मेरे सुख-दुःख | आपकी आकांक्षा, मेरी आकांक्षा |
आपकी महत्वाकांक्षा, मेरी महत्वाकांक्षा |
आइये, इस यात्रा को हम और आगे बढ़ाएँ |
बहुत-बहुत धन्यवाद |

Sunday, 28 October 2018

‘मन की बात’ प्रसारण तिथि: 28.10.2018



मेरे प्यारे देशवासियो, आप सबको नमस्कार | 31 अक्तूबर हम सबके प्रिय सरदार वल्लभभाई पटेल की जयन्ती और हर वर्ष की तरह ‘Run for Unity’ के लिए देश का युवा एकता के लिए दौड़ने को तैयार हो गया है | अब तो मौसम भी बहुत सुहाना होता है | यह ‘Run for Unity’ के लिए जोश को और बढ़ाने वाला है | मेरा आग्रह है कि आप सब बहुत बड़ी संख्या में एकता की इस दौड़ में ‘Run for Unity’ में अवश्य भाग लें | आज़ादी से लगभग साढ़े छह महीने पहले, 27 जनवरी 1947 को विश्व की प्रसिद्ध international magazine ‘Time Magazine’ ने जो संस्करण प्रकाशित किया था, उसके cover page पर सरदार पटेल का फोटो लगा था | अपनी lead story में उन्होंने भारत का एक नक्शा दिया था और ये वैसा नक्शा नहीं था जैसा हम आज देखते हैं | ये एक ऐसे भारत का नक्शा था जो कई भागों में बंटा हुआ था | तब 550 से ज्यादा देशी रियासते थीं | भारत को लेकर अंग्रेजों की रूचि ख़त्म हो चुकी थी, लेकिन वो इस देश को छिन्न-भिन्न करके छोड़ना चाहते थे | ‘Time Magazine’ ने लिखा था कि भारत पर विभाजन, हिंसा, खाद्यान्न -संकट, महँगाई और सत्ता की राजनीति से जैसे खतरे मंडरा रहे थे | आगे ‘Time Magazine’ लिखता है कि  इन सबके बीच देश को एकता के सूत्र में पिरोने और घावों को भरने की क्षमता यदि किसी में है तो वो है सरदार वल्लभभाई पटेल | ‘Time Magazine’ की story लौह पुरुष के जीवन के दूसरे पहलुओं को भी उजागर करती है | कैसे उन्होंने 1920 के दशक में अहमदाबाद में आयी बाढ़ को लेकर राहत कार्यों का प्रबंधन किया | कैसे उन्होंने बारडोली सत्याग्रह को दिशा दी | देश के लिए उनकी ईमानदारी और प्रतिबद्धता ऐसी थी कि किसान, मजदूर से लेकर उद्योगपति तक, सब उन पर भरोसा करते थे | गांधी जी ने सरदार पटेल से कहा कि राज्यों की समस्याएँ इतनी विकट हैं कि केवल आप ही इनका हल निकाल सकते हैं और सरदार पटेल ने एक-एक कर समाधान निकाला और देश को एकता के सूत्र में पिरोने के असंभव कार्य को पूरा कर दिखाया | उन्होंने सभी रियासतों का भारत में विलय कराया | चाहे जूनागढ़ हो या हैदराबाद, त्रावणकोर हो या फिर राजस्थान की रियासतें - वे सरदार पटेल ही थे जिनकी सूझबूझ और रणनीतिक कौशल से आज हम एक हिन्दुस्तान देख पा रहे हैं | एकता के बंधन में बंधे इस राष्ट्र को, हमारी भारत माँ को देख करके हम स्वाभाविक रूप से सरदार वल्लभभाई पटेल का पुण्य स्मरण करते हैं | इस 31 अक्तूबर को सरदार पटेल की जयन्ती तो और भी विशेष होगी - इस दिन सरदार पटेल को सच्ची श्रद्धांजलि देते हुए हम Statue of Unity राष्ट्र को समर्पित करेंगे | गुजरात में नर्मदा नदी के तट पर स्थापित इस प्रतिमा की ऊँचाई अमेरिका के Statue of Liberty से दो गुनी है | ये विश्व की सबसे ऊंची गगनचुम्बी प्रतिमा है | हर भारतीय इस बात पर अब गर्व कर पायेगा कि दुनिया की सबसे ऊँची प्रतिमा भारत की धरती पर है | वो सरदार पटेल जो जमीन से जुड़े थे, अब आसमान की भी शोभा बढ़ाएँगे | मुझे आशा है कि देश का हर नागरिक ‘माँ-भारती’ की इस महान उपलब्धि को लेकर के विश्व के सामने गर्व के साथ सीना तानकर के, सर ऊँचा करके इसका गौरवगान करेगा और स्वाभाविक है हर हिन्दुस्तानी को Statue of Unity देखने का मन करेगा और मुझे विश्वास है हिन्दुस्तान से हर कोने से लोग, अब इसको भी अपना एक बहुत ही प्रिय destination के रूप में पसंद करेंगे |
          मेरे प्यारे भाइयो-बहनो, कल ही हम देशवासियों ने ‘Infantry Day’ मनाया है | मैं उन सभी को नमन करता हूँ जो भारतीय सेना का हिस्सा हैं | मैं अपने सैनिकों के परिवार को भी उनके साहस के लिए salute करता हूँ, लेकिन क्या आप जानते हैं कि हम सब हिन्दुस्तान के नागरिक ये ‘Infantry Day’ क्यों मानते हैं? यह वही दिन है, जब भारतीय सेना के जवान कश्मीर की धरती पर उतरे थे और घुसपैठियों से घाटी की रक्षा की थी | इस ऐतिहासिक घटना का भी सरदार वल्लभभाई पटेल से सीधा सम्बन्ध है | मैं भारत के महान सैन्य अधिकारी रहे Sam Manekshaw का एक पुराना interview पढ़ रहा था | उस interview में Field Marshal Manekshaw उस समय को याद कर रहे थे, जब वो कर्नल थे | इसी दौरान अक्तूबर 1947 में, कश्मीर में सैन्य अभियान शुरू हुआ था | Field Marshal Manekshaw ने बताया कि किस प्रकार से एक बैठक के दौरान कश्मीर में सेना भेजने में हो रहे विलम्ब को लेकर सरदार वल्लभभाई पटेल नाराज हो गए थे | सरदार पटेल ने बैठक के दौरान अपने ख़ास अंदाज़ में उनकी तरफ देखा और कहा कि कश्मीर में सैन्य अभियान में ज़रा भी देरी नहीं होनी चाहिये और जल्द से जल्द इसका समाधान निकाला जाए | इसी के बाद सेना के जवानों ने कश्मीर के लिए उड़ान भरी और हमने देखा कि किस तरह से सेना को सफलता मिली | 31 अक्तूबर को हमारी भूतपूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गाँधी जी की भी पुण्यतिथि है | इंदिराजी को भी आदरपूर्वक श्रद्धांजलि |
          मेरे प्यारे देशवासियो, खेल किसको पसंद नहीं है | खेल जगत में spirit, strength, skill, stamina - ये सारी बातें बहुत ही महत्वपूर्ण हैं | यह किसी खिलाड़ी की सफलता की कसौटी होते हैं और यही चारों गुण किसी राष्ट्र के निर्माण के भी महत्वपूर्ण होते हैं | किसी देश के युवाओं के भीतर अगर ये हैं तो वो देश न सिर्फ अर्थव्यवस्था, विज्ञान और technology जैसे क्षेत्रों में तरक्की करेगा बल्कि sports में भी अपना परचम फहराएगा | हाल ही में मेरी दो यादगार मुलाकातें हुई | पहले जकार्ता में हुई Asian Para Games 2018 के हमारे Para Athletes से मिलने का मौका मिला | इन खेलों में भारत ने कुल 72 पदक जीतकर नया रिकॉर्ड बनाया और भारत का गौरव बढ़ाया | इन सभी प्रतिभावान Para Athletes से मुझे निजी तौर पर मिलने का सौभाग्य मिला और मैंने उन्हें बधाई दी | उनकी दृढ़ इच्छाशक्ति और हर विपरीत परिस्थिति से लड़कर आगे बढ़ने का उनका जज़्बा हम सभी देशवासियों को प्रेरित करने वाला है | इसी तरह से Argentina में हुई Summer Youth Olympics 2018 के विजेताओं से मिलने का मौका मिला | आपको ये जान करके प्रसन्नता होगी कि Youth Olympics 2018 में हमारे युवाओं ने अब तक का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन किया | इस आयोजन में हमने 13 पदक के अलावा mix event में 3 और पदक हासिल किये | आपको याद होगा कि इस बार Asian Games में भी भारत का प्रदर्शन बेहतरीन रहा था | देखिये पिछले कुछ मिनटों में मैंने कितनी बार अब तक का सबसे अच्छा, अब तक का सबसे शानदार ऐसे शब्दों का प्रयोग किया | ये है आज के भारतीय खेलों की कहानी जो दिनों दिन नई ऊचाईयाँ छू रही है | भारत सिर्फ खेलों में ही नहीं बल्कि उन क्षेत्रों में भी नए रिकॉर्ड बना रहा है जिनके बारे में कभी सोचा तक नहीं गया था | उदाहरण के लिए मैं आपको Para Athlete नारायण ठाकुर के बारे में बताना चाहता हूँ | जिन्होंने 2018 के Asian Para Games में देश के लिए Athletics में Gold Medal जीता है | वह जन्म से ही दिव्यांग है | जब 8 वर्ष के हुए तो उन्होंने अपने पिता को खो दिया | फिर अगले 8 वर्ष उन्होंने एक अनाथालय में बिताये | अनाथालय छोड़ने के बाद ज़िन्दगी की गाड़ी चलाने के लिए DTC की बसों को साफ़ करने और दिल्ली में सड़क के किनारे ढाबों में वेटर के तौर पर कार्य किया | आज वही नारायण International Events में भारत के लिए गोल्ड मेडल जीत रहे हैं | इतना ही नहीं, भारत की खेलों में उत्कृष्टता के बढ़ते दायरे को देखिये, भारत ने जूडो में कभी भी, चाहे वो सीनियर लेवल हो या जूनियर लेवल कोई ओलिंपिक मेडल नहीं जीता है | पर तबाबी देवी ने Youth Olympics में जूडो में सिल्वर मेडल जीत कर इतिहास रच दिया | 16 वर्ष की युवा खिलाड़ी तबाबी देवी मणिपुर के एक गाँव की रहने वाली है | उनके पिता एक मजदूर हैं जबकि माँ मछली बेचने का काम करती है | कई बार उनके परिवार के सामने ऐसा भी समय आया जब उनके पास खाने के लिए भी पैसे नहीं होते थे | ऐसी परिस्थितियों में भी तबाबी देवी का हौसला डिगा नहीं सकी | और उन्होंने देश के लिए मेडल जीत कर इतिहास रचा है | ऐसी तो अनगिनत कथाएँ हैं | हर एक जीवन प्रेरणा का स्रोत है | हर युवा खिलाड़ी उसका जज़्बा New India की पहचान है |
          मेरे प्यारे देशवासियो, आप सब को याद होगा कि हमने 2017 में FIFA Under 17 World Cup  का सफल आयोजन किया था | पूरे विश्व ने बेहद सफल टूर्नामेंट के तौर पर उसे सराहा भी था | FIFA Under 17 World Cup  में दर्शकों की संख्या के मामले में भी एक नया कीर्तिमान रच दिया था | देश के अलग-अलग स्टेडियम में 12 लाख से अधिक लोगों ने फुटबॉल मैचों का आनंद लिया और युवा खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाया | इस वर्ष भारत को भुवनेश्वर में पुरुष हॉकी वर्ल्ड कप 2018 के आयोजन का सौभाग्य मिला है | Hockey World Cup 28 नवम्बर से प्रारंभ हो कर 16 दिसम्बर तक चलेगा | हर भारतीय चाहे वह कोई भी खेल खेलता हो या किसी भी खेल में उसकी रूचि हो हॉकी के प्रति एक लगाव, उसके मन में अवश्य होता है | भारत का हॉकी में एक स्वर्णिम इतिहास रहा है | अतीत में भारत को कई प्रतियोगिताओं में स्वर्ण पदक मिले हैं और एक बार विश्व कप विजेता भी रहा है | भारत ने हॉकी को कई महान खिलाड़ी भी दिए हैं | विश्व में जब भी हॉकी की चर्चा होगी तो भारत के इन महान खिलाड़ियों के बिना हॉकी की कहानी अधूरी रहेगी | हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद से तो पूरी दुनिया परिचित है | उसके बाद बलविंदर सिंह सीनियर, लेस्ली क्लौड़ीयस (Leslie Claudius), मोहम्मद शाहिद,  उधम सिंह से लेकर धनराज पिल्लई तक हॉकी ने एक बड़ा सफ़र तय किया है | आज भी टीम इंडिया के खिलाड़ी अपने परिश्रम और लगन की बदौलत मिल रही सफलताओं से हॉकी की नई पीढ़ी को प्रेरित कर रहे हैं | खेल प्रेमियों के लिए रोमांचक matches को देखना एक अच्छा अवसर है | भुवनेश्वर जाएँ और न सिर्फ भारतीय टीम का उत्साह बढ़ाएँ बल्कि सभी टीमों को प्रोत्साहित करें | ओड़िशा एक ऐसा राज्य है जिसका अपना गौरवपूर्ण इतिहास है, समृद्ध, सांस्कृतिक विरासत है और वहाँ के लोग भी गर्म जोशी भरे होते हैं | खेल प्रेमियों के लिए ये ओड़िसा दर्शन का भी एक बहुत बड़ा अवसर है | इस दौरान खेलों का आनंद उठाने के साथ ही आप कोणार्क के सूर्य मंदिर, पुरी में भगवान् जगन्नाथ मंदिर और चिल्का लेक समेत कई विश्वप्रसिद्ध दर्शनीय और पवित्र स्थल भी जरुर देख सकते हैं | मैं इस प्रतियोगिता के लिए भारतीय पुरुष हॉकी टीम को शुभकामनाएं देता हूँ और उन्हें विश्वास दिलाता हूँ कि सवा-सौ करोड़ भारतीय उनके साथ और उनके समर्थन में खड़े हैं व भारत आने वाली विश्व की सभी टीमों को भी बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूँ |
          मेरे प्यारे देशवासियो, सामाजिक कार्य के लिए जिस प्रकार से लोग आगे आ रहे हैं, इसके लिए Volunteering कर रहे हैं | वो पूरे देशवासियों के लिए प्रेरणादायक हैं, जोश भरने वाला है | वैसे सेवा परमो धर्मः ये भारत की विरासत है | सदियों पुरानी हमारी परंपरा है और समाज में हर कोने में, हर क्षेत्र में इसकी सुगंध आज भी हम महसूस करते हैं | लेकिन नए युग में, नए तरीके से, नई पीढ़ी, नए उमंग से, नए उत्साह से, नए सपने लेकर के इन कामों को करने के लिए आज आगे आ रही है | पिछले दिनों मैं एक कार्यक्रम में गया था जहाँ एक portal launch किया गया है, जिसका नाम है- ‘Self 4 Society’, MyGov और देश की IT और electronics industry ने अपने employees को social activities के लिए motivate करने और उन्हें इसके अवसर उपलब्ध कराने के लिए इस portal को launch किया है  | इस कार्य के लिए उनमें जो उत्साह और लगन है उसे देख कर हर भारतीय को गर्व महसूस होगा | IT to Society, मैं नहीं हम, अहम् नहीं वयम्, स्व से समष्टि की यात्रा की इसमें महक है | कोई बच्चों को पढ़ा रहा है, तो कोई बुजुर्गों को पढ़ा रहा है, कोई स्वच्छता में लगा है, तो कोई किसानों की मदद कर रहा है और ये सब करने के पीछे कोई लालसा नहीं है बल्कि इसमें समर्पण और संकल्प का निःस्वार्थ भाव है | एक युवा ने तो दिव्यांगों की wheelchair basketball team की मदद के लिए खुद wheelchair basketball सीखा | ये जो जज़्बा है, ये जो समर्पण है - ये mission mode activity है | क्या किसी हिन्दुस्तानी को इस बात का गर्व नहीं होगा ! जरुर होगा ! ‘मैं नहीं हम’ की ये भावना हम सब को प्रेरित करेगी |
          मेरे प्यारे भाइयो-बहनो, इस बार जब मैं ‘मन की बात’ को लेकर आप लोगों के सुझाव देख रहा था तो मुझे पुडुचेरी से श्री मनीष महापात्र की एक बहुत ही रोचक टिप्पणी देखने को मिली | उन्होंने Mygov पर लिखा है- ‘कृपया आप ‘मन की बात’ में इस बारें में बात कीजिये कि कैसे भारत की जनजातियाँ उनके रीति-रिवाज और परंपराएँ प्रकृति के साथ सह-अस्तित्व के सर्वश्रेष्ठ उदाहरण हैं’ | Sustainable development के लिए कैसे उनके traditions  को हमें अपने जीवन में अपनाने की आवश्यकता है, उनसे कुछ सीखने की जरुरत है | मनीष जी - इस विषय को ‘मन की बात’ के श्रोताओं के बीच रखने के लिए मैं आपकी सराहना करता हूँ | यह एक ऐसा विषय है जो हमें अपने गौरवपूर्ण अतीत और संस्कृति की ओर देखने के लिए प्रेरित करता है | आज सारा विश्व विशेष रूप से पश्चिम के देश पर्यावरण संरक्षण की चर्चा कर रहे हैं और संतुलित जीवनशैली balance life के लिए नए रास्ते ढूंढ रहे हैं | वैसे आज हमारा भारतवर्ष भी इस समस्या से अछूता नहीं है, लेकिन इसके हल के लिए हमें बस अपने भीतर झाँकना है, अपने समृद्ध इतिहास, परंपराओं को देखना है और ख़ासकर अपने जनजातीय समुदायों की जीवनशैली को समझना है | प्रकृति के साथ सामंजस्य बनाकर के रहना हमारे आदिवासी समुदायों की संस्कृति में शामिल रहा है | हमारे आदिवासी भाई-बहन पेड़-पौधों और फूलों की पूजा देवी-देवताओं की तरह करते हैं | मध्य भारत की भील जनजाति में विशेषकर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में लोग पीपल और अर्जुन जैसे पेड़ों की श्रद्धापूर्वक पूजा करते हैं | राजस्थान जैसी मरुभूमि में बिश्नोई समाज ने पर्यावरण संरक्षण का रास्ता हमें दिखाया है | खासतौर से वृक्षों के संरक्षण के संदर्भ में उन्हें अपने जीवन का त्याग करना मंजूर है लेकिन एक भी पेड़ का नुकसान पहुँचे ये उन्हें स्वीकार नहीं है | अरुणाचल के मिशमी, बाघों के साथ खुद का रिश्ता होने का दावा करते हैं | उन्हें वो अपना भाई-बहन तक मानते हैं | नागालैंड में भी बाघों को वनों के रक्षक के रूप में देखा जाता है | महाराष्ट्र के वार्ली समुदाय के लोग बाघ को अतिथि मानते हैं उनके लिए बाघों की मौजूदगी समृद्धि लाने वाली होती है | मध्य भारत के कोल समुदाय के बीच एक मान्यता है कि उनका खुद का भाग्य बाघों से जुड़ा है, अगर बाघों को निवाला नहीं मिला तो गाँव वालों को भी भूखा रहना पड़ेगा - ऐसी उनकी श्रद्धा है | मध्य भारत की गोंड जनजाति breeding season में केथन नदी के कुछ हिस्सों में मछली पकड़ना बंद कर देते हैं | इन क्षेत्रों को वो मछलियों का आश्रय स्थान मानते हैं इसी प्रथा के चलते उन्हें स्वस्थ और भरपूर मात्रा में मछलियाँ मिलती हैं | आदिवासी समुदाय अपने घरों को natural material से बनाते हैं ये मजबूत होने के साथ-साथ पर्यावरण के अनुकूल भी होते हैं | दक्षिण भारत के नीलगिरी पठार के एकांत क्षेत्रों में एक छोटा घुमन्तु समुदाय तोड़ा, पारंपरिक तौर पर उनकी बस्तियाँ स्थानीय स्थर पर उपलब्ध चीजों से ही बनी होती हैं |
          मेरे प्यारे भाइयो-बहनो ये सच है कि आदिवासी समुदाय बहुत शांतिपूर्ण और आपस में मेलजोल के साथ रहने में विश्वास रखता है, पर जब कोई उनके प्राकृतिक संसाधनों का नुकसान कर रहा हो तो वे अपने अधिकारों के लिए लड़ने से डरते भी नहीं हैं | यह आश्चर्य की बात नहीं है कि हमारे सबसे पहले स्वतंत्र सेनानियों में आदिवासी समुदाय के लोग ही थे | भगवान बिरसा मुंडा को कौन भूल सकता है जिन्होंने अपनी वन्य भूमि की रक्षा के लिए ब्रिटिश शासन के खिलाफ़ कड़ा संघर्ष किया | मैंने जो भी बातें कहीं हैं उनकी सूची काफ़ी लम्बी है आदिवासी समुदाय के ऐसे बहुत से उदाहरण हैं जो हमें सिखाते हैं कि प्रकृति के साथ सामंजस्य बनाकर कैसे रहा जाता है और आज हमारे पास जो जंगलों की सम्पदा बची है, इसके लिए देश हमारे आदिवासियों का ऋणी है | आइये ! हम उनके प्रति आदर भाव व्यक्त करें |
          मेरे प्यारे देशवासियो ‘मन की बात’ में हम उन व्यक्तियों और संस्थाओं के बारें में बाते करते हैं जो समाज के लिए कुछ असाधारण कार्य कर रहे हैं | ऐसे कार्य जो देखने में तो मामूली लगते हैं लेकिन वास्तव में उनका गहरा प्रभाव पड़ता है | हमारी मानसिकता बदलने में, समाज की दिशा बदलने में | कुछ दिन पहले मैं पंजाब के किसान भाई गुरबचन सिंह जी के बारे में पढ़ रहा था | एक सामान्य और परिश्रमी किसान गुरबचन सिंह जी के बेटे का विवाह था | इस विवाह से पहले गुरबचन जी ने दुल्हन के माता-पिता से कहा था कि हम शादी सादगी से करेंगे | बारात हों और चीजें हों, खर्चा कोई ज्यादा करने की जरुरत नहीं है | हमें इसे एक बहुत सादा अवसर ही रखना है, फिर अचानक उन्होंने कहा लेकिन मेरी एक शर्त है और आजकल जब शादी-ब्याह के समय शर्त की बात आती है तो आमतौर पर लगता यही है कि सामने वाला कोई बड़ी माँग करने वाला है | कुछ ऐसी चीजें माँगेगा जो शायद बेटी के परिवारजनों के लिए मुश्किल हो जाएँ, लेकिन आपको जानकर के आश्चर्य होगा ये तो भाई गुरबचन सिंह थे सादे-सीधे किसान, उन्होंने दुल्हन के पिता से जो कहा, जो शर्त रखी, वो हमारे समाज की सच्ची ताकत है | गुरबचन सिंह जी ने उनसे कहा कि आप मुझे वचन दीजिये कि अब आप खेत में पराली नहीं जलायेंगे | आप कल्पना कर सकते हैं कितनी बड़ी सामाजिक ताकत है इसमें | गुरबचन सिंह जी की ये बात लगती तो बहुत मामूली है लेकिन ये बताती है कि उनका व्यक्तित्व कितना विशाल है और हमने देखा है कि हमारे समाज में ऐसे बहुत परिवार होते हैं जो व्यक्तिगत प्रसंग को समाज हित के प्रसंग में परिवर्तित करते हैं | श्रीमान् गुरबचन सिंह जी के परिवार ने वैसी एक मिसाल हमारे सामने दी है | मैंने पंजाब के एक और गाँव कल्लर माजरा के बारे में पढ़ा है जो नाभा के पास है | कल्लर माजरा इसलिए चर्चित हुआ है क्योंकि वहाँ के लोग धान की पराली जलाने की बजाय उसे जोतकर उसी मिट्टी में मिला देते हैं उसके लिए जो technology उपयोग में लानी होती है वो जरूर लाते हैं | भाई गुरबचन सिंह जी को बधाई | कल्लर माजरा और उन सभी जगहों के लोगों को बधाई जो वातावरण को स्वच्छ रखने के लिए अपना श्रेष्ठ प्रयास कर रहें हैं | आप सब स्वस्थ जीवनशैली की भारतीय विरासत को एक सच्चे उत्तराधिकारी के रूप में आगे बढ़ा रहे हैं | जिस तरह बूंद-बूंद से सागर बनता है, उसी तरह छोटी-छोटी जागरुक और सक्रियता और सकारात्मक कार्य हमेशा सकारात्मक माहौल बनाने में बहुत बड़ी भूमिका अदा करता है |       
मेरे प्यारे देशवासियो, हमारे ग्रंथों में कहा गया है :-
ॐ द्यौः शान्तिः अन्तरिक्षं शान्तिः,
पृथिवी शान्तिः आपः शान्तिः औषधयः शान्तिः |
वनस्पतयः शान्तिः विश्वेदेवाः शान्तिः  ब्रह्म शान्तिः,
सर्वं शान्तिः शान्तिरेव शान्तिः सामा शान्तिरेधि ||
ॐ शान्ति: शान्ति: शान्ति: ||
          इसका अर्थ है, हे ईश्वर तीनों लोकों में हर तरफ शांति का वास हो जल में, पृथ्वी में, आकाश में, अंतरिक्ष में, अग्नि में, पवन में, औषधि में, वनस्पति में, उपवन में, अवचेतन में, सम्पूर्ण ब्रह्मांड में शान्ति स्थापित करे | जीवमात्र में, हृदय में, मुझ में, तुझ में, जगत के कण-कण में, हर जगह शान्ति स्थापित करें |
ॐ शान्ति: शान्ति: शान्ति: ||
               जब कभी भी विश्व शान्ति की बात होती है तो इसको लेकर भारत का नाम और योगदान स्वर्ण अक्षरों में अंकित दिखेगा | भारत के लिए इस वर्ष 11 नवम्बर का विशेष महत्व है क्योंकि 11 नवम्बर को आज से 100 वर्ष पूर्व प्रथम विश्व युद्ध समाप्त हुआ, उस समाप्ति को 100 साल पूरे हो रहे हैं यानी उस दौरान हुए भारी विनाश और जनहानि की समाप्ति की भी एक सदी पूरी हो जाएगी | भारत के लिए प्रथम विश्व युद्ध एक महत्वपूर्ण घटना थी | सही मायने में कहा जाए तो हमारा उस युद्ध से सीधा कोई लेना-देना नहीं था | इसके बावजूद भी हमारे सैनिक बहादुरी से लड़े और बहुत बड़ी भूमिका निभाई, सर्वोच्य बलिदान दिया | भारतीय सैनिकों ने दुनिया को दिखाया कि जब युद्ध की बात आती है तो वह किसी से पीछे नहीं हैं | हमारे सैनिकों ने दुर्गम क्षेत्रों में, विषम परिस्थितियों में भी अपना शौर्य दिखाया है | इन सबके पीछे एक ही उद्देश्य रहा - शान्ति की पुन: स्थापना | प्रथम विश्व युद्ध में दुनिया ने विनाश का तांडव देखा | अनुमानों के मुताबिक क़रीब 1 करोड़ सैनिक और लगभग इतने ही नागरिकों ने अपनी जान गंवाई | इससे पूरे विश्व ने शान्ति का महत्व क्या होता है - इसको समझा | पिछले 100 वर्षों में शान्ति की परिभाषा बदल गई है | आज शान्ति और सौहार्द का मतलब सिर्फ युद्ध का न होना नहीं है | आतंकवाद से लेकर जलवायु परिवर्तन, आर्थिक विकास से लेकर सामाजिक न्याय, इन सबके लिए वैश्विक सहयोग और समन्वय के साथ काम करने की आवश्यकता है | ग़रीब से ग़रीब व्यक्ति का विकास ही शांति का सच्चा प्रतीक है |
मेरे प्यारे देशवासियो, हमारे North East की बात ही कुछ और है | पूर्वोत्तर का प्राकृतिक सौन्दर्य अनुपम है और यहाँ के लोग अत्यंत प्रतिभाशाली है | हमारा North East अब तमाम best deeds के लिए भी जाना जाता है | North East एक ऐसा क्षेत्र है जिसने organic farming में भी बहुत उन्नति की है | कुछ दिन पहले सिक्किम में sustainable food system को प्रोत्साहन देने के लिए प्रतिष्ठित Future Policy Gold Award 2018 जीता है  | यह award सयुंक्त राष्ट्र से जुड़े F.A.O यानी Food and Agriculture Organisation की तरफ से दिया जाता है | आपको यह जानकार प्रसन्नता होगी, इस सेक्टर में best policy making के लिए दिया जाने वाला यह पुरस्कार उस क्षेत्र में Oscar के समान है | यही नहीं हमारे सिक्किम ने 25 देशों की 51 nominated policies को पछाड़कर यह award जीता, इसके लिए मैं सिक्किम के लोगों को बहुत-बहुत बधाई देता हूँ |
मेरे प्यारे देशवासियो, अक्तूबर समाप्ति पर है | मौसम में भी बहुत परिवर्तन अनुभव हो रहा है | अब ठंड के दिन शुरू हो चुके हैं और मौसम बदलने के साथ-साथ त्योहारों का भी मौसम आ गया है | धनतेरस, दीपावली, भैय्या-दूज, छठ एक तरीके से कहा जाए तो नवम्बर का महीना त्योहारों का ही महीना है | आप सभी देशवासियों को इन सभी त्योहारों की ढ़ेर सारी शुभकामनाएँ |
मैं आप सब से आग्रह करूँगा इन त्योहारों में अपना भी ध्यान रखें, अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें और समाज के हितों का भी ध्यान रखें | मुझे विश्वास है कि यह त्योहार नए संकल्प का अवसर है | यह त्योहार नए निर्णयों का अवसर है | यह त्योहार एक mission mode में आगे जाने का, दृढ़ संकल्प लेने का आपके जीवन में भी अवसर बन जाए | आपकी प्रगति देश की प्रगति का एक अहम हिस्सा है | आपकी जितनी ज़्यादा प्रगति होगी उतनी ही देश की प्रगति होगी | मेरी आप सबको बहुत-बहुत शुभकामनाएँ | बहुत-बहुत धन्यवाद |
*****

Tuesday, 2 October 2018

Gandhi Jayanti 2018


On the pious occasion of Mahatma Gandhi's 149th birth anniversary and the commencement of Bapu's 150th birth anniversary year-long commemoration, a solemn and graceful function was organised in the premises of Akashavani  Bhavan at Sansad Marg today morning. Shri F. Sheheryar, Director General, All India Radio and Shri Chandra Bhanu Singh Maurya, Engineer-in-Chief, All India Radio led the senior officers and other staff members in offering floral tributes at the feet of the newly installed magnificent 8 feet tall statue of Mahatma Gandhi in a sitting & contemplative posture. 


This was accompanied by playing of devotional compositions dear to Bapu such as 'Vaishnav Jan', 'Paayo Jee Maine' and 'Ramdhun'. These strains of immortal devotional music filled the air and suffused the whole atmosphere with piety and sublime emotions as well as reverence to the memory and ideals of Bapu.



All India Radio's commemorative broadcasts have begun on national and state networks as well as by all stations locally and these will continue in Hindi, English and all the languages and many dialects employing various programme formats during the entire period of commemoration.

Sunday, 30 September 2018

‘मन की बात’ (एपिसोड – 48) प्रसारण तिथि: 30.09.2018




मेरे प्यारे देशवासियो, नमस्कार | शायद ही कोई भारतीय हो सकता है जिसको हमारे सशस्त्र बलों पर, हमारे सेना के जवानों पर गर्व न हो | प्रत्येक भारतीय चाहे वो किसी भी क्षेत्र, जाति, धर्म, पंथ या भाषा का क्यों न हो - हमारे सैनिकों के प्रति अपनी खुशी अभिव्यक्त करने और समर्थन दिखाने के लिए हमेशा तत्पर रहता है | कल भारत के सवा-सौ करोड़ देशवासियों ने, पराक्रम पर्व मनाया था | हमने 2016 में हुई उस surgical strike को याद किया जब हमारे सैनिकों ने हमारे राष्ट्र पर आतंकवाद की आड़ में proxy war की धृष्टता करने वालों को मुँहतोड़ ज़वाब दिया था | देश में अलग-अलग स्थानों पर हमारे सशस्त्र बलों ने exhibitions लगाये ताकि अधिक से अधिक देश के नागरिक खासकर युवा-पीढ़ी यह जान सके कि हमारी ताक़त क्या है | हम कितने सक्षम हैं और कैसे हमारे सैनिक अपनी जान जोखिम में डालकर के हम देशवासियों की रक्षा करते हैं | पराक्रम पर्व जैसा दिवस युवाओं को हमारी सशस्त्र सेना के गौरवपूर्ण विरासत की याद दिलाता है | और देश की एकता और अखंडता सुनिश्चित करने के लिए हमें प्रेरित भी करता है | मैंने भी वीरों की भूमि राजस्थान के जोधपुर में एक कार्यक्रम में भाग लिया, अब यह तय हो चुका है कि हमारे सैनिक उन सबको मुंहतोड़ ज़वाब देंगे जो हमारे राष्ट्र में शांति और उन्नति के माहौल को नष्ट करने का प्रयास करेंगे | हम शांति में विश्वास करते हैं और इसे बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं, लेकिन सम्मान से समझौता करके और राष्ट्र की सम्प्रभुता की कीमत पर कतई नहीं | भारत सदा ही शांति के प्रति वचनबद्ध और समर्पित रहा है | 20वीं सदी में दो विश्वयुद्धों में हमारे एक लाख से अधिक सैनिकों ने शांति के प्रति अपना सर्वोच्च बलिदान दिया और यह तब, जब हमारा उस युद्ध से कोई वास्ता नहीं था | हमारी नज़र किसी और की धरती पर कभी भी नहीं थी | यह तो शांति के प्रति हमारी प्रतिबद्धता थी | कुछ दिन पहले ही 23 सितम्बर को हमने इस्राइल में Haifa की लड़ाई के सौ वर्ष पूरे होने पर मैसूर, हैदराबाद और जोधपुर lancers के हमारे वीर सैनिकों को याद किया जिन्होंने आक्रान्ताओं से Haifa को मुक्ति दिलाई थी | यह भी शांति की दिशा में हमारे सैनिकों द्वारा किया गया एक पराक्रम था | आज भी United Nations की अलग-अलग peace keeping forces में भारत सबसे अधिक सैनिक भेजने वाले देशों में से एक है | दशकों से हमारे बहादुर सैनिकों ने blue helmet पहन विश्व में शांति कायम रखने में अहम भूमिका निभाई है |
    मेरे प्यारे देशवासियो, आसमान की बातें तो निराली होती ही हैं इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि आसमान में अपनी शक्ति का परिचय देकर के भारतीय वायुसेना ने हर देशवासी का ध्यान अपनी ओर खींचा है | हमें सुरक्षा का अहसास दिलाया है | गणतंत्र दिवस समारोह के दौरान लोगों को परेड के जिन हिस्सों की सबसे बेसब्री से प्रतीक्षा रहती है उनमें से एक है Fly Past जिसमें हमारी Air Force हैरतअंगेज कारनामों के साथ अपनी शक्ति का प्रदर्शन करती है | 8 अक्टूबर को हम ‘वायुसेना दिवस’ मनाते हैं | 1932 में छह पायलट और 19 वायु सैनिकों के साथ एक छोटी सी शुरुआत से बढ़ते हुए हमारी वायुसेना आज 21वीं सदी की सबसे साहसिक और शक्तिशाली Air Force में शामिल हो चुकी है | यह अपने आप में एक यादगार यात्रा है | देश के लिए अपनी सेवा देने वाले सभी Air Warriors और उनके परिवारों का मैं अपने ह्रदय की गहराई से अभिनंदन करता हूँ | 1947 में जब पाकिस्तान के हमलावरों ने एक अप्रत्याशित हमला शुरू किया तो यह वायुसेना ही थी जिसने श्रीनगर को हमलावरों से बचाने के लिए ये सुनिश्चित किया कि भारतीय सैनिक और उपकरण युद्ध के मैदान तक समय पर पहुँच जाएँ | वायुसेना ने 1965 में भी दुश्मनों को मुँहतोड़ ज़वाब दिया | 1971 में बांग्लादेश की स्वतंत्रता की लड़ाई कौन नहीं जानता है  | 1999 करगिल की घुसपैठियों के कब्ज़े से मुक्त कराने में भी वायुसेना की भूमिका अहम रही है | Tiger Hill में दुश्मनों के ठिकानों में रात-दिन बमबारी कर वायुसेना ने उन्हें धूल चटा दी | राहत एवं बचाव कार्य हो या फिर आपदा प्रबंधन हमारे Air Warriors उनके सराहनीय कार्य को लेकर देश वायुसेना के प्रति कृतज्ञ है | तूफ़ान, बवंडर, बाढ़ से लेकर जंगल की आग तक की प्राकृतिक आपदा से निपटने और देशवासियों की मदद करने का उनका जज़्बा अद्भुत रहा है | देश में gender equality यानी स्त्री और पुरुष की समानता सुनिश्चित करने में  Air Force ने मिसाल कायम की है और अपने प्रत्येक विभाग के द्वार देश की बेटियों के लिए खोल दिए हैं | अब तो वायुसेना महिलाओं को short service commission के साथ permanent commission का विकल्प भी दे रही है और जिसकी घोषणा इसी साल 15 अगस्त को मैंने लाल किले से की थी | भारत गर्व से कह सकता है कि भारत की सेना में सशस्त्र बलों में पुरुष शक्ति ही नहीं, स्त्री-शक्ति का भी उतना योगदान बनता जा रहा है | नारी सशक्त तो है, अब सशस्त्र भी बन रही है |
    मेरे प्यारे देशवासियो, पिछले दिनों Navy के हमारे एक अधिकारी अभिलाष टोमी (Abhilash Tomy) वो अपने जीवन और मृत्यु की लड़ाई लड़ रहे थे | पूरा देश चिंतित था कि टोमी को कैसे बचा लिया जाए | आपको पता है अभिलाष टोमी एक बहुत साहसी-वीर अधिकारी हैं | वे अकेले कोई भी आधुनिक technology बिना की एक छोटी सी नाव ले करके, विश्व भ्रमण करने वाले पहले भारतीय थे | पिछले 80 दिनों से, वे दक्षिण हिन्द महासागर में Golden Globe Race में भाग लेने समुंदर में अपनी गति को बनाये रखते हुए आगे बढ़ रहे थे लेकिन भयानक समुद्री तूफ़ान ने उनके लिए मुसीबत पैदा की लेकिन भारत के नौसेना का ये वीर समुंदर के बीच अनेक दिनों तक जूझता रहा, जंग करता रहा | वो पानी में बिना खाये-पिये लड़ता रहा | जिन्दगी से हार नहीं मानी | साहस, संकल्पशक्ति, पराक्रम एक अद्भुत मिसाल - कुछ दिन पहले मैंने जब अभिलाष को समुंदर से बचा करके बाहर ले आये तो टेलीफोन पर बात की | पहले भी टोमी से मैं मिल चुका था | इतने संकट से बाहर आने के बाद भी उनका जो ज़ज्बा था, उनका जो हौसला था और फिर एक बार ऐसा ही कुछ पराक्रम करने का जो संकल्प उन्होंने मुझे बताया देश की युवा-पीढ़ी के लिए वो प्रेरणा है | मैं अभिलाष टोमी के उत्तम स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करता हूँ और उनका ये साहस, उनका पराक्रम, उनकी संकल्प शक्ति - जूझने की और जीतने की ताक़त, हमारे देश की युवा-पीढ़ी को ज़रूर प्रेरणा देगी |
        मेरे प्यारे देशवासियो, 2 अक्टूबर हमारे राष्ट्र के लिए इस दिन का क्या महत्व है, इसे बच्चा-बच्चा जानता है | इस वर्ष का        2 अक्टूबर का और एक विशेष महत्व है | अब से 2 साल के लिए हम महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती के निमित्त विश्वभर में अनेक विविध कार्यक्रम करने वाले हैं | महात्मा गाँधी के विचार ने पूरी दुनिया को प्रेरित किया है | Dr. Martin Luther King Junior हों या Nelson Mandela जैसी महान विभूतियाँ, हर किसी ने गाँधी जी के विचारों से शक्ति पाई और अपने लोगों को समानता और सम्मान का हक दिलाने के लिए लम्बी लड़ाई लड़ सके | आज की ‘मन की बात’ में, मैं आपके साथ पूज्य बापू के एक और महत्वपूर्ण कार्य की चर्चा करना चाहता हूँ, जिसे अधिक-से-अधिक देशवासियों को जानना चाहिए | nineteen forty one में, 1941 में महात्मा गाँधी ने Constructive Programme यानी रचनात्मक कार्यक्रम के रूप में कुछ विचारों को लिखना शुरू किया | बाद में 1945 में जब स्वतंत्रता संग्राम ने जोर पकड़ा तब उन्होंने, उस विचार की संशोधित प्रति तैयार की | पूज्य बापू ने किसानों, गाँवों, श्रमिकों के अधिकारों की रक्षा, स्वच्छता, शिक्षा के प्रसार जैसे अनेक विषयों पर अपने विचारों को देशवासियों के सामने रखा है | इसे गाँधी चार्टर (Gandhi Charter) भी कहते हैं | पूज्य बापू लोक संग्राहक थे | लोगों से जुड़ जाना और उन्हें जोड़ लेना बापू की विशेषता थी, ये उनके स्वभाव में था | यह उनके व्यक्तित्व की सबसे अनूठी विशेषता के रूप में हर किसी ने अनुभव किया है | उन्होंने प्रत्येक व्यक्ति को ये अनुभव कराया कि वह देश के लिए सबसे महत्वपूर्ण और नितांत आवश्यक है | स्वतंत्रता संग्राम में उनका सबसे बड़ा योगदान ये रहा कि उन्होंने इसे एक व्यापक जन-आंदोलन बना दिया | स्वतंत्रता संग्राम के आंदोलन में महात्मा गाँधी के आह्वान पर समाज के हर क्षेत्र, हर वर्ग के लोगों ने स्वयं को समर्पित कर दिया | बापू ने हम सब को एक प्रेरणादायक मंत्र दिया था जिसे अक्सर, गाँधी जी का तलिस्मान के नाम से जाना जाता है | उसमें गाँधी जी ने कहा था, “मैं आपको एक जन्तर देता हूँ, जब भी तुम्हें संदेह हो या तुम्हारा अहम् तुम पर हावी होने लगे तो यह कसौटी आजमाओ, जो सबसे ग़रीब और कमज़ोर आदमी तुमने देखा हो, उसकी शक्ल याद करो और अपने दिल से पूछो कि जो कदम उठाने का तुम विचार कर रहे हो, वह उस आदमी के लिए कितना उपयोगी होगा | क्या उससे, उसे कुछ लाभ पहुंचेगा! क्या उससे वह अपने ही जीवन और भाग्य पर कुछ काबू रख सकेगा! यानी क्या उससे उन करोड़ों लोगों को स्वराज मिल सकेगा जिनके पेट भूखे हैं और आत्मा अतृप्त है | तब तुम देखोगे कि तुम्हारा संदेह मिट रहा है और अहम् समाप्त हो रहा है |”
    मेरे प्यारे देशवासियो, गाँधी जी का एक जंतर आज भी उतना ही महत्वपूर्ण है | आज देश में बढ़ता हुआ मध्यम वर्ग, बढ़ती हुई उसकी आर्थिक शक्ति, बढ़ता हुआ purchasing power, क्या हम कुछ भी खरीदारी के लिए जाएँ तो पल भर के लिए पूज्य बापू को स्मरण कर सकते हैं! पूज्य बापू के उस जंतर का स्मरण कर सकते हैं! क्या हम खरीदारी करते समय सोच सकते हैं कि मैं जो चीज़ खरीद रहा हूँ उससे मेरे देश के किस नागरिक का लाभ होगा! किसके चेहरे पर ख़ुशी आएगी! कौन भाग्यशाली होगा जिसका direct या indirect आपकी खरीदी से लाभ होगा! और ग़रीब से ग़रीब को लाभ होगा तो मेरी ख़ुशी अधिक-से-अधिक होगी | गाँधी जी के इस जंतर को याद करते हुए आने वाले दिनों में हम जब भी कुछ खरीद करें, गाँधी जी की 150वी यंती मनाते हैं तब हम जरुर देखें कि हमारी हर खरीदी में किसी-न-किसी देशवासी का भला होना चाहिए और उसमें भी जिसने अपना पसीना बहाया है, जिसने अपने पैसे लगाये हैं, जिसने अपनी प्रतिभा खपाई है, उन सबको कुछ-न-कुछ लाभ होना चाहिए | यही तो गाँधी का जंतर है, यही तो गाँधी का सन्देश है और मुझे विश्वास है कि जो सबसे ग़रीब और कमज़ोर आदमी, उसके जीवन में आपका एक छोटा सा कदम बहुत बड़ा परिणाम ला सकता है |
    मेरे प्यारे देशवासियो, जब गाँधी जी ने कहा था कि सफाई करोगे तो स्वतंत्रता मिलेगी | शायद उनको मालूम भी नहीं होगा ये कैसे होगा - पर ये हुआ, भारत को स्वतंत्रता मिली | इसी तरह आज हम को लग सकता है कि मेरे इस छोटे से कार्य से भी मेरे देश की आर्थिक उन्नति में, आर्थिक सशक्तिकरण में, ग़रीब को ग़रीबी के खिलाफ़ लड़ाई लड़ने की ताक़त देने में मेरा बहुत बड़ा योगदान हो सकता है और मैं समझता हूँ कि आज के युग की यही सच्ची देशभक्ति है, यही पूज्य बापू को कार्यांजलि है | जैसे विशेष अवसरों पर खादी और हैंडलूम के उत्पाद खरीदने के बारे में सोचें, इससे अनेक बुनकरों को मदद मिलेगी | कहते हैं कि लाल बहादुर शास्त्री जी खादी के पुराने या कटे-फटे वस्त्रों को भी इसलिए सहज कर रखते थे क्योंकि उसमें किसी का परिश्रम छुपा होता है | वे कहते थे ये सब खादी के कपड़े बड़ी मेहनत से बनाये हैं - इसका एक-एक सूत काम आना चाहिए | देश से लगाव और देशवासियों से प्रेम की ये भावना छोटे से कद-काठी वाले उस महा-मानव के रग-रग में रची-बसी थी | दो दिन बाद पूज्य बापू के साथ ही हम शास्त्री जी की भी जयंती मनायेंगे | शास्त्री जी का नाम आते ही हम भारतवासियों के मन में एक असीम श्रद्धा का भाव उमड़ पड़ता है | उनका सौम्य व्यक्तित्व हर देशवासी को सदा ही गर्व से भर देता है |   
     लाल बहादुर शास्त्री जी की ये विशेषता थी कि बाहर से वे अत्यधिक विनम्र दिखते थे परन्तु भीतर से चट्टान की तरह दृढ़ निश्चयी थे | ‘जय जवान जय किसान’ का उनका नारा उनके इसी विराट व्यक्तित्व की पहचान है | राष्ट्र के प्रति उनकी निस्वार्थ तपस्या का ही प्रतिल था कि लगभग डेढ़ वर्ष के संक्षिप्त कार्यकाल में, वे देश के जवानों और किसानों को सफलता के शिखर पर पहुँचने का मन्त्र दे गए |
    मेरे प्यारे देशवासियो, आज जब हम पूज्य बापू का स्मरण कर रहें हैं तो बहुत स्वाभाविक है कि स्वच्छता की बात के बिना रह नहीं सकते | 15 सितम्बर से ‘स्वच्छता ही सेवा’ एक अभियान प्रारंभ हुआ | करोड़ों लोग इस अभियान में जुड़े और मुझे भी सौभाग्य मिला कि मैं दिल्ली के अम्बेडकर स्कूल में बच्चों के साथ स्वच्छता श्रमदान करूँ | मैं उस स्कूल में गया जिनकी नींव खुद पूज्य बाबा साहब ने रखी थी | देशभर में हर तबके के लोग, इस 15 तारीख़ को इस श्रमदान से जुड़े | संस्थाओं ने भी इसमें बढ़-चढ़कर के अपना योगदान दिया | स्कूली बच्चों, कॉलेज के छात्रों, NCC, NSS, युवा संगठन, Media groups, Corporate जगत सभी ने, सभी ने बड़े पैमाने पर स्वच्छता श्रमदान किया | मैं इसके लिए इन सभी स्वच्छता प्रेमी देशवासियों को ह्रदय पूर्वक बहुत-बहुत बधाई देता हूँ | आइये सुनते हैं एक फ़ोन कॉल -
“नमस्कार | मेरा नाम शैतान सिंह जिला-बीकानेर, तहसील – पूगल, राजस्थान से बोल रहा हूँ | मैं blind व्यक्ति हूँ | दोनों आँखों से मुझे दिखाई नहीं देता मैं totally blind हूँ तो मैं ये कहना चाहता हूँ ‘मन की बात’ में जो स्वच्छ भारत का जो मोदी जी ने कदम उठाया था बहुत ही बढ़िया है | हम blind लोग शौच में जाने के लिए परेशान होते थे | अभी क्या है हर घर में शौचालय बन चुका है तो हमारा बहुत बढ़िया फायदा हुआ है उसमें | ये कदम बहुत ही बढ़िया उठाया था और आगे चलता रहे ये काम |” 

बहुत-बहुत धन्यवाद! आपने बहुत बड़ी बात कही हर किसी के जीवन में स्वच्छता का अपना महत्व है और ‘स्वच्छ भारत अभियान’ के तहत आपके घर में शौचालय बना और उससे अब आपको सुविधा हो रही है हम सब के लिए इससे ज्यादा ख़ुशी की बात और क्या हो सकती है | और शायद इस अभियान से जुड़े लोगों को भी अंदाज़ा नहीं होगा एक प्रज्ञाचक्षु होने के नाते आप देख नहीं सकते हैं, लेकिन शौचालय होने के पहले आप कितनी दिक्कतों से जीवन गुजारते थे और शौचालय होने के बाद आप के लिए कितना बड़ा वरदान बन गया, शायद आपने भी इस पहलू को जोड़ते हुए फ़ोन किया होता तो शायद स्वच्छता के इस अभियान से जुड़े लोगों के ध्यान में भी ऐसा संवेदनशील पहलू ध्यान आता | मैं आपके फ़ोन के लिए विशेष रूप से आपका धन्यवाद करता हूँ |
    मेरे प्यारे देशवासियो, ‘स्वच्छ भारत मिशन’ केवल देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में एक सफ़ल कहानी बन चुका है जिसके बारे में हर कोई बात कर रहा है | इस बार भारत इतिहास में दुनिया का सबसे बड़ा स्वच्छता सम्मेलन आयोजित कर रहा है | ‘महात्मा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छता सम्मेलन’ यानी ‘Mahatma Gandhi International Sanitation Convention’ दुनिया भर के Sanitation Ministers और इस क्षेत्र के विशेषज्ञ एक साथ आकर स्वच्छता से जुड़े अपने प्रयोग और अनुभव साझा कर रहे हैं | ‘Mahatma Gandhi International Sanitation Convention’ का समापन 2 अक्तूबर 2018 को बापू के 150वीं जयंती समारोह के शुभारम्भ के साथ होगा |
    मेरे प्यारे देशवासियो, संस्कृत की एक उक्ति है ‘न्यायमूलं स्वराज्यं स्यात्’ अर्थात् स्वराज के मूल में न्याय होता है जब न्याय की चर्चा होती है, तो मानव अधिकार का भाव उसमें पूरी तरह से समाहित रहता है | शोषित, पीड़ित और वंचित जनों की स्वतन्त्रता, शांति और उन्हें न्याय सुनिश्चित कराने के लिए - ये विशेष रूप से अनिवार्य है | डॉ० बाबा साहब अम्बेडकर द्वारा दिए गए संविधान में ग़रीबों के मूल अधिकारों की रक्षा के लिए कई प्रावधान किये गए हैं | उन्हीं के विजन (vision) से प्रेरित होकर 12 अक्तूबर 1993 को ‘राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग’ यानी ‘National Human Rights Commission’ (NHRC)  का गठन किया गया था | कुछ ही दिनों बाद NHRC के 25 वर्ष पूरे होने वाले हैं, NHRC ने सिर्फ़ मानव अधिकारों की रक्षा की बल्कि मानवीय गरिमा को भी बढ़ाने का काम किया है | हमारे प्राण-प्रिय नेता हमारे देश के पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमान् अटल बिहारी वाजपेयी जी ने स्पष्ट रूप से कहा था कि मानव अधिकार हमारे लिए कोई परायी अवधारणा नहीं है | हमारे राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग के प्रतीक चिन्ह में वैदिक काल का आदर्श सूत्र “सर्वे भवन्तु सुखिनः” अंकित है | NHRC ने मानव अधिकारों को लेकर व्यापक जागरूकता पैदा की है, साथ ही इसके दुरुपयोग को रोकने में भी सराहनीय भूमिका निभाई है | 25 साल की इस यात्रा में उसने देशवासियों में एक आशा, एक विश्वास का वातावरण पैदा किया है | एक स्वस्थ समाज के लिए, उत्तम लोकतान्त्रिक मूल्यों के लिए मैं समझता हूँ एक बहुत बड़ी आशास्पद घटना है | आज राष्ट्रीय स्तर पर मानव अधिकार के काम के साथ-साथ 26 राज्य मानव अधिकार आयोग भी गठन किया है | एक समाज के रूप में हमें मानव अधिकारों के महत्व को समझने और आचरण में लाने की आवश्यकता है - ये ही ‘सब का साथ - सब का विकास’ का आधार है |
    मेरे प्यारे देशवासियो, अक्तूबर महीना हो, जय प्रकाश नारायण जी की जन्म-जयन्ती हो, राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी की जन्म शताब्दी वर्ष का प्रारंभ होता हो - ये सभी महापुरुष हम सब को प्रेरणा देते रहे हैं उनको हम नमन करते हैं और 31 अक्तूबर सरदार साहब की जयंती है, मैं अगली ‘मन की बात’ में विस्तार से बात करूँगा लेकिन आज मैं जरुर इसलिए उल्लेख करना चाहता हूँ कि कुछ वर्षों से सरदार साहब की जन्म-जयंती पर 31 अक्तूबर को Run for Unity हिन्दुस्तान के हर छोटे-मोटे शहर में, कस्बों में, गाँवों में ‘एकता के लिए दौड़’ इसका आयोजन होता है | इस वर्ष भी हम प्रयत्नपूर्वक अपने गाँव में, कस्बे में, शहर में, महानगर में ‘Run for Unity  को organise करें | ‘एकता के लिए दौड़’ यही तो सरदार साहब का, उनको स्मरण करने का उत्तम मार्ग है क्योंकि उन्होंने जीवनभर देश की एकता के लिए काम किया | मैं आप सब से आग्रह करता हूँ कि 31 अक्तूबर को ‘Run for Unity के ज़रिये समाज के हर वर्ग को, देश की हर इकाई को एकता के सूत्र में बांधने के हमारे प्रयासों को हम बल दें और यही उनके लिए अच्छी श्रद्धांजलि होगी |
    मेरे प्यारे देशवासियो, नवरात्रि हो, दुर्गापूजा हो, विजयादशमी हो इस पवित्र पर्वों के लिए मैं आप सब को हृदयपूर्वक बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूँ | धन्यवाद | 
*****